स्कन्द पुराण

Skand

बदरीक्षेत्र और वहां भगवान के प्रसाद ग्रहण की विशेष महिमा

स्कन्द ने पूछा - प्रभो! भगवान् विष्णु वहाँ किसलिये निवास करते हैं? उनके दर्शन और स्पर्श आदि से किस पुण्य और किस फल की प्राप्ति होती है?

भगवान् शिव बोले - पहले सत्ययुग के आदि में भगवान् विष्णु सब प्राणियों का हित करने के लिये मूर्तिमान् होकर रहते थे। त्रेतायुग में ऋषिगणों को केवल योगाभ्यास से दृष्टिगोचर होते थे। द्वापर आने पर भगवान् सर्वथा दुर्लभ हो गये, उनका दर्शन कठिन हो गया। तब देवता और मुनि बृहस्पतिजी को आगे करके ब्रह्माजी के लोक में गये और उन्हें प्रणाम करके बोले - पितामह ! आपको नमस्कार है। आप समस्त जगत के आश्रय और शरणागतों के दु:ख दूर करनेवाले हैं। सुरेश्वर! आपका हृदय करुणा से भरा हुआ है। जबसे द्वापर आया है, विशाल बुद्धिवाले भगवान् विष्णु विशालापुरी (बदरिकाश्रम) में नहीं दिखायी देते हैं। इसका क्या कारण है, बतलाइये?

ब्रह्माजी बोले-देवताओ! मैं इस बातको नहीं जानता। आज तुम्हारे ही मुँहसे इसको सुना है। आओ, हम लोग क्षीरसमुद्र के तटपर चलें। ब्रह्माजीके ऐसा कहने पर देवता और तपोधन मुनि उन्हें आगे करके गये और क्षीरसागर पर पहुँचकर विचित्र पद एवं अर्थवाली वाणीद्वारा देवाधिदेव जगदीश्वर विष्णु की स्तुति करने लगे। ब्रह्माजी बोले- समस्त प्राणियों की हृदयगुफा में निवास करनेवाले पुरुषाध्यक्ष! आपको नमस्कार है। वासुदेव! आप सबके आधार हैं, संसार की उत्पत्ति के कारण हैं और यह समस्त जगत् आपका स्वरूप है। आप ही सम्पूर्ण भूतों के हेतु, पति और आश्रय हैं। एकमात्र सुन्दर पुरुषोत्तम! आप अपनी मायाशक्ति का आश्रय लेकर विचरते हैं। 

आगे पढने के लिये यहां क्लिक करें

 

 

 

 

25.7K

Comments

sayr2
वेदधारा के कार्य से हमारी संस्कृति सुरक्षित है -मृणाल सेठ

आपकी वेबसाइट ज्ञान और जानकारी का भंडार है।📒📒 -अभिनव जोशी

आप जो अच्छा काम कर रहे हैं उसे जानकर बहुत खुशी हुई -राजेश कुमार अग्रवाल

Ram Ram -Aashish

यह वेबसाइट ज्ञान का अद्वितीय स्रोत है। -रोहन चौधरी

Read more comments

गोदान संकल्प क्या है?

ॐ विष्णुर्विष्णुर्विष्णुः श्रीभगवतो महापुरुषस्य विष्णोराज्ञया प्रवर्तमानस्य, अद्य श्रीब्रह्मणो द्वितीय परार्धे श्वेतवराहकल्पे वैवस्वतमन्वन्तरे अष्टाविंशतितमे कलियुगे प्रथमे पादे जम्बूद्वीपे भारतवर्षे भरतखण्डे......क्षेत्रे.....मासे....पक्षे......तिथौ.......वासर युक्तायां.......नक्षत्र युक्तायां अस्यां वर्तमानायां.......शुभतिथौ........गोत्रोत्पन्नः......नामाहं श्रुतिस्मृतिपुराणोक्त-सत्फलावाप्त्यर्थं समस्तपापक्षयद्वारा सर्वारिष्टशान्त्यर्थं सर्वाभीष्टसंसिद्ध्यर्थं विशिष्य......प्राप्त्यर्थं सवत्सगोदानं करिष्ये।

दिव्य चक्षु

सबके अन्दर दिव्य चक्षु विद्यमान है। इस दिव्य चक्षु से ही हम सपनों को देखते हैं। पर जब तक इसका साधना से उन्मीलन न हो जाएं इससे बाहरी दुनिया नहीं देख सकते।

Quiz

दशरथ के राज पुरोहित कौन थे ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |