नाथ संप्रदाय के प्रभावी तंत्र-मंत्र टोटके

आसानी से अपने जीवन में नाटकीय परिवर्तन लाने के लिए नाथ संप्रदाय के शक्तिशाली तंत्र मंत्र टोटकों को सीखें। सदियों से नाथ योगियों द्वारा उपयोग किए जाने वाले शक्तिशाली टोटकों द्वारा अपने जीवन को बदलें और जो आप चाहते हैं उसे प्रकट करें।

 

उदाहरण

व्यसन छुडाने के लिए मंत्र

(गुटका, तंबाकू, सिगरेट, नशीली दवाएं)

जय भैरो जी की लगी सवारी

उसमें बैठे नर नारी

नशा करे गुटका तम्बाकु खाये

भैरो बाबा घर घर जाये

जिसके घर पर जाये वहां से नशा भाग जाय

शनिवार के दिन भैरो पर फूल चढ़ाये

सत्य के कारण नर नारी से नशा छुड़वाये

जो घर पर भैरो को बुलवाये

नशा छुड़े और धर्म बनकर आये

जय जय भैरो बाबा की

इति सिद्धम्

शनिवार के दिन सवा महीने तक भैरो बाबा की तेल की जोत जलाकर इस मन्त्र को 108 बार जो मनुष्य करेगा उसे नशा छूट जायेगा।

 

मीठ मच्छी खाने की इच्छा खत्म करने के लिए

ॐ शिव ॐ ॐ शिव का जाप है 

घट में बैठे जाय सतपुरुष बन जाय

सत्य की पहचान हो नर बन जाय

शिव नाम में शक्ति जग समा जाय

शिव नाम ले जो नर नारी इच्छा कोई न धारी

शिव नाम सत्य लोक का

अर्पण कर लो नर नारी

जय जय शिव अधिकारी

शिव नाम की रट लगाओ बन जाय सत्य की क्यारी

जय जय शिव लोक धाम

इति सिद्धम्

इस मन्त्र का मनन करो मनुष्य निदोर्ष हो जायेगा।

 

 

संपूर्ण PDF पुस्तक पढने के लिए यहां क्लिक करें

 

102.3K

Comments

csb6h
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 -User_sdh76o

शास्त्रों पर गुरुजी का मार्गदर्शन गहरा और अधिकारिक है 🙏 -Ayush Gautam

वेदधारा का कार्य अत्यंत प्रशंसनीय है 🙏 -आकृति जैन

आपकी वेबसाइट से बहुत सी महत्वपूर्ण जानकारी मिलती है। -दिशा जोशी

वेद पाठशालाओं और गौशालाओं का समर्थन करके आप जो प्रभाव डाल रहे हैं उसे देखकर खुशी हुई -समरजीत शिंदे

Read more comments

हडपी हुई जमीन वापस मिलने का मंत्र क्या है?

ॐ शनि कांकुली पाणीयायाम् । पालनहरि आरिक्षणी । नेम्बेंदिविरान्दिन यदू यदू । जाणनिरान्द्रि । पाषाण युगे युगे धर्मयन्त्री । फाअष्टष्यति नजर याणी धुम्रयाणी । धनम् प्रजायायाम् घनिष्टयति । पादानिदर पादानिदर नमस्तेते नमस्तेते । आदरणीयम् फलायामी फलायामी । इति सिद्धम् - प्रति दिन ७२ बार बोलें ।

खेती की उपज बढाने का मंत्र क्या है?

ॐ आरिक्षीणियम् वनस्पतियायाम् नमः । बहुतेन्द्रीयम् ब्रहत् ब्रहत् आनन्दीतम् नमः । पारवितम नमामी नमः । सूर्य चन्द्र नमायामि नमः । फुलजामिणी वनस्पतियायाम् नमः । आत्मानियामानि सद् सदु नमः । ब्रम्ह विषणु शिवम् नमः । पवित्र पावन जलम नमः । पवन आदि रघुनन्दम नमः । इति सिद्धम् ।

Quiz

नातह संप्रदाय के साधु-संत किस रंग के कपडे पहनते हैं ?

ॐ महालक्ष्मी यन्त्र
विष्णु भरे भण्डार महालक्ष्मी आवे
महालक्ष्मी बताये विष्णु भेद भावे
विष्णु की चली सवारी संग बैठी महालक्ष्मी प्यारी
यन्त्र बनाकर दिया जगत को धन से भरे भंडार शिक देवता चले स्वर्ग से इन्द्रदेव बने धनवान
विष्णु जी का लगा दरबार महालक्ष्मी आई बारम्बार
सत का पहिया चले जगत लक्ष्मी यन्त्र बहता रहे
जो नर नारी महालक्ष्मी यन्त्र पहने,
धन धान्य से भरपूर होवे
कल्याण हो जगत का नर नारी धनवान होंवे
जय लक्ष्मी देवी

विष्णु यन्त्र
विष्णु जी का चला चक्र अधर्म की हार हुई
सन्तों की जीत हुई पापियों की हार हुई
विष्णु का अवतार बनकर कृष्ण जी सतकार हुई
जब जब धरती पर पाप बढ़ा जब जब विष्णु अवतार हुए प्राणियों के रक्षक विष्णु जी के अवतार हुए
श्री कृष्ण जी के नाम से जग में सोलह कला अवतार हुए नर नारी के रक्षक बनकर भगवान विष्णु अवतार हुए। शेषनाग पर बैठ कर करें सवारी
विष्णु जी बैठे संग में बैठी लक्ष्मी प्यारी
विष्णु यन्त्र चक्र समान जो माने
उसके हो जाय बिगड़े काम
विष्णु जी सत्यनाम नर नारी भजे हो जाय बिगड़े काम इति सिद्धम्
महाकाली यन्त्र
माता महाकाली करे जगत की रखवाली
पूजे देव जिसे पूजे तीनों लोक धर्मवाली सत्य का द्वीप जगाने वाली
पापी दुष्ट को मिटाने वाली
दुर्बल को सहारा देने वाली
धर्म का पुँज द्वीप जलाने वाली
माता महाकाली अधर्म का नाश करने वाली
जो भी नर नारी याद करें
जगत माता है माता बनकर प्यार करें
हर काम में सहारा बनकर संसार का कल्याण करें
जय जय महाकाली माता तेरी
जगत जय जयकार करे।
इति सिद्धम्

बगलामुखी यन्त्र
देवी का यन्त्र बगलामुखी के संग
महादेवी महाविद्या जब करे प्रचारा
मनुष्य का करे कल्याण स्वर्ग लोक पहुंचाना
बगलामुखी का लगा दरबार
जिसमें बैठे देव बेसुम्मार
बगलामुखी दे वरदान
नर नारी सुखी रहे और खाये जलपान जल पान सुपारी मीठी हो जुबान
जिस पर बैठकर बगलामुखी दे वरदान जय जय बगलामुखी देवी।
इति सिद्धम्
इस यन्त्र को सिद्ध करने के लिए तेल का दिया लगाकर पान सुपारी जल का पूजा में रखकर 108 बार करें शनिवार को यन्त्र सिद्ध करें।

चामुण्डा यन्त्र
चामुण्डा चण्ड धाती शिव की अनुभुति
चली चामुण्डा राक्षसों को मिटाने
शिव चले पुण्य कमाने
शिव जी से ले वरदान चण्डी चली धर्म बचाने
शिव का त्रिशूल मिला वरदान में
चामुण्डा चली राक्षसों के मैदान में
राक्षसों को मारा चली चामुण्डा धर्म बचाने
जय जय चण्डी माता
इति सिद्धम्

Ramaswamy Sastry and Vighnesh Ghanapaathi

Hindi Topics

Hindi Topics

आध्यात्मिक ग्रन्थ

Click on any topic to open

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |