विवेकः सह सम्पत्त्या

विवेकः सह सम्पत्त्या विनयः सह विद्यया |
प्रभुत्वं प्रश्रयोपेतं चिह्नमेतन्महात्मनाम् ||

 

जब महान् व्यक्ति के पास संपत्ति आती है तो वह विवेक का उपयोग कर के उस का व्यय करता है | जब महान् व्यक्ति के पास विद्या आती है तो वह विनय के साथ व्यवहार करता है | जब महान् व्यक्ति के पास प्रभुत्व आता है तो वह अपने लोगों से प्रीतिपूर्वक व्यवहार करता है | यह ही महात्मा का लक्षण है |

 

99.9K
1.2K

Comments

v3tct
आपको नमस्कार 🙏 -राजेंद्र मोदी

हिंदू धर्म के पुनरुद्धार और वैदिक गुरुकुलों के समर्थन के लिए आपका कार्य सराहनीय है - राजेश गोयल

वेदधारा के कार्यों से हिंदू धर्म का भविष्य उज्जवल दिखता है -शैलेश बाजपेयी

यह वेबसाइट ज्ञान का खजाना है। 🙏🙏🙏🙏🙏 -कीर्ति गुप्ता

यह वेबसाइट बहुत ही उपयोगी और ज्ञानवर्धक है।🌹 -साक्षी कश्यप

Read more comments

Knowledge Bank

श्रीकृष्ण गाय चराते हुए कैसे रहते हैं?

श्रीकृष्ण और बलराम जी के चारों तरफ घंटी और घुंघरू की आवाज निकालती हुई गाय ही गाय हैं। गले में सोने की मालाएं, सींगों पर सोने का आवरण और मणि, पूंछों में नवरत्न का हार। वे सब बार बार उन दोनों के सुन्दर चेहरों को देखती हैं।

कुंडेश्वर महादेव का मंत्र

कुंडेश्वर महादेव की आरादना ॐ नमः शिवाय - इस पंचाक्षर मंत्र से या ॐ कुण्डेश्वराय नमः - इस नाम मंत्र से की जा सकती है।

Quiz

इनमें से कौनसा अष्टांग योग के अंतर्गत नहीं है ?
Hindi Topics

Hindi Topics

सुभाषित

Click on any topic to open

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |