धिगर्थाः कष्टसंश्रयाः

अर्थानामर्जने दुःखमर्जितानां च रक्षणे |
आये दुःखं व्यये दुःखं धिगर्थाः कष्टसंश्रयाः ||

 

धन कमाने के लिए परिश्रम करना पडता है और उस से दुख उत्पन्न होता है | फिर कमाए हुए धन को बचाने के लिए दुःख होता है | जब धन कमाना होता है तब भी दुख ही होता है और जब धन का व्यय हो जाता है तब भी दुख ही होता है | यह धन ही दुख का आधार है |

 

89.0K

Comments

6Gd6i
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 -मदन शर्मा

बहुत बढिया चेनल है आपका -Keshav Shaw

प्रणाम गुरूजी 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 -प्रभास

आपको नमस्कार 🙏 -राजेंद्र मोदी

Om namo Bhagwate Vasudevay Om -Alka Singh

Read more comments

बुध की पत्नी कौन है?

इला। इला पैदा हुई थी लडकी। वसिष्ठ महर्षि ने इला का लिंग बदलकर पुरुष कर दिया और इला बन गई सुद्युम्न। सुद्युम्न बाद में एक शाप वश फिर से स्त्री बन गया। उस समय बुध के साथ विवाह संपन्न हुआ था।

शिव जी का प्रिय मंत्र कौन सा है?

शिव जी का प्रिय मंत्र है - नमः शिवाय । इसे पंचाक्षर मंत्र कहते हैं । इस मंत्र को ॐ के साथ - ॐ नमः शिवाय के रूप में भी जपते हैं ।

Quiz

विवाह संस्कार में लाज होम में वधू के साथ और कौन भाग लेता है ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |