श्री राम जी की कुंडली: एक दिव्य संरचना

shri ram kundli

भगवान श्री राम जी, विष्णु के सातवें अवतार, अपनी दिव्य गुणों के लिए पूजनीय हैं। उनके जन्म के समय का ग्रह संयोजन उल्लेखनीय है। महर्षि वाल्मीकि की रामायण इस खगोलीय घटना का विवरण देती है, जो श्री राम जी के जीवन और शासन पर शक्तिशाली ग्रहों के प्रभाव को उजागर करती है। यह लेख वाल्मीकि रामायण का श्लोक और उनके जन्म के समय ग्रहों की उच्च स्थिति के आधार पर भगवान श्री राम जी की कुंडली की खोज करता है।

श्री राम जी का जन्म

वाल्मीकि रामायण (1.18.8-9) के अनुसार: 

ततो यज्ञे समाप्ते तु ऋतूनां षट्‌ समत्ययु:। ततश्च द्वादशे मासे चेत्रे नावमिके तिथौ॥ 

नक्षत्रेऽदितिदैवत्ये स्वोच्चसंस्थेषु पञ्चसु ग्रहेषु कर्कटे लग्ने वाक्पताविन्दुना सह॥

  • चैत्र शुक्ल नवमी: भगवान श्री राम जी का जन्म चैत्र माह की शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को हुआ था।
  • पुनर्वसु नक्षत्र: उनका जन्म पुनर्वसु नक्षत्र में हुआ था।
  • कर्क लग्न: उनके जन्म के समय लग्न कर्क था।
  • उच्च ग्रह: पाँच ग्रह उच्च स्थिति में थे, और बृहस्पति चंद्रमा के साथ युति में थे।

श्री राम जी के जन्म के समय उच्च ग्रह

ज्योतिषीय साक्ष्य और विद्वानों के व्याख्यानों के अनुसार, भगवान श्री राम जी के जन्म के समय निम्नलिखित ग्रह उच्च स्थिति में थे:

  • मेष राशि में सूर्य
  • मकर राशि में मंगल
  • कर्क राशि में बृहस्पति
  • मीन राशि में शुक्र
  • तुला राशि में शनि

श्री राम जी के जीवन पर उच्च ग्रहों का प्रभाव

सूर्य (मेष राशि में उच्च)

प्रभाव: नेतृत्व, अधिकार, और धर्मनिष्ठा। 

जीवन में प्रतिबिंब: श्री राम जी एक अद्वितीय राजा थे जिन्होंने न्याय और निष्पक्षता के साथ शासन किया। उनके नेतृत्व गुण अद्वितीय थे, और उन्हें उनके प्रजा और साथियों द्वारा गहराई से सम्मानित किया जाता था। उनका कर्तव्य और धर्म के प्रति समर्पण गहरा था।

मंगल (मकर राशि में उच्च)

प्रभाव: साहस, शक्ति, और दृढ़ संकल्प। 

जीवन में प्रतिबिंब: श्री राम जी ने रावण के खिलाफ युद्ध में अद्वितीय वीरता और सैन्य कौशल का प्रदर्शन किया। उनके 14 साल के वनवास और सीता की खोज में उनके कर्तव्यों को पूरा करने में उनकी दृढ़ता ने उनके अडिग आत्मा को प्रदर्शित किया।

बृहस्पति (कर्क राशि में उच्च)

प्रभाव: ज्ञान, आध्यात्मिकता, और परोपकार। 

जीवन में प्रतिबिंब: श्री राम जी अपने वेदों और शास्त्रों के ज्ञान के लिए जाने जाते थे। उनके गहरे आध्यात्मिक झुकाव और नैतिक सिद्धांत उनके कार्यों और निर्णयों का मार्गदर्शन करते थे। वह सभी प्राणियों के प्रति अपनी उदारता और दया के लिए भी जाने जाते थे।

शुक्र (मीन राशि में उच्च)

प्रभाव: सामंजस्य, प्रेम, और करुणा। 

जीवन में प्रतिबिंब: भगवान श्री राम जी के रिश्ते प्रेम और समर्पण से भरे थे, विशेषकर अपनी पत्नी सीता के प्रति। उनकी करुणा और अपने प्रजा के बीच सामंजस्य स्थापित करने की क्षमता उल्लेखनीय थी। वह कला और संस्कृति के संरक्षक भी थे, अपने राज्य में सुंदरता और परिष्कार का वातावरण बनाए रखते थे।

शनि (तुला राशि में उच्च)

प्रभाव: अनुशासन, न्याय, और धैर्य।

जीवन में प्रतिबिंब: भगवान श्री राम जी ने अनुशासन और न्याय की मजबूत भावना का उदाहरण प्रस्तुत किया। अपने कर्तव्य और धर्म के प्रति उनकी अडिग प्रतिबद्धता ने उनके जीवन की कठिनाइयों, जैसे वनवास और परीक्षणों, के दौरान उनकी सहनशीलता को प्रदर्शित किया। उनके शासन को श्री राम जी राज्य के रूप में जाना जाता था, जो सभी के लिए निष्पक्षता और समान न्याय से चिह्नित था।

निष्कर्ष

श्री राम जी की कुंडली, पाँच उच्च ग्रहों के साथ, एक अद्वितीय संरेखण का संकेत देती है जिसने उनके दिव्य व्यक्तित्व में योगदान दिया। प्रत्येक ग्रह का प्रभाव उनके चरित्र और जीवन के विभिन्न पहलुओं को आकार देने में मदद करता है, जिससे वह सामंजस्यपूर्ण और संतुलित व्यक्तित्व बने जिसके लिए उन्हें मनाया जाता है। भगवान श्री राम जी की कुंडली उनके अनुकरणीय गुणों और मानव भाग्य पर खगोलीय शक्तियों के गहरे प्रभाव का प्रमाण है।

68.6K
24.6K

Comments

sys6t
वेद पाठशालाओं और गौशालाओं का समर्थन करके आप जो प्रभाव डाल रहे हैं उसे देखकर खुशी हुई -समरजीत शिंदे

आपकी वेबसाइट बहुत ही विशिष्ट और ज्ञानवर्धक है। 🌞 -आरव मिश्रा

वेदधारा के साथ ऐसे नेक काम का समर्थन करने पर गर्व है - अंकुश सैनी

गुरुजी का शास्त्रों की समझ गहरी और अधिकारिक है 🙏 -चितविलास

आपकी मेहनत से सनातन धर्म आगे बढ़ रहा है -प्रसून चौरसिया

Read more comments

Knowledge Bank

गौ माता की उत्पत्ति कैसे हुई?

गौ माता सुरभि को गोलोक में भगवान श्रीकृष्ण ने अपने शरीर के बाएं हिस्से से उत्पन्न किया। सुरभि के रोम रोम से बछड़ों के साथ करोड़ों में गायें उत्पन्न हुई।

घर पर आरती कैसे करें?

सबसे पहले देवता के मूल मंत्र से तीन बार फूल चढायें। ढोल, नगारे, शङ्ख, घण्टा आदि वाद्यों के साथ आरती करनी चाहिए। बत्तियों की संख्या विषम (जैसे १, ३, ५, ७) होनी चाहिए। आरती में दीप जलाने के लिए घी का ही प्रयोग करें। कपूर से भी आरती की जाती है। दीपमाला को सब से पहले देवता की चरणों में चार बार घुमाये, दो बार नाभिदेश में, एक बार चेहरे के पास और सात बार समस्त अङ्गोंपर घुमायें। दीपमाला से आरती करने के बाद, क्रमशः जलयुक्त शङ्ख, धुले हुए वस्त्र, आम और पीपल आदि के पत्तों से भी आरती करें। इसके बाद साष्टाङ्ग दण्डवत् प्रणाम करें।

Quiz

कृष्ण द्वैपायन किसका नाम है ?
Add to Favorites

Other languages: English

Hindi Topics

Hindi Topics

ज्योतिष

Click on any topic to open

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |