काव्यशास्त्रविनोदेन

काव्यशास्त्रविनोदेन कालो गच्छति धीमताम् ।
व्यसनेन हि मूर्खानां निद्रया कलहेन वा ।।

 

बुद्धिमान लोगों का काल काव्य पढकर, शास्त्र पढकर या उन के द्वारा विनोदपूर्वक संवाद के साथ यापित होता है । मूर्ख व्यक्तियों का काल नशा, नींद और झगडे आदि से व्यर्थ होता है ।

 

90.0K
1.3K

Comments

jmwxk
वेद पाठशालाओं और गौशालाओं के लिए आप जो अच्छा काम कर रहे हैं, उसे देखकर बहुत खुशी हुई 🙏🙏🙏 -विजय मिश्रा

यह वेबसाइट अत्यंत शिक्षाप्रद है।📓 -नील कश्यप

आपकी वेबसाइट से बहुत कुछ जानने को मिलता है।🕉️🕉️ -नंदिता चौधरी

वेदधारा का कार्य सराहनीय है, धन्यवाद 🙏 -दिव्यांशी शर्मा

वेदधारा को हिंदू धर्म के भविष्य के प्रयासों में देखकर बहुत खुशी हुई -सुभाष यशपाल

Read more comments

पुराणों के वेदव्यासीय कल्प के लक्षण क्या हैं?

आख्यान, उपाख्यान, गाथा और कल्पशुद्धि।

अन्नदान का श्लोक क्या है?

अन्नं प्रजापतिश्चोक्तः स च संवत्सरो मतः। संवत्सरस्तु यज्ञोऽसौ सर्वं यज्ञे प्रतिष्ठितम्॥ तस्मात् सर्वाणि भूतानि स्थावराणि चराणि च। तस्मादन्नं विषिष्टं हि सर्वेभ्य इति विश्रुतम्॥

Quiz

गणेश जी ने किसको श्राप दिया?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |