अभिमन्यु वध

abhimanyu

 

महाभारत का अभिमन्यु वध, कैसे दुष्ट लोग अपने उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए कुछ भी कर सकते हैं, इसका एक उदाहरण है।

यह धोखे और युद्ध के नियमों के घोर उल्लंघन की कहानी है।  

 

क्या कौरवों को लगता था कि वे अधार्मिक हैं?

नहीं। 

इसके विपरीत, उन्होंने सोचा कि वे ही धर्म के पक्ष में हैं। 

दुर्योधन ने सोचा कि क्षत्रिय धर्म के अनुसार, पराक्रमी को भूमि पर शासन करना चाहिए।

लेकिन कौरवों ने पांडवों को परास्त करके उनका राज्य प्राप्त नहीं किया।

यहां तक कि द्यूत क्रीडा द्वारा राज्य जीतने की भी अनुमति थी धर्म शास्त्र में।

लेकिन उसमें भी कौरवों ने धोखा ही दिया।

कौरव फले-फूले, लेकिन उनकी प्रगति झूठ और छल पर आधारित थी।

अभिमन्यु की हत्या इसका स्पष्ट उदाहरण थी।

जैसा कि धृतराष्ट्र ने स्वयं युद्ध के बाद संजय से कहा था - जिस प्रकार मेरे पुत्रों ने उस बालक का वध किया, मुझे विश्वास हो गया था कि हम युद्ध हारने वाले हैं।

 

चक्रव्यूह क्या था?

कुरुक्षेत्र युद्ध के तेरहवें दिन, द्रोणाचार्य ने चक्रव्यूह के गठन का आदेश दिया।

चक्रव्यूह का घूमने वाले पहिये का आकार था। 

द्रोणाचार्य को छोड़कर कौरव पक्ष के सभी दिग्गज व्यूह के अंदर मौजूद थे।

द्रोणाचार्य बाहर से उसकी रक्षा कर रहे थे।

अंदर हजारों घोड़े, हाथी और रथ थे।

चक्रव्यूह घातक था।

यह अपने रास्ते में आने वाली किसी भी चीज़ को निगल और खत्म कर सकता था।

चक्रव्यूह को तोड़ना लगभग असंभव था।

 

अभिमन्यु को चक्रव्यूह के अंदर क्यों जाना पड़ा?

अभिमन्यु सिर्फ सोलह वर्ष के थे।

युधिष्ठिर ने अभिमन्यु से चक्रव्यूह तोडने के लिए कहा।

यह इसलिए था क्योंकि केवल चार लोग ही चक्रव्यूह को तोड़ना जानते थे - कृष्ण, प्रद्युम्न, अर्जुन और अभिमन्यु।

उस समय, अर्जुन कृष्ण के साथ संशप्तकों से लड़ने में लगे हुए थे।

वहां केवल अभिमन्यु ही मौजूद थे।

 

क्या योजना थी?

अभिमन्यु चक्रव्यूह को तोड़ देंगे।

अन्य लोग भी उनके ठीक पीछे पीछे उनके द्वारा किए गए छिद्र से व्यूह में प्रवेश करेंगे।

युधिष्ठिर और भीम जैसे पांडव अभिमन्यु से आधे रथ की दूरी पर ही थे।

 

कैसे अभिमन्यु ने चक्रव्यूह में प्रवेश किया?

अभिमन्यु चक्रव्यूह के कमजोर स्थानों को जानते थे।

द्रोणाचार्य ने उन्हें दो घटिकों (४८ मिनट) तक रोकने की कोशिश की लेकिन वे असफल रहे।

अभिमन्यु द्रोणाचार्य को पार कर व्यूह की परिधि को तोड़कर अंदर प्रवेश किये।

 

क्या पांडव भी अंदर जा पाए?

नहीं।

वे व्यूह के बाहर ही रह गये।

अभिमन्यु ने जैसे ही अंदर प्रवेश किया, जयद्रथ ने व्यूह में छिद्र को बंद कर दिया।

जयद्रथ ने अकेले ही पांडव सेना को चक्रव्यूह में प्रवेश करने से रोक दिया।

उसे भगवान शिव से वरदान मिला था कि अर्जुन (कृष्ण के साथ) के अलावा, वह अकेले ही पूरी पांडव सेना का सामना कर सकता है।

 

चक्रव्यूह के अंदर अभिमन्यु का पराक्रम

अभिमन्यु को पता चला कि वे अंदर बिल्कुल अकेले हैं।

वे बस मुस्कुराकर आगे आक्रमण करते गये।

अभिमन्यु ने कौरवों के सहयोगी सैकड़ों राजाओं को मार डाला।

उन्होंने हजारों सैनिकों, घोड़ों और हाथियों को मार डाला।

उन्होंने हजारों रथों को चकनाचूर कर दिया।

 

अभिमन्यु पर एक साथ आक्रमण करने वाले छह महारथी कौन थे?

द्रोणाचार्य, कृपाचार्य, कर्ण, अश्वत्थामा, कृतवर्मा और बृहद्बल।

इनमें से अभिमन्यु ने बृहद्बल का वध किया।

बृहद्बल के स्थान पर दौश्शासनि (दुश्शासन का पुत्र) आया।

 

कौरवों ने धोखे का सहारा क्यों लिया?

उनके पास और कोई विकल्प नहीं था।

महारथियों को कई बार जान बचाकर भागना पड़ा।

जैसा कि शकुनि ने दुर्योधन से कहा - वह हम सभी को एक-एक करके मार डालेगा। इससे पहले हम सब मिलकर उसे मार डालें।

जैसा कि कर्ण ने द्रोणाचार्य से कहा - उनके बाण मेरी छाती पर आग की तरह जल रहे हैं। मैं भाग भी नहीं सकता। कृपया हमें उसे मारने का कोई तरीका बताएं।

 

क्या कहा द्रोणाचार्य ने?

अभिमन्यु अजेय है।

उसे सामान्य तरीके से हराया नहीं जा सकता।

उसकी धनुष की डोरी को पीछे से काटो।

उसके रथ को नष्ट कर दो।

एक-एक करके उसके हथियारों को निकालते जाओ।

तभी उसे मार पाओगे।

 

लेकिन फिर इसमें गलत क्या था?

वे परस्पर सहमत युद्ध के नियमों का खुलेआम उल्लंघन कर रहे थे। 

  • किसी पर पीछे से हमला नहीं करना चाहिए।
  • यदि किसी के पास धनुष न हो तो उस पर बाणों से प्रहार नहीं करना चाहिए।
  • यदि किसीके पास केवल तलवार है, तो उस पर केवल तलवार से ही हमला किया जाना चाहिए, किसी अन्य हथियार से नहीं।
  • यदि कोई जमीन पर खडा हो तो उस पर घोड़े, हाथी या रथ से हमला नहीं करना चाहिए।

 

 

महारथियों ने ऐसा ही किया 

  • कर्ण ने पीछे से अभिमन्यु पर हमला किया और उसकी धनुष की डोरी काट दी।
  • जब अभिमन्यु अपने धनुष के बिना था, तो उन्होंने उनके रथ को नष्ट कर दिया।
  • जब अभिमन्यु भूमि पर थे, तब महारथियों ने अपने रथों से उन पर बाणों की वर्षा की।
  • अभिमन्यु ने जब तलवार और ढाल निकाली तो उन्हें बाणों से नष्ट कर दिया।
  • जब अभिमन्यु ने अपने रथ का पहिया लिया, तो उन्होंने उसे बाणों से नष्ट कर दिया।

 

अभिमन्यु को आखिर मारा किसने?

दौश्शासनि ने।

लेकिन तब तक अभिमन्यु गंभीर रूप से घायल हो चुके थे।

उनके पूरे शरीर में बाणों ने वार किया था।

खून की धाराएँ बह रही थीं।

अभिमन्यु ने एक गदा उठाया। 

दौश्शासनि ने भी अपने गदा से युद्ध किया।

वे दोनों नीचे गिर पड़े।

दौश्शासनि ने पहले उठकर अभिमन्यु का सिर फोड़ दिया।

अपने अत्यधिक वीरता और वीरता के कारण, अभिमन्यु कृष्ण और अर्जुन के समान प्रसिद्ध हो गये

 

Recommended for you

गौ माता की महिमा

 

Devotional content

 

Image attribution

 

Ramaswamy Sastry and Vighnesh Ghanapaathi

Copyright © 2022 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |
Vedahdara - Personalize
Active Visitors:
3333650