राधा किसका अवतार थी?

radha with krishna

गर्ग संहिता के अनुसार भगवान श्रीकृष्ण का परम धाम गोलोक है जो कैलाश और वैकुण्ठ से भी ऊपर है।

वहां भगवान, राधा रानी और गोपीजनों के साथ निवास करते हैं।

पृथ्वी को दुष्ट असुरों से बचाने के लिए भगवान ने वसुदेव और देवकी के पुत्र के रूप में अवतार लिया।

उस समय गोलोक से राधा जी भी वृषभानु पुत्री राधा के रूप में वृन्दावन में अवतार ली।

गोलोक के गोपीजन वृन्दावन के गोप और गोपिका बन गये।

इसका प्रमाण है -

भगवानुवाच -  त्वया सह गमिष्यामि मा शोचं कुरु राधिके।

हरिष्यामि भुवो भारं करिष्यामि वचस्तव॥ (ग.सं. ३.३१)

इसके अनुसार राधा गोलोक में भगवान श्रीकृष्ण की वल्लभा राधा रानी का ही अवतार थी।

 

81.4K

Comments

2zmqj

मंगल चण्डिका स्तोत्र किसके बारे में है?

मंगल चण्डिका मां दुर्गा का एक स्वरूप है। सबसे पहले महादेव ने मंगल चण्डिका की पूजा की थी, त्रिपुर के युद्ध के समय। देवी त्रिपुर दहन में भगवान की शक्ति बन गई। यह देवी हमेशा १६ वर्ष की होती है और उनका रंग सफेद चंपा के फूल जैसा है। जिनकी कुंडली में मंगल ग्रह की पीडा हो वे विशेष रूप से मंगल चण्डिकाकी पूजा कर सकते हैं।

क्या द्वारका पानी में डूबी हुई है?

हाँ। यादवों ने आपस में लडकर और एक दूसरे को मार डाला। कृष्ण वैकुण्ठ लौट गये। अर्जुन ने शेष निवासियों को द्वारका से बाहर निकाला। तब द्वारका समुद्र में डूबी।

Quiz

१३वीं शताब्दी की कोरिया की रानी हु ह्वांग - ओक का भारत में किस स्थान से संबंध था ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |