एकदन्ताय वक्रतुण्डाय

गणनायकाय गणदैवताय गणाध्यक्षाय धीमहि ।
गुणशरीराय गुणमण्डिताय गुणेशानाय धीमहि ।
गुणातीताय गुणाधीशाय गुणप्रविष्टाय धीमहि ।
एकदन्ताय वक्रतुण्डाय गौरीतनयाय धीमहि ।
गजेशानाय भालचन्द्राय श्रीगणेशाय धीमहि ।


गानचतुराय गानप्राणाय गानान्तरात्मने ।
गानोत्सुकाय गानमत्ताय गानोत्सुकमनसे ।
गुरुपूजिताय गुरुदैवताय गुरुकुलस्थायिने ।
गुरुविक्रमाय गुह्यप्रवराय गुरवे गुणगुरवे ।
गुरुदैत्यगलच्छेत्रे गुरुधर्मसदाराध्याय ।
गुरुपुत्रपरित्रात्रे गुरुपाखण्डखण्डकाय ।
गीतसाराय गीततत्त्वाय गीतगोत्राय धीमहि ।
गूढगुल्फाय गन्धमत्ताय गोजयप्रदाय धीमहि ।
गुणातीताय गुणाधीशाय गुणप्रविष्टाय धीमहि ।
एकदन्ताय वक्रतुण्डाय गौरीतनयाय धीमहि ।
गजेशानाय भालचन्द्राय श्रीगणेशाय धीमहि ।

ग्रन्थगीताय ग्रन्थगेयाय ग्रन्थान्तरात्मने ।
गीतलीनाय गीताश्रयाय गीतवाद्यपटवे ।
गेयचरिताय गायकवराय गन्धर्वप्रियकृते ।
गायकाधीनविग्रहाय गङ्गाजलप्रणयवते ।
गौरीस्तनन्धयाय गौरीहृदयनन्दनाय ।
गौरभानुसुताय गौरीगणेश्वराय ।
गौरीप्रणयाय गौरीप्रवणाय गौरभावाय धीमहि ।
गोसहस्राय गोवर्धनाय गोपगोपाय धीमहि ।
गुणातीताय गुणाधीशाय गुणप्रविष्टाय धीमहि ।
एकदन्ताय वक्रतुण्डाय गौरीतनयाय धीमहि ।
गजेशानाय भालचन्द्राय श्रीगणेशाय धीमहि ।

 

 

90.1K

Comments

pjv6k

आदित्यहृदय स्तोत्र की गलत व्याख्या की गई है

आदित्यहृदय स्तोत्र के प्रथम दो श्लोकों की प्रायः गलत व्याख्या की गई है। यह चित्रित किया जाता है कि श्रीराम जी युद्ध के मैदान पर थके हुए और चिंतित थे और उस समय अगस्त्य जी ने उन्हें आदित्य हृदय का उपदेश दिया था। अगस्त्य जी अन्य देवताओं के साथ राम रावण युध्द देखने के लिए युद्ध के मैदान में आए थे। उन्होंने क्या देखा? युद्धपरिश्रान्तं रावणं - रावण को जो पूरी तरह से थका हुआ था। समरे चिन्तया स्थितं रावणं - रावण को जो चिंतित था। उसके पास चिंतित होने का पर्याप्त कारण था क्योंकि तब तक उसकी हार निश्चित हो गई थी। यह स्पष्ट है क्योंकि इससे ठीक पहले, रावण का सारथी उसे श्रीराम जी से बचाने के लिए युद्ध के मैदान से दूर ले गया था। तब रावण ने कहा कि उसे अपनी प्रतिष्ठा बचाने के लिए युद्ध के मैदान में वापस ले जाया जाएं।

उर्वशी किसकी पत्नी थी?

उर्वशी स्वर्गलोक से ब्रह्मा द्वारा श्रापित होकर धरती पर आयी और पुरूरवा की पत्नी बन गयी थी।उन्होंने छः पुत्रों को जन्म दिया।

Quiz

इनमें से गृह्यसूत्र कौन सा नहीं है ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |