प्रथमे नार्जिता विद्या

प्रथमे नार्जिता विद्या द्वितीये नार्जितं धनम् |
तृतीये नार्जितं पुण्यं चतुर्थे किं करिष्यति ||

 

जीवने के पहले खंड में विद्या कमानी चाहिए | जीवन के दूसरे खंड में धन कमाना चाहिए | जीवन के तीसरे खंड में पुण्य कमामा चाहिए | अगर इन समय में यह सब नहीं कमाया तो जीवन के आखरी खंड में क्या होगा?

 

36.9K

Comments

ncx48
वेदधारा ने मेरी सोच बदल दी है। 🙏 -दीपज्योति नागपाल

यह वेबसाइट बहुत ही उपयोगी और ज्ञानवर्धक है।🌹 -साक्षी कश्यप

आपकी वेबसाइट से बहुत सी नई जानकारी मिलती है। -कुणाल गुप्ता

वेदधारा के धर्मार्थ कार्यों में समर्थन देने पर बहुत गर्व है 🙏🙏🙏 -रघुवीर यादव

वेदधारा समाज के लिए एक महान सेवा है -शिवांग दत्ता

Read more comments

आज के समय में संतों का क्या महत्व है?

संतों को ज्ञान, मार्गदर्शन और आशा के स्रोत के रूप में देखा जाता है। आज के समय भी संत हमें नैतिकता, करुणा और विश्वास के साथ जीवन जीने का उदाहरण देते हैं। उनकी शिक्षाएं उत्तरोत्तर प्रासंगिक होते जा रहे हैं। वे कठिन समय में भी लचीलापन और विश्वास के साथ जीना सिखाते हैं।

गायत्री मंत्र का अर्थ क्या है?

गायत्री मंत्र का अर्थ - हम श्रेष्ठतम सूर्य भगवान पर ध्यान करते हैं। वे हमारी बुद्धि को प्रकाशित करें।

Quiz

भरद्वाज आश्रम कहां पर है ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |