वसुधैव कुटुम्बकम्

अयं निजः परो वेति गणना लघुचेतसाम्|
उदारचरितानां तु वसुधैव कुटुम्बकम्|

 

यह व्यक्ति अपना है और यह व्यक्ति पराया है, ऐसी सोच छोटे लोगों की होती है| महान पुरुषों के लिए तो यह समस्त भूमि अपने परिवार के समान होता है|

 

 

101.2K
1.2K

Comments

pfbun
यह वेबसाइट ज्ञान का अद्वितीय स्रोत है। -रोहन चौधरी

आप जो अच्छा काम कर रहे हैं, उसे देखकर बहुत खुशी हुई 🙏🙏 -उत्सव दास

वेदधारा ने मेरी सोच बदल दी है। 🙏 -दीपज्योति नागपाल

आपके प्रवचन हमेशा सही दिशा दिखाते हैं। 👍 -स्नेहा राकेश

आपकी सेवा से सनातन धर्म का भविष्य उज्ज्वल है 🌟 -mayank pandey

Read more comments

द्वारका किस समुद्र में डूबी हुई है?

अरब सागर में।

उर्वशी किसकी पत्नी थी?

उर्वशी स्वर्गलोक से ब्रह्मा द्वारा श्रापित होकर धरती पर आयी और पुरूरवा की पत्नी बन गयी थी।उन्होंने छः पुत्रों को जन्म दिया।

Quiz

लंका में किसने आग लगाया था ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |