मैं आरती तेरी गाऊं

 

Mai AArti Teri Gau

 

मैं आरती तेरी गाऊं ओ केशव कुंज बिहारी
मैं आरती तेरी गाऊं ओ केशव कुंज बिहारी
मैं नित नित शीश नवाऊ ओ मोहन कृष्ण मुरारी
मैं नित नित शीश नवाऊ ओ मोहन कृष्ण मुरारी

है तेरी छवि अनोखी ऐसी ना दूजी देखी
है तेरी छवि अनोखी ऐसी ना दूजी देखी
तुझसा ना सुन्दर कोई ओ मोर मुकुट धारी
तुझसा ना सुन्दर कोई ओ मोर मुकुट धारी
मैं आरती तेरी गाऊं ओ केशव कुंज बिहारी
मैं आरती तेरी गाऊं ओ केशव कुंज बिहारी

माखन की मटकी फोड़ी गोकुल संग अंखिया जोड़ी
माखन की मटकी फोड़ी गोकुल संग अंखिया जोड़ी
ओ नटखट रसिया तुझपे जाऊं मैं तो बलिहारी
ओ नटखट रसिया तुझपे जाऊं मैं तो बलिहारी
मैं आरती तेरी गाऊं ओ केशव कुंज बिहारी
मैं आरती तेरी गाऊं ओ केशव कुंज बिहारी

अँगुली पर गिरी उठाया‌ सारे गोकुल बचाया
अँगुली पर गिरी उठाया सारे गोकुल बचाया
जय जय हो तेरी जय हो गिरिराज धरण गिरधारी
जय जय हो तेरी जय हो गिरिराज धरण गिरधारी
मैं आरती तेरी गाऊं ओ केशव कुंज बिहारी
मैं आरती तेरी गाऊं ओ केशव कुंज बिहारी

जब जब तू बँशी बजाये सब अपनी सुध खो जाए
जब जब तू बँशी बजाये सब अपनी सुध खो जाए
तू सबका सब तेरे प्रेमी ओ कृष्ण प्रेम अवतारी
तू सबका सब तेरे प्रेमी ओ कृष्ण प्रेम अवतारी
मैं आरती तेरी गाऊं ओ केशव कुंज बिहारी
मैं आरती तेरी गाऊं ओ केशव कुंज बिहारी

जो आये शरण तिहारी विपदा मिट जाए सारी
जो आये शरण तिहारी विपदा मिट जाए सारी
हम सब पर कृपा रखना ओ जगत के पालनहारी
हम सब पर कृपा रखना ओ जगत के पालनहारी
मैं आरती तेरी गाऊं ओ केशव कुंज बिहारी
मैं आरती तेरी गाऊं ओ केशव कुंज बिहारी

राधा संग प्रीत लगाई और प्रीत की रीत चलाई
राधा संग प्रीत लगाई‌ और प्रीत की रीत चलाई
तुम राधा रानी के प्रेमी जय राधे रास बिहारी
तुम राधा रानी के प्रेमी जय राधे रास बिहारी
मैं आरती तेरी गाऊं ओ केशव कुंज बिहारी
मैं आरती तेरी गाऊं ओ केशव कुंज बिहारी

मैं आरती तेरी गाऊं ओ केशव कुंज बिहारी
मैं आरती तेरी गाऊं ओ केशव कुंज बिहारी
मैं नित नित शीश नवाऊ ओ मोहन कृष्ण मुरारी
मैं नित नित शीश नवाऊ ओ मोहन कृष्ण मुरारी

 

37.6K

Comments

x3uis
यह वेबसाइट बहुत ही रोचक और जानकारी से भरपूर है।🙏🙏 -समीर यादव

प्रणाम गुरूजी 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 -प्रभास

यह वेबसाइट अत्यंत शिक्षाप्रद है।📓 -नील कश्यप

वेदधारा के धर्मार्थ कार्यों में समर्थन देने पर बहुत गर्व है 🙏🙏🙏 -रघुवीर यादव

वेदधारा की सेवा समाज के लिए अद्वितीय है 🙏 -योगेश प्रजापति

Read more comments

अनाहत चक्र को कैसे जागृत करें?

महायोगी गोरखनाथ जी के अनुसार अनाहत चक्र और उसमें स्थित बाणलिंग पर प्रतिदिन ४८०० सांस लेने के समय तक (५ घंटे २० मिनट) ध्यान करने से यह जागृत हो जाता है।

नैमिषारण्य की परिक्रमा कितनी लंबी होती है ?

नैमिषारण्य की ८४ कोसीय परिक्रमा है । यह फाल्गुन मास की शुक्ल पक्ष प्रतिपदा को शुरू होकर अगले पन्द्रह दिनों तक चलती है ।

Quiz

पुत्र प्राप्ति के लिए व्यासजी ने किस पर्वत पर तपस्या की थी ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |