उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र

Uttara Phalguni Nakshatra symbol hammock

  

सिंह राशि के २६ अंश ४० कला से कन्या राशि के १० अंश तक जो नक्षत्र व्याप्त है उसे उत्तरा फाल्गुनी कहते हैं।

 वैदिक खगोल विज्ञान में यह बारहवां नक्षत्र है। 

आधुनिक खगोल विज्ञान के अनुसार उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र का नाम है Denebola।

व्यक्तित्व और विशेषताएं 

उत्तरा फाल्गुनी सिंह एवं कन्या राशि दोनों के लिए

  • शक्तिशाली
  • आदरणीय
  • अभिजात
  • ईमानदार
  • साफदिल
  • श्रीमान
  • आशावादी
  • नेतृत्व के गुण
  • कड़ी मेहनती
  • स्वार्थता
  • सुशिक्षित
  • लोकप्रिय
  • दरियादिल

सिर्फ उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र सिंह राशि के लिए

  • शक्तिशाली
  • आदरणीय
  • अभिजात
  • ईमानदार
  • साफदिल
  • श्रीमान
  • आशावादी
  • नेतृत्व के गुण
  • कड़ी मेहनती
  • स्वार्थता
  • सुशिक्षित
  • लोकप्रिय
  • दरियादिल

सिर्फ उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र कन्या राशि के लिए

  • बहस में निपुण
  • बुद्धिमान
  • निपुण
  • व्यापार में कौशल
  • विश्लेषणात्मक कौशल
  • महिलाओं के लिए फायदेमंद नक्षत्र
  • पुरुष स्त्रियों के गुणों से युक्त हो सकते हैं
  • अत्यधिक कामुकता 

प्रतिकूल नक्षत्र

  • चित्रा
  • विशाखा
  • ज्येष्ठा
  • उत्तरा फाल्गुनी सिंह राशि के लिए - पूर्वा भाद्रपद मीन राशि, उत्तरा भाद्रपद, रेवती।
  • उत्तरा फाल्गुनी कन्या राशि के लिए - अश्विनी, भरणी, कृत्तिका - मेष राशि।

उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में जन्म लेने वालों को इन दिनों महत्वपूर्ण कार्य नहीं करना चाहिए और इन नक्षत्रों में जन्मे लोगों के साथ भागीदारी नहीं करना चाहिए। 

स्वास्थ्य

उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में जन्म लेने वालों को इन स्वास्थ्य से संबन्धित समस्याओं की संभावना है- 

उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र सिंह राशि

  • पीठ दर्द
  • सिरदर्द
  • संधिशोथ
  • रक्तचाप
  • बेहोशी
  • मानसिक विकार
  • खसरा
  • आंत्र ज्वर 

उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र कन्या राशि

  • आंतों की सूजन
  • पेट की समस्या
  • आंतों का अवरोध
  • गले और गर्दन में सूजन
  • जिगर की समस्याएं
  • बुखार 

व्यवसाय

उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में जन्म लेने वालों के लिए कुछ अनुकूल व्यवसाय - 

उत्तरा फाल्गुनी सिंह राशि

  • सरकारी सेवा
  • डॉक्टर
  • रक्षा सेवा
  • मर्चेंट नेवी
  • व्यवसाय
  • शेयर बाज़ार
  • हृदय रोग विशेषज्ञ
  • स्त्री रोग विशेषज्ञ 

उत्तरा फाल्गुनी कन्या राशि

  • पत्रकार
  • मुद्रण
  • प्रकाशन
  • लेखक
  • जनसंपर्क
  • डिप्लोमैट
  • प्रबन्धक
  • खगोलविद
  • ज्योतिषी
  • ग्राफोलॉजिस्ट
  • फोन उद्योग
  • खनन
  • ठेकेदार
  • ब्रोकर
  • हृदय रोग विशेषज्ञ
  • नेत्र विशेषज्ञ
  • स्वास्थ्य उद्यम
  • रसायन
  • यात्रा व पर्यटन
  • डाक सेवाएं
  • कूरियर
  • केमिस्ट
  • डॉक्टर
  • संगीत 
  • वाद्ययंत्र 

क्या उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र वाला व्यक्ति हीरा धारण कर सकता है?

  • उत्तरा फाल्गुनी मेष राशि - नहीं।
  • उत्तरा फाल्गुनी वृषभ राशि - हां। 

भाग्यशाली रत्न

माणिक

अनुकूल रंग

लाल, केसरिया, हरा 

उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में जन्मे बच्चे का नाम

उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र के लिए अवकहडादि पद्धति के अनुसार नाम का प्रारंभिक अक्षर हैं-

  • पहला चरण - टे
  • दूसरा चरण - टो
  • तीसरा चरण - पा
  • चौथा चरण - पी

नामकरण संस्कार के समय रखे जाने वाले पारंपरिक नक्षत्र-नाम के लिए इन अक्षरों का उपयोग किया जा सकता है।

शास्त्र के अनुसार नक्षत्र-नाम के अलावा एक व्यावहारिक नाम भी होना चाहिए जो रिकॉर्ड में आधिकारिक नाम रहेगा। उपरोक्त प्रणाली के अनुसार रखे जाने वाला नक्षत्र-नाम केवल परिवार के करीबी सदस्यों को ही पता होना चाहिए।

उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में जन्म लेने वालों के व्यावहारिक नाम इन अक्षरों से प्रारंभ न करें -

  • उत्तरा फाल्गुनी सिंह राशि - त, थ, द, ध, न, य, र, ल, व, ए, ऐ, ह।
  • उत्तरा फाल्गुनी कन्या राशि - प, फ, ब, भ, म, अ, आ, इ, ई, श, ओ, औ।

वैवाहिक जीवन

उत्तरा फाल्गुनी में जन्मे लोग आम तौर पर हंसमुख होते हैं। 

उनका वैवाहिक जीवन खुशहाल और जीवंत होगा। 

परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। 

उपाय

उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में जन्म लेने वालों के लिए मंगल, बुध और बृहस्पति की दशाएं आमतौर पर प्रतिकूल होती हैं। वे निम्नलिखित उपाय कर सकते हैं।

मंत्र

ॐ भगाय नमः 

उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र

  • स्वामी - भग
  • अधीश ग्रह - सूर्य
  • पशु - ऊंट
  • वृक्ष - Ficus microcarpa
  • पक्षी - कौआ
  • भूत - अग्नि
  • गण - मनुष्य
  • योनि - बैल (पुरुष)
  • नाडी - आद्य
  • प्रतीक - हैमॉक

 

67.9K

Comments

Gztx4

जमवाय माता किसकी कुलदेवी है?

जमवाई माता कछवाहा वंश की कुलदेवी है। कछवाहा वंश राजपूतों की एक उपजाति और सूर्यवंशी है।

बुध की पत्नी कौन है?

इला। इला पैदा हुई थी लडकी। वसिष्ठ महर्षि ने इला का लिंग बदलकर पुरुष कर दिया और इला बन गई सुद्युम्न। सुद्युम्न बाद में एक शाप वश फिर से स्त्री बन गया। उस समय बुध के साथ विवाह संपन्न हुआ था।

Quiz

पुराणों के आख्यान सूत्र रूप में कहां मिलते हैं?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |