Special - Vidya Ganapathy Homa - 26, July, 2024

Seek blessings from Vidya Ganapathy for academic excellence, retention, creative inspiration, focus, and spiritual enlightenment.

Click here to participate

कूर्म पुराण

kurma puran hindi pdf cover page

बदरिकाश्रम में निवास करनेवाले ऋषि  नारायण, नरों में उत्तम श्रीनर तथा उनकी लीला प्रकट करनेवाली भगवती सरस्वती को नमस्कार कर जय (पुराण एवं इतिहास आदि सद्ग्रन्थों) का पाठ करना चाहिये। कूर्मरूप धारण करनेवाले अप्रमेय भगवान् विष्णु को नमस्कार कर मैं उस पुराण (कूर्मपुराण) को कहूँगा, जो समस्त विश्व के मूल कारण भगवान् विष्णुके द्वारा कहा गया था॥१॥

नैमिषारण्यवासी महर्षियोंने बारह वर्षतक चलनेवाले सत्र (यज्ञ) के पूर्ण हो जाने पर सर्वथा निष्पाप रोमहर्षण सूतजी से पवित्र पुराण-संहिता के विषय में प्रश्न किया - महाबुद्धिमान् सूतजी महाराज! आपने इतिहास और पुराणों के ज्ञान के लिये ब्रह्मज्ञानियों में परम श्रेष्ठ भगवान् वेदव्यासजी की भलीभाँति उपासना की है। चूंकि आपके वचन से द्वैपायन भगवान् वेदव्यासजी के समस्त रोम हर्षित हो गये थे, इसलिये आप रोमहर्षण कहलाते हैं॥

आगे पढने के लिए यहां क्लिक करें

 

 

 

 

100.4K

Comments

s2hu4
आप जो अच्छा काम कर रहे हैं उसे जानकर बहुत खुशी हुई -राजेश कुमार अग्रवाल

वेदधारा की धर्मार्थ गतिविधियों का हिस्सा बनकर खुश हूं 😇😇😇 -प्रगति जैन

आपके प्रवचन हमेशा सही दिशा दिखाते हैं। 👍 -स्नेहा राकेश

आपकी वेबसाइट से बहुत सी नई जानकारी मिलती है। -कुणाल गुप्ता

सनातन धर्म के भविष्य के लिए वेदधारा का योगदान अमूल्य है 🙏 -श्रेयांशु

Read more comments

Knowledge Bank

राजा ककुद्मि और रेवती: समय की यात्रा

श्रीमद्भागवत पुराण में राजा ककुद्मि और उनकी बेटी रेवती की एक कहानी है। वे ब्रह्मलोक गए थे ताकि रेवती के लिए उपयुक्त पति ढूंढ सकें। लेकिन जब वे पृथ्वी पर लौटे, तो पाया कि समय अलग तरीके से बीता है। कई युग बीत चुके थे और सभी जिन्हें वे जानते थे, वे मर चुके थे। रेवती ने फिर भगवान कृष्ण के बड़े भाई बलराम से विवाह किया। यह कहानी हमारे शास्त्रों में समय विस्तार की अवधारणा को दर्शाती है।

यज्ञ के लिए अयोग्य देश

गवां वा ब्राह्मणानां वा वधो यत्र च दस्युभिः। असावयज्ञियो देशः - जिस देश में दुष्टों द्वारा गौ और तपोनिष्ठ ब्राह्मणों का वध होता है, वह देश यज्ञ के लिए योग्य नहीं है।

Quiz

इलापुरे रम्याविशालकेऽस्मिन् समुल्लसन्तं च जगद्वरेण्यम्।वन्दे महोदारतरस्वभावं घुश्मेश्वराख्यं शरणं प्रपद्ये।। आदिशंकराचार्य द्वारा विरचित यह श्लोक किसकी स्तुति है ?
Hindi Topics

Hindi Topics

आध्यात्मिक ग्रन्थ

Click on any topic to open

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |