दक्षिणामूर्ति अष्टोत्तर शत नामावलि

ॐ विद्यारूपिणे नमः।
ॐ महायोगिने नमः।
ॐ शुद्धज्ञानाय नमः।
ॐ पिनाकधृते नमः।
ॐ रत्नालङ्कारसर्वाङ्गाय नमः।
ॐ रत्नमालिने नमः।
ॐ जटाधराय नमः।
ॐ गङ्गाधराय नमः।
ॐ अचलवासिने नमः।
ॐ महाज्ञानिने नमः।
ॐ समाधिकृते नमः।
ॐ अप्रमेयाय नमः।
ॐ योगनिधये नमः।
ॐ तारकाय नमः।
ॐ भक्तवत्सलाय नमः।
ॐ ब्रह्मरूपिणे नमः।
ॐ जगद्व्यापिने नमः।
ॐ विष्णुमूर्तये नमः।
ॐ पुरातनाय नमः।
ॐ उक्षवाहाय नमः।
ॐ चर्मधारिणे नमः।
ॐ पीताम्बरविभूषणाय नमः।
ॐ मोक्षनिधये नमः।
ॐ मोक्षदायिने नमः।
ॐ ज्ञानवारिधये नमः।
ॐ विद्याधारिणे नमः।
ॐ शुक्लतनवे नमः।
ॐ विद्यादायिने नमः।
ॐ गणाधिपाय नमः।
ॐ पापसंहर्त्रे नमः।
ॐ शशिमौलये नमः।
ॐ महास्वनाय नमः।
ॐ सामप्रियाय नमः।
ॐ अव्ययाय नमः।
ॐ साधवे नमः।
ॐ सर्ववेदैरलङ्कृताय नमः।
ॐ हस्ते वह्मिधारकाय नमः।
ॐ श्रीमते नमः।
ॐ मृगधारिणे नमः।
ॐ शङ्कराय नमः।
ॐ यज्ञनाथाय नमः।
ॐ क्रतुध्वंसिने नमः।
ॐ यज्ञभोक्त्रे नमः।
ॐ यमान्तकाय नमः।
ॐ भक्तनुग्रहमूर्तये नमः।
ॐ भक्तसेव्याय नमः।
ॐ वृषध्वजाय नमः।
ॐ भस्मोद्धूलितविग्रहाय नमः।
ॐ अक्षमालाधराय नमः।
ॐ हराय नमः।
ॐ त्रयीमूर्तये नमः।
ॐ परब्रह्मणे नमः।
ॐ नागाराजालङ्कृताय नमः।
ॐ शान्तरूपाय नमः।
ॐ महाज्ञानिने नमः।
ॐ सर्वलोकविभूषकाय नमः।
ॐ अर्धनारीश्वराय नमः।
ॐ देवाय नमः।
ॐ मुनिसेव्याय नमः।
ॐ सुरोत्तमाय नमः।
ॐ व्याख्यानकारकाय नमः।
ॐ भगवते नमः।
ॐ अग्निचन्द्रार्कलोचनाय नमः।
ॐ जगत्स्रष्ट्रे नमः।
ॐ जगद्गोप्त्रे नमः।
ॐ जगद्ध्वंसिने नमः।
ॐ त्रिलोचनाय नमः।
ॐ जगद्गुरवे नमः।
ॐ महादेवाय नमः।
ॐ महानन्दपरायणाय नमः।
ॐ जटाधारकाय नमः।
ॐ महायोगवते नमः।
ॐ ज्ञानमालालङ्कृताय नमः।
ॐ व्योमगङ्गाजलकृतस्नानाय नमः।
ॐ शुद्धसंयम्यर्चिताय नमः।
ॐ तत्त्वमूर्तये नमः।
ॐ महासारस्वतप्रदाय नमः।
ॐ व्योममूर्तये नमः।
ॐ भक्तानामिष्टकामफलप्रदाय नमः।
ॐ वरमूर्तये नमः।
ॐ चित्स्वरूपिणे नमः।
ॐ तेजोमूर्तये नमः।
ॐ अनामयाय नमः।
ॐ वेदवेदाङ्गदर्शनतत्त्वज्ञाय नमः।
ॐ चतुःषष्टिकलानिधये नमः।
ॐ भवरोगभयहर्त्रे नमः।
ॐ भक्तानामभयप्रदाय नमः।
ॐ नीलग्रीवाय नमः।
ॐ ललाटाक्षाय नमः।
ॐ गजचर्मविराजिताय नमः।
ॐ ज्ञानदाय नमः।
ॐ कामदाय नमः।
ॐ तपस्विने नमः।
ॐ विष्णुवल्लभाय नमः।
ॐ ब्रह्मचारिणे नमः।
ॐ सन्यासिने नमः।
ॐ गृहस्थाय नमः।
ॐ आश्रमकारकाय नमः।
ॐ श्रीमतां श्रेष्ठाय नमः।
ॐ सत्यरूपाय नमः।
ॐ दयानिधये नमः।
ॐ योगपट्टाभिरामाय नमः।
ॐ वीणाधारिणे नमः।
ॐ सुचेतनाय नमः।
ॐ मतिप्रज्ञासुधारकाय नमः।
ॐ मुद्रापुस्तकहस्ताय नमः।
ॐ वेतालादिपिशाचौघराक्षसौघविनाशकाय नमः।
ॐ सुरार्चिताय नमः।

 

Ramaswamy Sastry and Vighnesh Ghanapaathi

83.3K

Comments Hindi

biy7f
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 -User_sdh76o

आप जो अच्छा काम कर रहे हैं उसे जानकर बहुत खुशी हुई -राजेश कुमार अग्रवाल

बहुत बढिया चेनल है आपका -Keshav Shaw

वेदधारा की वजह से हमारी संस्कृति फल-फूल रही है 🌸 -हंसिका

वेदधारा की धर्मार्थ गतिविधियों का हिस्सा बनकर खुश हूं 😇😇😇 -प्रगति जैन

Read more comments

Other stotras

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |