व्यापार वृद्धि मंत्र

vyapar vridhi shabar mantra

ॐ श्रीं श्रीं श्रीं परमां सिद्धिं श्रीं श्रीं श्रीं

 

प्रदोष के दिन उपवास रखें।

शाम को शिव जी का पूजन करें।

उसके बाद इस मंत्र का ५ माला जपें।

अष्टगंध और असंगध के मिश्रण से १०८ आहुतियां देवें।

ऐसे ७ प्रदोष तक करने से व्यापार में बाधाएं समाप्त होगी।

व्यापार में वृद्धि होने लगेगी।

 

24.5K
1.1K

Comments

in4sz
दीर्घायु, सुख, शांति, वैभव, संतान की दीर्घायु, रक्षा, बुद्धि, विद्या, विघ्न विमुक्ति, शत्रु विमुक्ति, श्रॉफ मुक्ति के लिए प्रार्थना करता हूं। -शिवम

वेदधारा समाज के लिए एक महान सेवा है -शिवांग दत्ता

आपके मंत्रों से मुझे बहुत प्रेरणा मिलती है। 🙏 -राजेश प्रसाद

आपके मंत्र मुझे बहुत खुशी और शांति देते हैं। 🌿 -अदिति अग्रवाल

आपकी वेबसाइट बहुत ही विशिष्ट और ज्ञानवर्धक है। 🌞 -आरव मिश्रा

Read more comments

किसकी स्मृति में नैमिषारण्य में प्रतिवर्ष फाल्गुन महीने में मेला लगता है ?

महर्षि दधीचि की स्मृति में ।

चार्वाक दर्शन में सुख किसको कहते हैं?

चार्वाक दर्शन में सुख शरीरात्मा का एक स्वतंत्र गुण है। दुख के अभाव को चार्वाक दर्शन सुख नहीं मानता है।

Quiz

यज्ञ क लिये घृत को किस प्रकार शुध्द किया जाता है ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |