पुष्य नक्षत्र

Pushya Nakshatra symbol lotus

  

कर्क राशि के ३ अंश २० कला से १६ अंश ४० कला तक जो नक्षत्र व्याप्त है उसे पुष्य कहते हैं। 

वैदिक खगोल विज्ञान में यह आठवां नक्षत्र है। 

आधुनिक खगोल विज्ञान के अनुसार पुष्य नक्षत्र को γ, δ, and θ Cancri कहते हैं।

व्यक्तित्व और विशेषताएं

पुष्य नक्षत्र में जन्म लेने वालों की विशेषताएं -

  • प्रफुल्लित
  • गुस्सैल
  • प्रभावी भाषण कौशल
  • कुशल
  • समर्थ
  • अच्छा सामान्य ज्ञान
  • कड़ी मेहनती
  • असफलताओं का सामना करने की क्षमता
  • घरेलू
  • बचपन में क्लेश
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता कम
  • बहादुर
  • लोकप्रिय
  • कानून का पालन करता है
  • व्यवस्थित
  • न्याय परायण
  • श्रीमान 

प्रतिकूल नक्षत्र

  • मघा
  • उत्तरा फाल्गुनी
  • चित्रा
  • धनिष्ठा कुंभ राशि
  • शतभिषा
  • पूर्वा भाद्रपद कुंभ राशि

पुष्य नक्षत्र में जन्म लेने वालों को इन दिनों महत्वपूर्ण कार्य नहीं करना चाहिए और इन नक्षत्रों में जन्मे लोगों के साथ भागीदारी नहीं करना चाहिए। 

स्वास्थ्य

पुष्य नक्षत्र में जन्म लेने वालों को इन स्वास्थ्य से संबन्धित समस्याओं की संभावना है-

  • तपेदिक
  • कैंसर
  • पीलिया
  • पायरिया
  • छाजन
  • स्कर्वी
  • व्रण
  • यकृत की पथरी
  • सांस की बीमारियां
  • मतली 

व्यवसाय

पुष्य नक्षत्र में जन्म लेने वालों के लिए कुछ अनुकूल व्यवसाय-

  • खनन
  • पेट्रोलियम उद्योग
  • वन विभाग
  • खेती
  • भूमिगत निर्माण
  • सुरक्षा
  • जेल अधिकारी
  • जज
  • भूविज्ञान
  • जलविज्ञान

क्या पुष्य नक्षत्र वाला व्यक्ति हीरा धारण कर सकता है?

अनुकूल नहीं है। 

भाग्यशाली रत्न

नीलम ।

अनुकूल रंग

काला, गहरा नीला, सफेद।

पुष्य नक्षत्र में जन्मे बच्चे का नाम

पुष्य नक्षत्र के लिए अवकहडादि पद्धति के अनुसार नाम का प्रारंभिक अक्षर हैं-

  • पहला चरण - हू
  • दूसरा चरण - हे
  • तीसरा चरण - हो
  • चौथा चरण - डा

नामकरण संस्कार के समय रखे जाने वाले पारंपरिक नक्षत्र-नाम के लिए इन अक्षरों का उपयोग किया जा सकता है।

शास्त्र के अनुसार नक्षत्र-नाम के अलावा एक व्यावहारिक नाम भी होना चाहिए जो रिकॉर्ड में आधिकारिक नाम रहेगा। उपरोक्त प्रणाली के अनुसार रखे जाने वाला नक्षत्र-नाम केवल परिवार के करीबी सदस्यों को ही पता होना चाहिए।

पुष्य नक्षत्र में जन्म लेने वालों के व्यावहारिक नाम इन अक्षरों से प्रारंभ न करें - ट, ठ, ड, ढ, प, फ, ब, भ, म, स।

वैवाहिक जीवन

पुष्य नक्षत्र में जन्मी महिलाओं का दांपत्य जीवन कठिन हो सकता है। 

गुस्से पर नियंत्रण रखने के लिए प्रयत्न करना चाहिए। 

उपाय

पुष्य नक्षत्र में जन्म लेने वालों के लिए सूर्य, मंगल और केतु की दशाएं आमतौर पर प्रतिकूल होती हैं। वे निम्नलिखित उपाय कर सकते हैं।

मंत्र

ॐ बृहस्पतये नमः 

पुष्य नक्षत्र

  • स्वामी - बृहस्पति
  • अधीश ग्रह - शनि
  • पशु - बकरी
  • वृक्ष - पीपल
  • पक्षी -महोख
  • भूत - जल
  • गण - देव
  • योनि - बकरा (पुरुष) 
  • नाडी - मध्य
  • प्रतीक - कमल

 

Recommended for you

 

Video - Pushya Nakshatra Mantra 

 

Pushya Nakshatra Mantra

 

 

Video - Ganesha Stava 

 

Ganesha Stava

 

 

Video - Sachet Parampara All Shri Krishna Songs Collection 

 

Sachet Parampara All Shri Krishna Songs Collection

 

Ramaswamy Sastry and Vighnesh Ghanapaathi

Copyright © 2022 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |
Vedahdara - Personalize