आश्लेषा नक्षत्र

Ashlesha Nakshatra symbol serpent

  

कर्क राशि के १६ अंश ४० कला से ३० अंश तक जो नक्षत्र व्याप्त है उसे आश्लेषा कहते हैं। 

वैदिक खगोल विज्ञान में यह नौवां नक्षत्र है। 

आधुनिक खगोल विज्ञान के अनुसार आश्लेषा नक्षत्र को δ, ε, η, ρ, and σ Hydrae कहते हैं।

व्यक्तित्व और विशेषताएं

आश्लेषा नक्षत्र में जन्म लेने वालों की विशेषताएं -

  • साहसी प्रकृति
  • संशयवादी
  • चरित्र में विरोधाभास
  • फुरतीला
  • कुशल
  • मतलबी
  • अपनी बात अच्छी तरह से रखने में कौशल
  • लेखन सामर्थ्य
  • बहुभाषी
  • खराब दोस्ती
  • संगीत और कला में रुचि
  • साहित्य में रुचि
  • घूमने का शौक
  • ईर्ष्या
  • कृतघ्नता
  • जीवन में नकारात्मकता को उजागर करता है
  • श्रीमान
  • त्वरित प्रतिक्रिया
  • जीवन का आनंद लेनेवाला
  • महिलाओं में घर का प्रबंधन करने का सामर्थ्य

प्रतिकूल नक्षत्र

  • पूर्वा फाल्गुनी
  • हस्त
  • स्वाती
  • धनिष्ठा कुंभ राशि
  • शतभिषा
  • पूर्वा भाद्रपद कुंभ राशि

आश्लेषा नक्षत्र में जन्म लेने वालों को इन दिनों महत्वपूर्ण कार्य नहीं करना चाहिए और इन नक्षत्रों में जन्मे लोगों के साथ भागीदारी नहीं करना चाहिए। 

स्वास्थ्य

आश्लेषा नक्षत्र में जन्म लेने वालों को इन स्वास्थ्य से संबन्धित समस्याओं की संभावना है-

  • संधिशोथ
  • सांस की बीमारियां
  • शोफ
  • पीलिया
  • न्यूरोलॉजिकल बीमारियां
  • चिंता
  • मानसिक विकार
  • अपच
  • सर्दी ज़ुखाम
  • घुटनों का दर्द
  • पैरों में दर्द
  • किडनी के रोग 

व्यवसाय

आश्लेषा नक्षत्र में जन्म लेने वालों के लिए कुछ अनुकूल व्यवसाय-

  • ट्रेडिंग
  • ब्रोकर
  • कमीशन एजेंट
  • कला
  • संगीत
  • निर्यात
  • पत्रकार
  • लेखक
  • रंग और स्याही उद्योग
  • लेखा परीक्षक
  • अनुवादक
  • डिप्लोमैट
  • ट्रैवल एजेंट
  • टूर गाइड
  • परिचारक
  • नर्स
  • गणितज्ञ
  • ज्योतिष
  • इंजीनियर
  • सिंचाई
  • वस्त्र
  • ठेकेदार
  • स्टेशनरी की दुकान
  • कागज उद्योग 

क्या आश्लेषा नक्षत्र वाला व्यक्ति हीरा धारण कर सकता है?

अनुकूल नहीं है। 

भाग्यशाली रत्न

पन्ना।

अनुकूल रंग

हरा, सफेद ।

आश्लेषा नक्षत्र में जन्मे बच्चे का नाम

आश्लेषा नक्षत्र के लिए अवकहडादि पद्धति के अनुसार नाम का प्रारंभिक अक्षर हैं-

  • पहला चरण - डी
  • दूसरा चरण - डू
  • तीसरा चरण - डे
  • चौथा चरण - डो

नामकरण संस्कार के समय रखे जाने वाले पारंपरिक नक्षत्र-नाम के लिए इन अक्षरों का उपयोग किया जा सकता है।

शास्त्र के अनुसार नक्षत्र-नाम के अलावा एक व्यावहारिक नाम भी होना चाहिए जो रिकॉर्ड में आधिकारिक नाम रहेगा। उपरोक्त प्रणाली के अनुसार रखे जाने वाला नक्षत्र-नाम केवल परिवार के करीबी सदस्यों को ही पता होना चाहिए।

आश्लेषा नक्षत्र में जन्म लेने वालों के व्यावहारिक नाम इन अक्षरों से प्रारंभ न करें - ट, ठ, ड, ढ, प, फ, ब, भ, म, स।

वैवाहिक जीवन

अश्लेषा नक्षत्र में जन्मी महिलाओं का दांपत्य जीवन कठिन हो सकता है। 

उन्हें अपने हावी स्वभाव को नियंत्रण में रखने की कोशिश करनी चाहिए। 

अश्लेषा नक्षत्र में जन्मे लोगों को अपने संदिग्ध स्वभाव पर नियंत्रण रखना चाहिए। 

उपाय

आश्लेषा नक्षत्र में जन्म लेने वालों के लिए चन्द्र, शुक्र, और राहु की दशाएं आमतौर पर प्रतिकूल होती हैं। वे निम्नलिखित उपाय कर सकते हैं।

मंत्र

ॐ सर्पेभ्यो नमः 

आश्लेषा नक्षत्र

  • स्वामी -  नाग
  • अधीश ग्रह - बुध
  • पशु - काली बिल्ली
  • वृक्ष - नाग केसर
  • पक्षी -महोख
  • भूत - जल
  • गण - असुर
  • योनि - बिल्ली (पुरुष) 
  • नाडी - अन्त्य
  • प्रतीक - नाग

 

Recommended for you

 

Video - प्यारा सजा है तेरा द्वार  

 

प्यारा सजा है तेरा द्वार

 

 

Video - KHAZANA MAIYA KA 

 

KHAZANA MAIYA KA

 

 

Video - लव कुश ने सुनाई रामायण 

 

लव कुश ने सुनाई रामायण

 

Ramaswamy Sastry and Vighnesh Ghanapaathi

Copyright © 2022 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |
Vedahdara - Personalize