परोपकाराय सतां विभूतयः

मूलं भुजङ्गैः शिखरं विहङ्गैः शाखाः प्लवङ्गैः कुसुमानि भृङ्गैः |
आश्चर्यमेतत् खलु चन्दनस्य परोपकाराय सतां विभूतयः ||

 

चंदन का वृक्ष अपने मूल में सांप को, अपने शिखर में पक्षियों को, अपनी शाखाओं में बंदरों को और अपने फूलों में भ्रमरों को आश्रय देता है | ऐसे ही होते हैं सज्जन जो मनुष्य, मृग, पक्षी इत्यादि सभी जीव जन्तुओं का उपकार कर के उन सब को आश्रय देते हैं |

 

 

96.0K

Comments

2m3td
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 -मदन शर्मा

😊😊😊 -Abhijeet Pawaskar

Om namo Bhagwate Vasudevay Om -Alka Singh

प्रणाम गुरूजी 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 -प्रभास

बहुत बढिया चेनल है आपका -Keshav Shaw

Read more comments

गणेश जी की पूजा करते समय कौन सा मंत्र बोलना चाहिए?

गणेश जी की पूजा करते समय बोलने के लिए सरल और प्रभावशाली मंत्र है - ॐ गँ गणपतये नमः ।

वेङ्कटेश सुप्रभातम् के रचयिता कौन है?

श्रीवेङ्कटेश सुप्रभातम् के रचयिता हैं प्रतिवादि भयंकरं अण्णन्।

Quiz

युगलोपासना क्या है ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |