पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र

Purva Bhadra Nakshatra symbol sword

  

कुंब राशि के २० अंश से मीन राशि के ३ अंश २० कला तक जो नक्षत्र व्याप्त है, उसे पूर्वा भाद्रपद कहते हैं।

वैदिक खगोल विज्ञान में यह पच्चीसवां नक्षत्र है। 

आधुनिक खगोल विज्ञान के अनुसार पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र का नाम है α Markab and β Pegasi।

व्यक्तित्व और विशेषताएं  

पूर्वा भाद्रपद कुंभ एवं मीन राशि दोनों के लिए

  • बुद्धिमान
  • न्याय परायण
  • ईमानदार
  • हिम्मतवाला
  • अध्यात्म में रुचि
  • लंबी आयु
  • स्वस्थ
  • सफल कार्यक्षेत्र
  • पारम्परिक
  • खुला दिल
  • स्नेही
  • अपना और दूसरों का भी फायदा सोचने वाला
  • स्वतंत्र निर्णय
  • कड़ी मेहनती
  • दृढ निर्णय
  • तनावपूर्ण मन
  • दूरदर्शी

सिर्फ पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र कुंभ राशि के लिए

  • विश्वसनीय
  • निस्वार्थ
  • व्यवस्थित
  • आशावादी
  • आलस्य

सिर्फ पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र मीन राशि के लिए

  • उदार
  • दरियादिल
  • विनम्र
  • कला और संगीत में रुचि
  • साहित्य में रुचि
  • कानून का पालन करनेवाला

प्रतिकूल नक्षत्र

  • रेवती
  • भरणी
  • रोहिणी
  • पूर्वा भाद्रपद कुंभ राशि के लिए - उत्तरा फाल्गुनी कन्या राशि, हस्त, चित्रा कन्या राशि
  • पूर्वा भाद्रपद मीन राशि के लिए - चित्रा तुला राशि, स्वाती, विशाखा तुला राशि

पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र में जन्म लेने वालों को इन दिनों महत्वपूर्ण कार्य नहीं करना चाहिए और इन नक्षत्रों में जन्मे लोगों के साथ भागीदारी नहीं करना चाहिए। 

स्वास्थ्य

पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र में जन्म लेने वालों को इन स्वास्थ्य से संबन्धित समस्याओं की संभावना है- 

पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र कुंभ राशि

  • अल्परक्तदाब
  • टखनों में सूजन
  • हृदय रोग
  • शोफ

पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र मीन राशि

  • पैरों में सूजन
  • गठिया
  • जिगर के रोग
  • आंत्र रोग
  • हर्निया
  • पीलिया
  • दस्त

व्यवसाय

पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र में जन्म लेने वालों के लिए कुछ अनुकूल व्यवसाय- 

पूर्वा भाद्रपद कुंभ राशि

  • ज्योतिष
  • गणित
  • सरकारी नौकरी
  • शेयर बाज़ार
  • शोध
  • अंतरराष्ट्रीय व्यापार
  • वित्त संबंधित पेशा
  • जांच-पड़ताल
  • एविएशन
  • बीमा
  • मंदिर से संबंधित
  • दवाएँ

पूर्वा भाद्रपद मीन राशि

  • अध्यापन
  • राजनीति
  • सलाहकार
  • कानूनी पेशा
  • अपराध शास्त्र
  • वित्त संबंधित पेशा
  • जेल अधिकारी
  • स्वास्थ्य उद्योग
  • बचाव और पुनर्वास
  • आयोजन
  • यात्रा व पर्यटन
  • डॉक्टर
  • बैंकिंग
  • विदेशी विनिमय

क्या पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र वाला व्यक्ति हीरा धारण कर सकता है?

पूर्वा भाद्रपद कुंभ राशि - हां

पूर्वा भाद्रपद मीन राशि - नहीं

भाग्यशाली रत्न

पुखराज

अनुकूल रंग

पूर्वा भाद्रपद कुंभ राशि - काला, गहरा नीला

पूर्वा भाद्रपद मीन राशि - पीला

पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र में जन्मे बच्चे का नाम

पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र के लिए अवकहडादि पद्धति के अनुसार नाम का प्रारंभिक अक्षर हैं-

  • पहला चरण - से
  • दूसरा चरण - सो
  • तीसरा चरण - दा
  • चौथा चरण - दी

नामकरण संस्कार के समय रखे जाने वाले पारंपरिक नक्षत्र-नाम के लिए इन अक्षरों का उपयोग किया जा सकता है।

शास्त्र के अनुसार नक्षत्र-नाम के अलावा एक व्यावहारिक नाम भी होना चाहिए जो रिकॉर्ड में आधिकारिक नाम रहेगा। उपरोक्त प्रणाली के अनुसार रखे जाने वाला नक्षत्र-नाम केवल परिवार के करीबी सदस्यों को ही पता होना चाहिए।

पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र में जन्म लेने वालों के व्यावहारिक नाम इन अक्षरों से प्रारंभ न करें -

  • पूर्वा भाद्रपद कुंभ राशि - ए, ऐ, ह, अं, क्ष, त, थ, द, ध, न।
  • पूर्वा भाद्रपद मीन राशि - ओ, औ, क, ख, ग, घ, प, फ, ब, भ, म।

वैवाहिक जीवन

पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र में जन्मी महिलाओं का शीघ्र विवाह और अच्छा दाम्पत्य जीवन हो सकता है। 

अनुशासन और परंपराएं इस नक्षत्र में जन्म लेने वालों के पारिवारिक जीवन की मुख्य विशेषताएं हैं।  

उपाय

पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र में जन्म लेने वालों के लिए चन्द्र, बुध और शुक्र की दशाएं आमतौर पर प्रतिकूल होती हैं। वे 

निम्नलिखित उपाय कर सकते हैं।

मंत्र

ॐ अजैकपदे नमः

पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र

  • स्वामी - अजैकपाद
  • अधीश ग्रह - बृहस्पति
  • पशु - मनुष्य
  • वृक्ष - आम का पेड
  • पक्षी - मोर
  • भूत - आकाश
  • गण - मनुष्य
  • योनि - शेर (पुरुष)
  • नाडी -  आद्य
  • प्रतीक - तलवार

 

74.5K

Comments

p4nzf
Very nice information ✨ -Prashant Thorat

शास्त्रों पर स्पष्ट और अधिकारिक शिक्षाओं के लिए गुरुजी को हार्दिक धन्यवाद -दिवाकर

वेदधारा समाज की बहुत बड़ी सेवा कर रही है 🌈 -वन्दना शर्मा

गुरुजी का शास्त्रों की समझ गहरी और अधिकारिक है 🙏 -चितविलास

बहुत बढिया चेनल है आपका -Keshav Shaw

Read more comments

रामचरितमानस कितने दिन पढ़ना है?

रामचरितमानस पढ़ने के दो विधान हैं - १. नवाह्न पाठ - जिसमें संपूर्ण मानस का पाठ नौ दिनों में किया जाता है। २. मासिक पाठ - जिसमें पाठ एक मास की अवधि में संपन्न किया जाता है।

दक्षिण-पूर्व दिशा में शौचालय

दक्षिण-पूर्व दिशा में केवल स्नानघर बना सकते हैं। यहां कमोड न लगाएं।

Quiz

सांप के ज़हर के तोड़ के रूप में गौ मूत्र और गोबर की राख के प्रयोग की शुरूआत सबसे पहले राजस्थान के किस लोक देवता ने किया ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |