जय रघुनन्दन जय सियाराम

 

जय रघुनन्दन जय सियाराम,

हे दुखभंजन तुम्हे प्रणाम।।

 

भ्रात भ्रात को हे परमेश्वर

स्नेह तुन्ही सिखलाते,

नर नारी के प्रेम की ज्योति,

जग में तुम्ही जलाते,

ओ नैया के खेवन हारे,

जपूं मै तुम्हरो नाम,

जय रघुनंदन जय सियाराम,

हे दुखभंजन तुम्हे प्रणाम।।

 

तुम ही दया के सागर प्रभु जी,

चैन तुम्ही से पाए बेकल,

मनवा सांझ सकारे,

जो भी तुम्हरी आस लगाये,

ने उसी के काम,

जय रघुनंदन जय सियाराम,

हे दुखभंजन तुम्हे प्रणाम।।

 

जय रघुनन्दन जय सियाराम,

हे दुखभंजन तुम्हे प्रणाम।।

81.7K
3.7K

Comments

b3wmG
कितने सुन्दर सुन्दर, कर्ण प्रिय,भजनों को पहले ही रचा जा चुका हे,,वो भी आज से, 50,,60,साल, पहले,, कितने दूरदर्शी और विद्वान रहे होंगे,,इनके रचियता 😌🙏 -Ram Pandey

इस भजन को सुनकर आखों से आसू आने लगे, क्या गाया है! प्रभु आनंद आ गया सुनकर। जय श्री राम, जय रघुनंदन जय सिया राम 🙏🙏🙏🙏🙏 -Bhuvanesh

Dil ko hila denewala madhur Bhajan 👏👏😌😇 -rajkumar

अब ऐसी फिल्म कहां बन रही हैं जो जीवन को भगवान के साथ जुड़ने के लिए प्रेरित करें। सच में अगर जीवन में सुख चाहिए तो भगवान का आश्रय लेकर ही चलना पड़ेगा पुरुषार्थ करते हुए भी 🌹 -Netar S

🙏 जय श्री सीताराम जय श्री राधेकृष्ण जय श्री श्याम जय श्री संकट मोचन जी श्री हनुमान जी महाराज जी ॐ नमः पार्वती पते हर हर महादेव जय जय श्री मां लक्ष्मीनारायण जी की जय हो ❤️ -Purnima, Kanpur

Read more comments

गणेश जी की पूजा करते समय कौन सा मंत्र बोलना चाहिए?

गणेश जी की पूजा करते समय बोलने के लिए सरल और प्रभावशाली मंत्र है - ॐ गँ गणपतये नमः ।

नैमिषारण्य की परिक्रमा कितनी लंबी होती है ?

नैमिषारण्य की ८४ कोसीय परिक्रमा है । यह फाल्गुन मास की शुक्ल पक्ष प्रतिपदा को शुरू होकर अगले पन्द्रह दिनों तक चलती है ।

Quiz

श्रीकृष्ण ने अक्रूर को यमुनाजल में कहां दिव्य दर्शन दिया था ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |