Special - Vidya Ganapathy Homa - 26, July, 2024

Seek blessings from Vidya Ganapathy for academic excellence, retention, creative inspiration, focus, and spiritual enlightenment.

Click here to participate

पुष्य नक्षत्र

Pushya Nakshatra symbol lotus

  

कर्क राशि के ३ अंश २० कला से १६ अंश ४० कला तक जो नक्षत्र व्याप्त है उसे पुष्य कहते हैं। 

वैदिक खगोल विज्ञान में यह आठवां नक्षत्र है। 

आधुनिक खगोल विज्ञान के अनुसार पुष्य नक्षत्र को γ, δ, and θ Cancri कहते हैं।

व्यक्तित्व और विशेषताएं

पुष्य नक्षत्र में जन्म लेने वालों की विशेषताएं -

  • प्रफुल्लित
  • गुस्सैल
  • प्रभावी भाषण कौशल
  • कुशल
  • समर्थ
  • अच्छा सामान्य ज्ञान
  • कड़ी मेहनती
  • असफलताओं का सामना करने की क्षमता
  • घरेलू
  • बचपन में क्लेश
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता कम
  • बहादुर
  • लोकप्रिय
  • कानून का पालन करता है
  • व्यवस्थित
  • न्याय परायण
  • श्रीमान 

प्रतिकूल नक्षत्र

  • मघा
  • उत्तरा फाल्गुनी
  • चित्रा
  • धनिष्ठा कुंभ राशि
  • शतभिषा
  • पूर्वा भाद्रपद कुंभ राशि

पुष्य नक्षत्र में जन्म लेने वालों को इन दिनों महत्वपूर्ण कार्य नहीं करना चाहिए और इन नक्षत्रों में जन्मे लोगों के साथ भागीदारी नहीं करना चाहिए। 

स्वास्थ्य

पुष्य नक्षत्र में जन्म लेने वालों को इन स्वास्थ्य से संबन्धित समस्याओं की संभावना है-

  • तपेदिक
  • कैंसर
  • पीलिया
  • पायरिया
  • छाजन
  • स्कर्वी
  • व्रण
  • यकृत की पथरी
  • सांस की बीमारियां
  • मतली 

व्यवसाय

पुष्य नक्षत्र में जन्म लेने वालों के लिए कुछ अनुकूल व्यवसाय-

  • खनन
  • पेट्रोलियम उद्योग
  • वन विभाग
  • खेती
  • भूमिगत निर्माण
  • सुरक्षा
  • जेल अधिकारी
  • जज
  • भूविज्ञान
  • जलविज्ञान

क्या पुष्य नक्षत्र वाला व्यक्ति हीरा धारण कर सकता है?

अनुकूल नहीं है। 

भाग्यशाली रत्न

नीलम ।

अनुकूल रंग

काला, गहरा नीला, सफेद।

पुष्य नक्षत्र में जन्मे बच्चे का नाम

पुष्य नक्षत्र के लिए अवकहडादि पद्धति के अनुसार नाम का प्रारंभिक अक्षर हैं-

  • पहला चरण - हू
  • दूसरा चरण - हे
  • तीसरा चरण - हो
  • चौथा चरण - डा

नामकरण संस्कार के समय रखे जाने वाले पारंपरिक नक्षत्र-नाम के लिए इन अक्षरों का उपयोग किया जा सकता है।

शास्त्र के अनुसार नक्षत्र-नाम के अलावा एक व्यावहारिक नाम भी होना चाहिए जो रिकॉर्ड में आधिकारिक नाम रहेगा। उपरोक्त प्रणाली के अनुसार रखे जाने वाला नक्षत्र-नाम केवल परिवार के करीबी सदस्यों को ही पता होना चाहिए।

पुष्य नक्षत्र में जन्म लेने वालों के व्यावहारिक नाम इन अक्षरों से प्रारंभ न करें - ट, ठ, ड, ढ, प, फ, ब, भ, म, स।

वैवाहिक जीवन

पुष्य नक्षत्र में जन्मी महिलाओं का दांपत्य जीवन कठिन हो सकता है। 

गुस्से पर नियंत्रण रखने के लिए प्रयत्न करना चाहिए। 

उपाय

पुष्य नक्षत्र में जन्म लेने वालों के लिए सूर्य, मंगल और केतु की दशाएं आमतौर पर प्रतिकूल होती हैं। वे निम्नलिखित उपाय कर सकते हैं।

मंत्र

ॐ बृहस्पतये नमः 

पुष्य नक्षत्र

  • स्वामी - बृहस्पति
  • अधीश ग्रह - शनि
  • पशु - बकरी
  • वृक्ष - पीपल
  • पक्षी -महोख
  • भूत - जल
  • गण - देव
  • योनि - बकरा (पुरुष) 
  • नाडी - मध्य
  • प्रतीक - कमल

 

16.5K

Comments

kz6ru
आपकी वेबसाइट अद्वितीय और शिक्षाप्रद है। -प्रिया पटेल

वेदधारा का कार्य अत्यंत प्रशंसनीय है 🙏 -आकृति जैन

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 -मदन शर्मा

आपकी वेबसाइट बहुत ही अद्भुत और जानकारीपूर्ण है।✨ -अनुष्का शर्मा

यह वेबसाइट बहुत ही उपयोगी और ज्ञानवर्धक है।🌹 -साक्षी कश्यप

Read more comments

Knowledge Bank

सत्य की शक्ति -

जो सत्य के मार्ग पर चलता है वह महानता प्राप्त करता है। झूठ से विनाश होता है, परन्तु सच्चाई से महिमा होती है। -महाभारत

अदिति नाम का अर्थ क्या है?

न दीयते खण्ड्यते बध्यते- स्वतंत्र, जिसे बांधा नहीं जा सकता। अदिति बारह आदित्य और वामनदेव की माता थी। दक्षकन्या अदिति के पति थे कश्यप प्रजापति।

Quiz

लक्ष्मी देवी के कितने स्वरूप प्रसिद्ध हैं ?
Hindi Topics

Hindi Topics

ज्योतिष

Click on any topic to open

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |