विश्वनाथ स्तोत्र

गङ्गाधरं जटावन्तं पार्वतीसहितं शिवम्|
वाराणसीपुराधीशं विश्वनाथमहं श्रये|
ब्रह्मोपेन्द्रमहेन्द्रादि- सेविताङ्घ्रिं सुधीश्वरम्|
वाराणसीपुराधीशं विश्वनाथमहं श्रये|
भूतनाथं भुजङ्गेन्द्रभूषणं विषमेक्षणम्|
वाराणसीपुराधीशं विश्वनाथमहं श्रये|
पाशाङ्कुशधरं देवमभयं वरदं करैः|
वाराणसीपुराधीशं विश्वनाथमहं श्रये|
इन्दुशोभिललाटं च कामदेवमदान्तकम्|
वाराणसीपुराधीशं विश्वनाथमहं श्रये|
पञ्चाननं गजेशानतातं मृत्युजराहरम्|
वाराणसीपुराधीशं विश्वनाथमहं श्रये|
सगुणं निर्गुणं चैव तेजोरूपं सदाशिवम्|
वाराणसीपुराधीशं विश्वनाथमहं श्रये|
हिमवत्पुत्रिकाकान्तं स्वभक्तानां मनोगतम्|
वाराणसीपुराधीशं विश्वनाथमहं श्रये|
वाराणसीपुराधीश- स्तोत्रं यस्तु नरः पठेत्|
प्राप्नोति धनमैश्वर्यं बलमारोग्यमेव च।

 

Ramaswamy Sastry and Vighnesh Ghanapaathi

91.4K

Comments Hindi

qi4b8
वेदधारा का कार्य अत्यंत प्रशंसनीय है 🙏 -आकृति जैन

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 -User_sdh76o

वेदधारा ने मेरे जीवन में बहुत सकारात्मकता और शांति लाई है। सच में आभारी हूँ! 🙏🏻 -Pratik Shinde

आपकी वेबसाइट बहुत ही अद्भुत और जानकारीपूर्ण है।✨ -अनुष्का शर्मा

वेदधारा की धर्मार्थ गतिविधियों का हिस्सा बनकर खुश हूं 😇😇😇 -प्रगति जैन

Read more comments

Other stotras

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |