कामाक्षी स्तुति

माये महामति जये भुवि मङ्गलाङ्गे
वीरे बिलेशयगले त्रिपुरे सुभद्रे।
ऐश्वर्यदानविभवे सुमनोरमाज्ञे
कामाक्षिमातरनिशं मम देहि सौख्यम्।
शैलात्मजे कमलनाभसहोदरि त्वं
त्रैलोक्यमोहकरणे स्मरकोटिरम्ये।
कामप्रदे परमशङ्करि चित्स्वरूपे
कामाक्षिमातरनिशं मम देहि सौख्यम्।
सर्वार्थसाधक- धियामधिनेत्रि रामे
भक्तार्तिनाशनपरे-ऽरुणरक्तगात्रे।
संशुद्धकुङ्कुमकणैरपि पूजिताङ्गे
कामाक्षिमातरनिशं मम देहि सौख्यम्।
बाणेक्षुदण्ड- शुकभारितशुभ्रहस्ते
देवि प्रमोदसमभाविनि नित्ययोने।
पूर्णाम्बुवत्कलश- भारनतस्तनाग्रे
कामाक्षिमातरनिशं मम देहि सौख्यम्।
चक्रेश्वरि प्रमथनाथसुरे मनोज्ञे
नित्यक्रियागतिरते जनमोक्षदात्रि।
सर्वानुतापहरणे मुनिहर्षिणि त्वं
कामाक्षिमातरनिशं मम देहि सौख्यम्।
एकाम्रनाथ- सहधर्म्मिणि हे विशाले
संशोभिहेम- विलसच्छुभचूडमौले।
आराधितादिमुनि- शङ्करदिव्यदेहे
कामाक्षिमातरनिशं मम देहि सौख्यम्।

 

Ramaswamy Sastry and Vighnesh Ghanapaathi

56.1K

Comments Hindi

kf6ti
यह वेबसाइट बहुत ही उपयोगी और ज्ञानवर्धक है।🌹 -साक्षी कश्यप

वेदधारा के प्रयासों के लिए दिल से धन्यवाद 💖 -Siddharth Bodke

आप जो अच्छा काम कर रहे हैं, उसे देखकर बहुत खुशी हुई 🙏🙏 -उत्सव दास

आपकी वेबसाइट जानकारी से भरी हुई और अद्वितीय है। 👍👍 -आर्यन शर्मा

वेदधारा के धर्मार्थ कार्यों में समर्थन देने पर बहुत गर्व है 🙏🙏🙏 -रघुवीर यादव

Read more comments

Other stotras

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |