स्वाती नक्षत्र

Swati Nakshatra symbol coral

  

तुला राशि के ६ अंश ४० कला से २० अंश तक जो नक्षत्र व्याप्त है उसे स्वाती (स्वाति) कहते हैं। 

वैदिक खगोल विज्ञान में यह पन्द्रहवां नक्षत्र है। 

आधुनिक खगोल विज्ञान के अनुसार स्वाती नक्षत्र को Arcturus कहते हैं।

व्यक्तित्व और विशेषताएं

स्वाती नक्षत्र में जन्म लेने वालों की विशेषताएं -

  • होशियार
  • आरामदायक जीवन
  • दरियादिल
  • न्याय परायण
  • उदारमति
  • महत्त्वाकांक्षी
  • बुद्धिमान
  • भाषण में चतुर
  • कला और संगीत में रुचि
  • मद्यपान, धूम्रपान आदि की आदत
  • गुस्सैल
  • स्वतंत्र सोच
  • मानवतावादी
  • विनम्
  • अन्तः प्रज्ञा
  • मीठा व्यवहार
  • व्यापार में कौशल
  • व्यवस्थित

प्रतिकूल नक्षत्र

  • अनुराधा
  • मूल
  • उत्तराषाढा
  • कृत्तिका वृषभ राशि
  • रोहिणी
  • मृगशिरा वृषभ राशि

स्वाती नक्षत्र में जन्म लेने वालों को इन दिनों महत्वपूर्ण कार्य नहीं करना चाहिए और इन नक्षत्रों में जन्मे लोगों के साथ भागीदारी नहीं करना चाहिए। 

स्वास्थ्य

स्वाती नक्षत्र में जन्म लेने वालों को इन स्वास्थ्य से संबन्धित समस्याओं की संभावना है-

  • मूत्र संबंधी रोग
  • त्वचा रोग
  • ल्यूकोडर्मा
  • कुष्ठ
  • मधुमेह
  • गुर्दे से संबंधित समस्याएं 

व्यवसाय

स्वाती नक्षत्र में जन्म लेने वालों के लिए कुछ अनुकूल व्यवसाय-

  • विद्युत उपकरण
  • वाहन
  • परिवहन
  • यात्रा व पर्यटन
  • सिनेमा
  • टी. वी.
  • संगीत
  • कला
  • प्रदर्शनियां
  • सजावट
  • वैज्ञानिक
  • जज
  • कवि
  • मंच संचालन
  • बेकरी
  • डेयरी
  • चमड़ा उद्योग
  • रसोइया
  • परिचारक
  • फोटोग्राफी
  • वीडियोग्राफी
  • वस्त्र
  • इत्र
  • प्लास्टिक
  • शीशा उद्योग

क्या स्वाती नक्षत्र वाला व्यक्ति हीरा धारण कर सकता है?

अनुकूल है। 

भाग्यशाली रत्न

गोमेद

अनुकूल रंग

काला, सफेद, हल्का नीला। 

स्वाती नक्षत्र में जन्मे बच्चे का नाम

स्वाती नक्षत्र के लिए अवकहडादि पद्धति के अनुसार नाम का प्रारंभिक अक्षर हैं-

  • पहला चरण - रू
  • दूसरा चरण - रे
  • तीसरा चरण - रो
  • चौथा चरण - ता

नामकरण संस्कार के समय रखे जाने वाले पारंपरिक नक्षत्र-नाम के लिए इन अक्षरों का उपयोग किया जा सकता है।

शास्त्र के अनुसार नक्षत्र-नाम के अलावा एक व्यावहारिक नाम भी होना चाहिए जो रिकॉर्ड में आधिकारिक नाम रहेगा। उपरोक्त प्रणाली के अनुसार रखे जाने वाला नक्षत्र-नाम केवल परिवार के करीबी सदस्यों को ही पता होना चाहिए।

स्वाती नक्षत्र में जन्म लेने वालों के व्यावहारिक नाम इन अक्षरों से प्रारंभ न करें - य, र, ल, व, उ, ऊ, ऋ, ष, अं, अः, क्ष।

वैवाहिक जीवन

स्वाति नक्षत्र में जन्मी स्त्रियों को आरामदायक और सफल वैवाहिक जीवन प्राप्त होगा। 

पुरुषों को शराब जैसी बुरी आदतों से दूर रहना चाहिए। 

उपाय

स्वाती नक्षत्र में जन्म लेने वालों के लिए सूर्य, शनि और केतु की दशाएं आमतौर पर प्रतिकूल होती हैं। 

वे निम्नलिखित उपाय कर सकते हैं।

मंत्र

ॐ वायवे नमः 

स्वाती नक्षत्र

  • स्वामी - वायु
  • अधीश ग्रह - राहु
  • पशु - भैंस
  • वृक्ष - अर्जुन वृक्ष
  • पक्षी - कौआ
  • भूत - अग्नि
  • गण - देव
  • योनि - भैंसन (स्त्री)
  • नाडी - अन्त्य
  • प्रतीक - मूंगा

 

50.7K

Comments

ut33f
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 -User_sdh76o

वेदधारा के धर्मार्थ कार्यों में समर्थन देने पर बहुत गर्व है 🙏🙏🙏 -रघुवीर यादव

आपकी वेबसाइट से बहुत सी नई जानकारी मिलती है। -कुणाल गुप्ता

आपकी मेहनत से सनातन धर्म आगे बढ़ रहा है -प्रसून चौरसिया

आपकी वेबसाइट बहुत ही अद्भुत और जानकारीपूर्ण है। -आदित्य सिंह

Read more comments

कौन सा मंत्र जल्दी सिद्ध होता है?

कलौ चण्डीविनायकौ - कलयुग में चण्डी और गणेश जी के मंत्र जल्दी सिद्ध होते हैं।

घर के लिए कौन सा शिव लिंग सबसे अच्छा है?

घर में पूजा के लिए सबसे अच्छा शिव लिंग नर्मदा नदी से प्राप्त बाण लिंग है। इसकी ऊंचाई यजमान के अंगूठे की लंबाई से अधिक होनी चाहिए। उत्तम धातु से पीठ बनाकर उसके ऊपर लिंग को स्थापित करके पूजा की जाती है।

Quiz

देवों के राजा कौन है ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |