श्रवण नक्षत्र

Shravana Nakshatra symbol ear

 

मकर राशि के १० अंश से २३ अंश २० कला तक जो नक्षत्र व्याप्त है उसे श्रवण कहते हैं। 

वैदिक खगोल विज्ञान में यह बाईसवां नक्षत्र है। 

आधुनिक खगोल विज्ञान के अनुसार श्रवण नक्षत्र को α Altair, β and γ Aquilae कहते हैं।

व्यक्तित्व और विशेषताएं

श्रवण नक्षत्र में जन्म लेने वालों की विशेषताएं -

  • कुलीन
  • उदार
  • कड़ी मेहनती
  • उपकारी
  • मीठी बात
  • बहुत सारे दोस्त
  • धर्म में रुचि
  • महत्त्वाकांक्षी
  • घर से दूर भाग्य
  • वित्तीय मामलों में नियंत्रण
  • चुनौतियों का सामना करने की क्षमता
  • व्यवस्थित
  • न्याय परायण
  • परिवार - उन्मुख
  • स्नेही
  • आदर्शवादी राजनीतिक विचार
  • जागरूक
  • वफादार
  • जोखिम लेना पसंद नहीं
  • आशावादी
  • बहादुर
  • श्रीमान

प्रतिकूल नक्षत्र

  • शतभिषा
  • उत्तरा भाद्रप
  • अश्विनी
  • मघा
  • पूर्वा फाल्गुनी
  • उत्तरा फाल्गुनी सिंह राशि

श्रवण नक्षत्र में जन्म लेने वालों को इन दिनों महत्वपूर्ण कार्य नहीं करना चाहिए और इन नक्षत्रों में जन्मे लोगों के साथ भागीदारी नहीं करना चाहिए। 

स्वास्थ्य

श्रवण नक्षत्र में जन्म लेने वालों को इन स्वास्थ्य से संबन्धित समस्याओं की संभावना है-

  • छाजन
  • त्वचा रोग
  • फोड़े
  • संधिशोथ
  • तपेदिक
  • दस्त
  • अपच
  • फाइलेरिया
  • शोफ
  • कुष्ठ

व्यवसाय

श्रवण नक्षत्र में जन्म लेने वालों के लिए कुछ अनुकूल व्यवसाय-

  • प्रशीतन
  • कोल्ड स्टोरेज
  • आइसक्रीम
  • सुखाने की मशीन
  • खनन
  • पेट्रोलियम उद्योग
  • पानी से संबंधित
  • फिशिंग
  • खेती
  • मोती
  • चमडा उद्योग
  • नर्स
  • जादू

क्या श्रवण नक्षत्र वाला व्यक्ति हीरा धारण कर सकता है?

हां।

भाग्यशाली रत्न

मोती

अनुकूल रंग

सफेद, काला 

श्रवण नक्षत्र में जन्मे बच्चे का नाम

श्रवण नक्षत्र के लिए अवकहडादि पद्धति के अनुसार नाम का प्रारंभिक अक्षर हैं-

  • पहला चरण - खी
  • दूसरा चरण - खू
  • तीसरा चरण - खे
  • चौथा चरण - खो

नामकरण संस्कार के समय रखे जाने वाले पारंपरिक नक्षत्र-नाम के लिए इन अक्षरों का उपयोग किया जा सकता है।

शास्त्र के अनुसार नक्षत्र-नाम के अलावा एक व्यावहारिक नाम भी होना चाहिए जो रिकॉर्ड में आधिकारिक नाम रहेगा। उपरोक्त प्रणाली के अनुसार रखे जाने वाला नक्षत्र-नाम केवल परिवार के करीबी सदस्यों को ही पता होना चाहिए।

श्रवण नक्षत्र में जन्म लेने वालों के व्यावहारिक नाम इन अक्षरों से प्रारंभ न करें - स, ओ, औ, ट, ठ, ड, ढ।

वैवाहिक जीवन

सामान्य तौर पर, विवाह आरामदायक होगा। 

परिवार में तरक्की होगी। 

श्रवण नक्षत्र में जन्मी स्त्रियों को अच्छे पति प्राप्त होंगे और वे भाग्यशाली होती हैं। 

उपाय

श्रवण नक्षत्र में जन्म लेने वालों के लिए शनि, राहु और केतु की दशाएं आमतौर पर प्रतिकूल होती हैं। 

वे निम्नलिखित उपाय कर सकते हैं।

मंत्र

ॐ विष्णवे नमः

श्रवण नक्षत्र

  • स्वामी - विष्णु
  • अधीश ग्रह - चन्द्र
  • पशु - बंदर
  • वृक्ष - मदार
  • पक्षी - मुर्गा
  • भूत - वायु
  • गण - देव
  • योनि - बंदर (पुरुष)
  • नाडी - अन्त्य
  • प्रतीक - कान

 

42.3K
1.2K

Comments

2barG
बहुत बढिया चेनल है आपका -Keshav Shaw

आपकी वेबसाइट से बहुत कुछ जानने को मिलता है।🕉️🕉️ -नंदिता चौधरी

आपकी वेबसाइट से बहुत कुछ सीखने को मिलता है।🙏 -आर्या सिंह

गुरुजी का शास्त्रों की समझ गहरी और अधिकारिक है 🙏 -चितविलास

वेदधारा हिंदू धर्म के भविष्य के लिए जो काम कर रहे हैं वह प्रेरणादायक है 🙏🙏 -साहिल पाठक

Read more comments

Knowledge Bank

यज्ञोपवीत को पेशाब के समय कान पर​ क्यों लपेटा जाता है?

यज्ञोपवीत को पेशाब के समय कान पर​ इसलिए लपेटा जाता है क्योंकि कान को शरीर का सूक्ष्म रूप माना जाता है, जिसमें विभिन्न अंगों और शारीरिक कार्यों से जुड़े बिंदु होते हैं। इस सिद्धांत को ऑरिकुलोथेरेपी कहते हैं, जो वैकल्पिक चिकित्सा का एक रूप है। इस प्रथा के अनुसार, कान के विशेष बिंदु शरीर के विभिन्न हिस्सों, जैसे मूत्राशय से जुड़े होते हैं। ऑरिकुलोथेरेपी में, कान पर एक विशिष्ट बिंदु होता है जिसे मूत्राशय से जुड़ा हुआ माना जाता है और इस बिंदु को उत्तेजित करने से मूत्राशय की कार्यक्षमता में मदद मिलती है। एक्यूप्रेशर की तरह, रिफ्लेक्सोलॉजी में भी कान को उन क्षेत्रों में शामिल किया गया है जहां दबाव बिंदु शरीर के अन्य भागों को प्रभावित कर सकते हैं। मूत्राशय का रिफ्लेक्स बिंदु आमतौर पर कान के निचले हिस्से में स्थित होता है।

शकुंतला नाम का क्या मतलब है?

संस्कृत में शकुंत का अर्थ है पक्षी। जन्म होते ही शकुंतला को उसकी मां मेनका नदी के तट पर छोडकर चली गयी। उस समय पक्षियों ने उसकी रक्षा की थी। कण्व महर्षि को शकुंतला पक्षियों के बीच में से मिली थी। इसलिए उन्होंने उसका नाम शकुंतला रखा।

Quiz

ज्योतिष में ग्रहों का राजा कौन है ?
Hindi Topics

Hindi Topics

ज्योतिष

Click on any topic to open

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |