शिव धुन - ॐ नमः शिवाय

 

ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय
हर हर भोले नमः शिवाय
रामेश्वराय शिव रामेश्वराय
हर हर भोले नमः शिवाय
ॐ नमः शिवाय
हर हर भोले नमः शिवाय
गंगाधराय शिव गंगाधराय
हर हर भोले नमः शिवाय
ॐ नमः‌ शिवाय
हर हर बोले नमः शिवाय
जटाधराये शिव जटाधराये
हर हर भोले नमः शिवाय
ॐ नमः शिवाय
हर हर भोले नमः शिवाय
सोमेश्वराय शिव सोमेश्वराय
हर हर भोले नमः शिवाय
ॐ नमः शिवाय
हर हर बोले नमः शिवाय
विश्वेश्वराय शिव विश्वेश्वराय
हर हर भोले नमः शिवाय
ॐ नमः‌ शिवाय
हर हर भोले नमः शिवाय
कोटेश्वराये शिव विश्वेश्वराय
हर हर भोले नमः शिवाया
ॐ नमः शिवाय
हर हर भोले नमः शिवाय

44.0K

Comments

jb6a5
आपकी वेबसाइट ज्ञान और जानकारी का भंडार है।📒📒 -अभिनव जोशी

वेदधारा समाज की बहुत बड़ी सेवा कर रही है 🌈 -वन्दना शर्मा

सनातन धर्म के भविष्य के लिए वेदधारा के नेक कार्य से जुड़कर खुशी महसूस हो रही है -शशांक सिंह

वेदधारा के साथ ऐसे नेक काम का समर्थन करने पर गर्व है - अंकुश सैनी

😊😊😊 -Abhijeet Pawaskar

Read more comments

आरती कीजै हनुमान लला की किसकी रचना है

आरती कीजै हनुमान लला की, गोस्वामी तुलसीदास जी की रचना है।

मकर संक्रांति के दिन पानी में क्या डालकर स्नान करते हैं?

मकर संक्रांति के दिन पानी में तुलसी डालकर स्नान करना चाहिए।

Quiz

रामायण के प्रथम काण्ड का नाम क्या है ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |