यत्पूर्वं विधिना ललाटलिखितम्

पत्रं नैव यदा करीरविटपे दोषो वसन्तस्य किं
नोलूकोप्यवलोकते यदि दिवा सूर्यस्य किं दूषणम् |
धारा नैव पतन्ति चातकमुखे मेघस्य किं दूषणं
यत्पूर्वं विधिना ललाटलिखितं तन्मार्जितुं कः क्षमः ||

 

बांस में पत्ता नही उगता तो इस में वसंत ऋतु का क्या दोष? उल्लू दिन में देख नहीं सकता तो इस में सूरज का क्या दोष? चातक पक्षी के मुह में पानी नहीं गिरती तो इस में मेघ का क्या दोष? विधि ने जो पहले माथे पर लिख दिया है तो उसे कौन मिटा पाएगा? इसलिए जो मिला है उसी में खुश रहना सीखें |

 

66.7K

Comments

5qw43

सालासर बालाजी में दर्शन करने में कितना समय लगता है?

साधारण दिनों में सालासर बालाजी का दर्शन एक घंटे में हो जाता है। शनिवान, रविवार और मंगलवार को ३ से ४ घंटे लग सकते हैं।

संत हमें क्या सिखाते हैं?

संत हमें नि:स्वार्थ, कामना रहित, पवित्र, अभिमान रहित, और सरल जीवन जीना सिखाते हैं। वे हमें ईश्वर में विश्वास के साथ, सत्य और धर्म का आचरण करके, सबसे प्रेम की भावना रखकर, श्रद्धा, क्षमा, मैत्री, दया, करुणा, और प्रसन्नता के साथ आगे बढने की प्रेरणा देते हैं।

Quiz

ऋग्वेद का उपवेद क्या है ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |