काशी की महिमा

kashi ki mahima pdf book contents page

ऐसी काशी जिसका रहस्य गोपनीय है, जिसकी महिमा त्रिलोक में सदैव प्रथित है, जो सभी लोकों में श्लाघनीय है, जो सभी तीर्थों में पूजनीय है, ऐसी काशी की महिमा को मैं क्षुद्र प्राणी क्या कह सकता हूँ ? जिससे मैं स्वयं अनभिज्ञ हूँ। जिस प्रकार से शिशु माँ के द्वारा प्रदत्त दूध को सहर्ष पान कर लेता है, किन्तु वह उसके ज्ञान से शून्य रहता है। वह यह नहीं जानता कि माँ क्या है ? यह दूध कहाँ से लाती है ? उसको यह भी पता नहीं कि यह दूध माँ के रक्त से ही निर्मित है। मां आज भोजन की है कि नहीं? उसे बिल्कुल ही ज्ञान नहीं रहता है । वह तो उदर पूर्ति के लिए मातृ-स्तन से सदा सलिहित रहता है । आज अन्नपूर्णा अन्न देना बन्द कर दें, भगवान शिव मुक्ति देना बन्द कर दें, तब देखें काशी की दशा। तब हम काशी को काशी नहीं कहेंगे। जिस प्रकार कोई बालक पिता द्वारा प्राप्त वस्तु को। केवल खाना ही जानता है । वह इतना ही कहेगा कि पिताजी ने दिया है, नहीं तो इतना भी नहीं कहेगा। पिताजी क्या हैं? वह क्या करते हैं ? उसे कुछ भी ज्ञान नही । जिस प्रकार मैं काशी में रहते हुए काशी की महिमा से अनभिज्ञ हैं। जबकि काशी को मैंने अपनी जन्म-भूमि और कर्मभूमि दोनों स्वीकार कर लिया है। काशीपति विश्वनाथ जी की कृपा और अन्नपूर्णा की गोद में सपरिवार निवास कर रहा हूँ । माँ का विस्तृत आँचल हमारे ऊपर से आच्छादित है। फिर भी मैं इन सबकी महिमा से अनभिज्ञ है। क्या अपनी परमसाध्वी, सत्यव्रता, कल्मषापहारिणी, मोक्षदायिनी माँ की महिमा को एक कुपुत्र, अज्ञानी लोभी पुत्र जान सकता है? क्या अघनाशिनी सुरसरि के विमल स्निग्ध वारि को दूषित वापी में स्नान करने वाला व्यक्ति अभिव्यजित कर सकता है ? उसी प्रकार काशी की महिमा से मैं अपरिचित हैं। लेकिन मेरा दोप भी नहीं है। क्योंकि

PDF Book पढने के लिए यहां क्लिक करें

 

 

 

18.6K

Comments

iccbt
😊😊😊 -Abhijeet Pawaskar

वेदधारा का कार्य सराहनीय है, धन्यवाद 🙏 -दिव्यांशी शर्मा

यह वेबसाइट ज्ञान का खजाना है। 🙏🙏🙏🙏🙏 -कीर्ति गुप्ता

यह वेबसाइट बहुत ही रोचक और जानकारी से भरपूर है।🙏🙏 -समीर यादव

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 -User_sdh76o

Read more comments

५१ शक्ति पीठों का महत्व क्या है?

शक्ति पीठ भारतीय उपमहाद्वीप के विभिन्न हिस्सों में स्थित पवित्र स्थलों की एक श्रृंखला है, जो प्राचीन काल से अपने आध्यात्मिक महत्व के लिए पूजनीय हैं। देवी सती अपने पिता दक्ष के याग में भाग लेने गयी। वहां उनके पति महादेव का अपमान हुआ। माता सती इसे सहन नहीं कर पायी और उन्होंने यागाग्नि में कूदकर अपना प्राण त्याग दिया। भगवान शिव सती के मृत शरीर को लिए तांडव करने लगे। भगवान विष्णु ने उस शरीर पर अपना सुदर्शन चक्र चलाया। उसके अंग और आभूषण ५१ स्थानों पर गिरे। ये स्थान न केवल शक्तिशाली तीर्थस्थल बन गए हैं, बल्कि दुनिया भर के भक्तों को भी आकर्षित करते हैं जो आशीर्वाद और सिद्धि चाहते हैं।

यमुनोत्री जाने से पहले क्या मुझे कुछ और जानना चाहिए?

यमुनोत्री की यात्रा करते समय स्थानीय रीति-रिवाजों और परंपराओं का सम्मान करना महत्वपूर्ण है। यह सलाह दी जाती है कि आप यात्रा के दौरान मदिरा या अमांसीय आहार का सेवन न करें। यह भी सुझाव दिया जाता है कि आप कुछ नकदी साथ लें, क्योंकि दूरस्थ क्षेत्रों में एटीएम या कार्ड भुगतान सुविधाएँ उपलब्ध नहीं हो सकती हैं। अंत में, हमेशा स्थानीय प्राधिकारियों द्वारा दिए गए निर्देशों और दिशानिर्देशों का पालन करें, जिससे आपको सुरक्षित और पूर्णता से यात्रा का आनंद मिले।

Quiz

हमाती संस्कृति के अनुसार भोजन कैसे करना चाहिये ?
Hindi Topics

Hindi Topics

मंदिर

Click on any topic to open

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |