परोऽपि हितवान् बन्धु:

परोऽपि हितवान् बन्धुर्बन्धुरप्यहित: पर:।

अहितो देहजो व्याधिर्हितमारण्यमौषधम्।
 
 
अगर कोई पराया होकर भी हमारा भला चाहता है तो वह अपना है| अगर कोई अपना होकर भी हमारा भला नही चाहता है तो वह पराया ही है| व्याधि हमारे शरीर से उत्पन्न होते हुए भी बुराई ही करती है| लेकिन कहीं दूर एक जंगल में उत्पन्न औषधि हमारे शरीर की भलाई करती है|
 
99.0K

Comments

e2hcd
वेद पाठशालाओं और गौशालाओं का समर्थन करके आप जो प्रभाव डाल रहे हैं उसे देखकर खुशी हुई -समरजीत शिंदे

आपकी वेबसाइट बहुत ही मूल्यवान जानकारी देती है। -यशवंत पटेल

यह वेबसाइट अद्वितीय और शिक्षण में सहायक है। -रिया मिश्रा

वेद पाठशालाओं और गौशालाओं के लिए आप जो कार्य कर रहे हैं उसे देखकर प्रसन्नता हुई। यह सभी के लिए प्रेरणा है....🙏🙏🙏🙏 -वर्षिणी

वेदधारा हिंदू धर्म के भविष्य के लिए जो काम कर रहे हैं वह प्रेरणादायक है 🙏🙏 -साहिल पाठक

Read more comments

Knowledge Bank

यात्रा शुरू करते समय या किसी स्थान में प्रवेश करते समय शुभ और अशुभ संकेत -

सफेद कपड़े पहने, मीठे और सुखद शब्द बोलने वाला सुंदर पुरुष, यात्रा के दौरान या प्रवेश पर सफलता लाता है। इसी प्रकार सजी हुई महिलाएं भी सफलता लाती हैं। इसके विपरीत, बिखरे हुए बाल, घमंडी, विकलांग अंगों वाले, नग्न, तेल में लिपटे, मासिक धर्म, गर्भवती, रोगी, मलयुक्त, पागल या जटाओं वाले लोगों को देखना अशुभ होता है।

गणेश चतुर्थी पर क्यों गणेश मूर्ति का विसर्जन होता है?

गणेश चतुर्थी पर भगवान गणेश की पूजा मिट्टी की मूर्ति के द्वारा की जाती है। यह मूर्ति अस्थायी है। पूजा के बाद इसे पानी में इसलिए डुबोया जाता है ताकि वह अशुद्ध न हो जाए।

Quiz

किस मणि द्वारा मृत अर्जुन को उनकी पत्नी उलूपी ने पुनरुज्जीवित किया था ?
Hindi Topics

Hindi Topics

सुभाषित

Click on any topic to open

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |