वेंकटेश अष्टक स्तुति

यो लोकरक्षार्थमिहावतीर्य वैकुण्ठलोकात् सुरवर्यवर्यः।
शेषाचले तिष्ठति योऽनवद्ये तं वेङ्कटेशं शरणं प्रपद्ये।
पद्मावतीमानसराजहंसः कृपाकटाक्षानुगृहीतहंसः।
हंसात्मनादिष्ट- निजस्वभावस्तं वेङ्कटेशं शरणं प्रपद्ये।
महाविभूतिः स्वयमेव यस्य पदारविन्दं भजते चिरस्य।
तथापि योऽर्थं भुवि सञ्चिनोति तं वेङ्कटेशं शरणं प्रपद्ये।
य आश्विने मासि महोत्सवार्थं शेषाद्रिमारुह्य मुदातितुङ्गम्।
यत्पादमीक्षन्ति तरन्ति ते वै तं वेङ्कटेशं शरणं प्रपद्ये।
प्रसीद लक्ष्मीरमण प्रसीद प्रसीद शेषाद्रिशय प्रसीद।
दारिद्र्यदुःखादिभयं हरस्व तं वेङ्कटेशं शरणं प्रपद्ये।
यदि प्रमादेन कृतोऽपराधः श्रीवेङ्कटेशाश्रितलोकबाधः।
स मामव त्वं प्रणमामि भूयस्तं वेङ्कटेशं शरणं प्रपद्ये।
न मत्समो यद्यपि पातकीह न त्वत्समः कारुणिकोऽपि चेह।
विज्ञापितं मे श‍ृणु शेषशायिन् तं वेङ्कटेशं शरणं प्रपद्ये।
वेङ्कटेशाष्टकमिदं त्रिकालं यः पठेन्नरः।
स सर्वपापनिर्मुक्तो वेङ्कटेशप्रियो भवेत्।

 

Ramaswamy Sastry and Vighnesh Ghanapaathi

65.5K
1.2K

Comments Hindi

cibb4
आप लोग वैदिक गुरुकुलों का समर्थन करके हिंदू धर्म के पुनरुद्धार के लिए महान कार्य कर रहे हैं -साहिल वर्मा

वेदधारा की वजह से मेरे जीवन में भारी परिवर्तन और सकारात्मकता आई है। दिल से धन्यवाद! 🙏🏻 -Tanay Bhattacharya

वेदधारा समाज के लिए एक महान सेवा है -शिवांग दत्ता

वेदधारा को हिंदू धर्म के भविष्य के प्रयासों में देखकर बहुत खुशी हुई -सुभाष यशपाल

सनातन धर्म के भविष्य के प्रति आपकी प्रतिबद्धता अद्भुत है 👍👍 -प्रियांशु

Read more comments

Other stotras

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |