मैत्रीं भजत

 

 

मैत्रीं भजत अखिलहृज्जेत्रीम्।
आत्मवदेव परानपि पश्यत।
युद्धं त्यजत, स्पर्धां त्यजत।
त्यजत परेष्वक्रममाक्रमणम्।

जननी पृथिवी कामदुघाऽऽस्ते।
जनको देवः सकलदयालुः।
दाम्यत दत्त दयध्वं जनताः ।
श्रेयो भूयात् सकलजनानाम् ।

Ramaswamy Sastry and Vighnesh Ghanapaathi

39.8K
1.1K

Comments Hindi

mfvh8
आप जो अच्छा काम कर रहे हैं, उसे देखकर बहुत खुशी हुई 🙏🙏 -उत्सव दास

सनातन धर्म के भविष्य के प्रति आपकी प्रतिबद्धता अद्भुत है 👍👍 -प्रियांशु

यह वेबसाइट बहुत ही रोचक और जानकारी से भरपूर है।🙏🙏 -समीर यादव

आपको नमस्कार 🙏 -राजेंद्र मोदी

हिंदू धर्म के पुनरुद्धार और वैदिक गुरुकुलों के समर्थन के लिए आपका कार्य सराहनीय है - राजेश गोयल

Read more comments

Other stotras

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |