भोर भई दिन चढ़ गया मेरी अंबे

 

भोर भई दिन चढ़ गया मेरी अम्बे,

हो रही जय जय कार मंदिर विच आरती जय माँ ।।

 

हे दरबारा वाली आरती जय माँ ।

हे पहाड़ा वाली आरती जय माँ ।।

 

काहे दी मैया तेरी आरती बनावा,

काहे दी पावां विच बाती,

मंदिर विच आरती जय माँ ।। 

 

सुहे चोलेयाँ वाली आरती जय माँ ।

हे पहाड़ा वाली आरती जय माँ ।।

 

सर्व सोने दी तेरी आरती बनावा,

अगर कपूर पावां बाती,

मंदिर विच आरती जय माँ ।।

 

हे माँ पिंडी रानी आरती जय माँ ।

हे पहाड़ा वाली आरती जय माँ ।।

 

कौन सुहागन दिवा बालेया मेरी मैया,

कौन जगेगा सारी रात,

मंदिर विच आरती जय माँ ।। 

 

सच्चिया ज्योतां वाली आरती जय माँ ।

हे पहाड़ा वाली आरती जय माँ ।।

 

सर्व सुहागिन दिवा बालेया मेरी मैया,

ज्योत जागेगी सारी रात,

मंदिर विच आरती जय माँ ।।

 

हे माँ दुर्गा रानी आरती जय माँ ।

हे पहाड़ा वाली आरती जय माँ ।।

 

जुग जुग जीवे तेरा जम्मुए दा राजा,

जिस तेरा भवन बनाया,

मंदिर विच आरती जय माँ ।।

 

हे मेरी अम्बे रानी आरती जय माँ ।

हे पहाड़ा वाली आरती जय माँ ।।

 

सिमर चरण तेरा ध्यानु यश गावे,

जो ध्यावे सो, यो फल पावे,

रख बाणे दी लाज,

मंदिर विच आरती जय माँ ।।

सोने मंदिरां वाली आरती जय माँ ।।

 

भोर भई दिन चढ़ गया मेरी अम्बे,

हो रही जय जय कार मंदिर विच आरती जय माँ ।।

हे दरबारा वाली आरती जय माँ ।

हे पहाड़ा वाली आरती जय माँ ।।

हे दरबारा वाली आरती जय माँ ।

हे पहाड़ा वाली आरती जय माँ ।।

हे दरबारा वाली आरती जय माँ ।

हे पहाड़ा वाली आरती जय माँ ।।

87.2K

Comments

iGhtk
Jai Mata di -User_scxsic

जय माता दी ⚘️ इतनी मीठी और सुकून भरी करण प्रिय मधुर आवाज़ है बहुत ही अच्छा लगता है, हर रोज़ सुनते हैं हम -Ankit mishra

🙏Jay mata di jay Shree durga maa Jay Shree kalka maa jay Shree laxmi maa jay Shree ambe maa jay mata di jay mata di 🙏 -Akhilesh

य माता रानी की जय....... 9 रत्नों को धारण करने वाली सृष्टि की जननी मां दुर्गा अपनी कृपा दृष्टि हम सभी पर बनाए रखना। 👍🙏🙏 -Meena thakur, Raipur

Meri maa ke barabar koi nhi 💯 -Somya Mohanty

Read more comments

कठोपनिषद में यम प्रेय और श्रेय के बीच अंतर के बारे में क्या सिखाते हैं?

कठोपनिषद में, यम प्रेय (प्रिय, सुखद) और श्रेय (श्रेष्ठ, लाभकारी) के बीच के अंतर को समझाते हैं। श्रेय को चुनना कल्याण और परम लक्ष्य की ओर ले जाता है। इसके विपरीत, प्रेय को चुनना अस्थायी सुखों और लक्ष्य से दूर हो जाने का कारण बनता है। समझदार व्यक्ति प्रेय के बजाय श्रेय को चुनते हैं। यह विकल्प ज्ञान और बुद्धि की खोज से जुड़ा है, जो कठिन और शाश्वत है। दूसरी ओर, प्रेय का पीछा करना अज्ञान और भ्रांति की ओर ले जाता है, जो आसान लेकिन अस्थायी है। यम स्थायी भलाई को तत्काल संतोष के ऊपर रखने पर जोर देते हैं।

बुध की पत्नी कौन है?

इला। इला पैदा हुई थी लडकी। वसिष्ठ महर्षि ने इला का लिंग बदलकर पुरुष कर दिया और इला बन गई सुद्युम्न। सुद्युम्न बाद में एक शाप वश फिर से स्त्री बन गया। उस समय बुध के साथ विवाह संपन्न हुआ था।

Quiz

लुटेरों से गायों को छुडाते राजस्थान के इस लोक देवता ने अपने जीवन का बलिदान दिया था ? कौन है यह ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |