दंडपाणि स्तोत्र

चण्डपापहर- पादसेवनं गण्डशोभिवर- कुण्डलद्वयम्।
दण्डिताखिल- सुरारिमण्डलं दण्डपाणिमनिशं विभावये।
कालकालतनुजं कृपालयं बालचन्द्रविलसज्-जटाधरम्।
चेलधूतशिशु- वासरेश्वरं दण्डपाणिमनिशं विभावये।
तारकेश- सदृशाननोज्ज्वलं तारकारिमखिलार्थदं जवात्।
तारकं निरवधेर्भवाम्बुधेर्दण्ड- पाणिमनिशं विभावये।
तापहारिनिज- पादसंस्तुतिं कोपकाममुख- वैरिवारकम्।
प्रापकं निजपदस्य सत्वरं दण्डपाणिमनिशं विभावये।
कामनीयकवि- निर्जिताङ्गजं रामलक्ष्मण- कराम्बुजार्चितम्।
कोमलाङ्गमति- सुन्दराकृतिं दण्डपाणिमनिशं विभावये।

 

Ramaswamy Sastry and Vighnesh Ghanapaathi

40.6K

Comments Hindi

p8dim
आपकी वेबसाइट जानकारी से भरी हुई और अद्वितीय है। 👍👍 -आर्यन शर्मा

वेदधारा के माध्यम से हिंदू धर्म के भविष्य को संरक्षित करने के लिए आपका समर्पण वास्तव में सराहनीय है -अभिषेक सोलंकी

आपकी सेवा से सनातन धर्म का भविष्य उज्ज्वल है 🌟 -mayank pandey

आपकी वेबसाइट बहुत ही अद्भुत और जानकारीपूर्ण है।✨ -अनुष्का शर्मा

आपकी वेबसाइट ज्ञान और जानकारी का भंडार है।📒📒 -अभिनव जोशी

Read more comments

Other stotras

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |