नमामि गंगे

भगवति तव तीरे नीरमात्राशनोऽहं
विगतविषयतृष्णः कृष्णमाराधयामि ।
सकलकलुषभङ्गे स्वर्गसोपानसङ्गे
तरलतरतरङ्गे देवि गङ्गे ।
प्रसीद प्रसीद ।
नमामि गङ्गे नमामि गङ्गे ।

स्वर्ग की परछाइयां दिखती तेरे आंचल तले
मां तेरी हर बूंद में बहती हुई ममता मिले
तू हथेली तन पे फेरे मन को भी निर्मल करे
जिस तरह को तू छुए जीवन से उस को सीच दे
लेके आया हर कोई बस पाप तुझ को सौंपने
फिर भी तू बहती चले सब को लगाकर के गले
स्वाद अमृत का तुझे ही चूमकर जाना
प्रसीद प्रसीद ।
नमामि गङ्गे नमामि गङ्गे ।

पानी जो तेरा खारा तेरे तेरे आंसू की धारा
कैसे मैं देखूं संतान हूं
माना है तुझे मां ये धरम है मेरा
मैं तुझे तेरा वो सम्मान दूं
नमामि गङ्गे नमामि गङ्गे ।

 

Namami Gange Anthem

 

93.1K
1.1K

Comments

58sa5
Trichur Brothers are one of the best talent in the country and the Hindi lyrics of the song just melts our hearts. -Hariprasad Chaturvedi

आपकी वेबसाइट बहुत ही अद्भुत और जानकारीपूर्ण है।✨ -अनुष्का शर्मा

वेदधारा के प्रयासों के लिए दिल से धन्यवाद 💖 -Siddharth Bodke

वेदधारा के कार्य से हमारी संस्कृति सुरक्षित है -मृणाल सेठ

आप जो अच्छा काम कर रहे हैं, उसे देखकर बहुत खुशी हुई 🙏🙏 -उत्सव दास

Read more comments

गायत्री मंत्र का अर्थ क्या है?

गायत्री मंत्र का अर्थ - हम श्रेष्ठतम सूर्य भगवान पर ध्यान करते हैं। वे हमारी बुद्धि को प्रकाशित करें।

किसकी स्मृति में नैमिषारण्य में प्रतिवर्ष फाल्गुन महीने में मेला लगता है ?

महर्षि दधीचि की स्मृति में ।

Quiz

अङ्गद किसका पुत्र था ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |