संतान परमेश्वर स्तोत्र

76.4K
1.2K

Comments Hindi

p4mps
वेदधारा समाज की बहुत बड़ी सेवा कर रही है 🌈 -वन्दना शर्मा

वेदधारा हिंदू धर्म के भविष्य के लिए जो काम कर रहे हैं वह प्रेरणादायक है 🙏🙏 -साहिल पाठक

आपकी मेहनत से सनातन धर्म आगे बढ़ रहा है -प्रसून चौरसिया

वेदधारा की धर्मार्थ गतिविधियों में शामिल होने पर सम्मानित महसूस कर रहा हूं - समीर

आप लोग वैदिक गुरुकुलों का समर्थन करके हिंदू धर्म के पुनरुद्धार के लिए महान कार्य कर रहे हैं -साहिल वर्मा

Read more comments

पार्वतीसहितं स्कन्दनन्दिविघ्नेशसंयुतम्।
चिन्तयामि हृदाकाशे भजतां पुत्रदं शिवम्।
भगवन् रुद्र सर्वेश सर्वभूतदयापर।
अनाथनाथ सर्वज्ञ पुत्रं देहि मम प्रभो।
रुद्र शम्भो विरूपाक्ष नीलकण्ठ महेश्वर।
पूर्वजन्मकृतं पापं व्यपोह्य तनयं दिश।
चन्द्रशेखर सर्वज्ञ कालकूटविषाशन।
मम सञ्चितपापस्य लयं कृत्वा सुतं दिश।
त्रिपुरारे क्रतुध्वंसिन् कामाराते वृषध्वज।
कृपया मयि देवेश सुपुत्रान् देहि मे बहून्।
अन्धकारे वृषारूढ चन्द्रवह्न्यर्कलोचन।
भक्ते मयि कृपां कृत्वा सन्तानं देहि मे प्रभो।
कैलासशिखरावास पार्वतीस्कन्दसंयुत।
मम पुत्रं च सत्कीर्तिमैश्वर्यं चाऽऽशु देहि भोः।

 

Ramaswamy Sastry and Vighnesh Ghanapaathi

Other stotras

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |