हनुमान शाबर मंत्र - चमत्कारी मंत्र प्रयोग

Hanuman Ji

हनुमान शाबर मंत्र - पञ्चमुखी 

(१) काली काली महाकाली इन्द्र की बेटी, ब्रह्मा की साली, हांक पड़े महादेव के पूजा देहुं रक्त के, भूत प्रेत मरीमसान, आवत हे पञ्चमुखी हनुमान, गदा ला चलाही, तोर गोदी ला खाही, सत के महादेव होवें तो मसान ला भगावें । दुहाई गौरी पार्वती के ।

 

(२) भाग भाग भूत भाग भाग मसान, आवत है पञ्चमुखी हनुमान, गदा ला चलाहि, तोर करेजा ला खाही, आगी में जलाही, तेल में पकाही, मन के राव, मन का दुआ करे । भूत प्रेत के पीरा ला हरे । सत् के महादेव होवे तो अमुक के रक्षा करवें, मोर अरजी विनती ला सुनवे, दुहाई पारबती दाई के ।

 

अमुक के स्थान पर पीडित व्यक्ति का नाम लेवे ।

 

एक मुट्ठी पीली सरसों को २१ बार मन्त्रित कर पीडित व्यक्ति के सिर पर घुमाकर आग में डालें, यदि मांस जलने जैसी गंध आये तो समझें दोष दूर हो गया।


 

हनुमान शाबर मंत्र -  सर्वकार्य सिद्धि के लिए

ॐ पीर बजरंगी राम लक्ष्मण के संगी, जहां जहां जाए, फतह के डंके बजाये, दुहाई माता अञ्जनि की आन ।

किसी भी कार्य के लिए घर से निकलते समय इस मंत्र का ११ बार जाप करें ।


 

हनुमानजी का आकर्षण मन्त्र

ॐ नमो आदेस गुरु का । हनुमान का ध्यान जाने, सारे रामचन्द्र के काज, भूत को वश करे, प्रेत को वश करे, वादी को मारे, धारे तेल और सिन्दूर, जासे भागे वैरी दूर, सत्य वीर हनुमान, बारह बरस का जवान, हाथ में लड्डू मुख में पान, हनुमान गुणवन्ता गजवन्ता धारे तार, गद्दी बैठे राज करन्ता, अंजनी की दुहाई, पवन पिता की दुहाई, सीता सती की दुहाई, तेरी शक्ति गुरु की भक्ति फुरो मन्त्र ईश्वरो वाचा |

 

विशाखा नक्षत्र युक्त  चन्द्र ग्रहण में जाप प्रारंभ करें । ४१ दिन में ४१ हजार जप करें । गुगल धूप दीप लड्डु व पान चढ़ावें । हनुमान जी प्रसन्न होकर सब कार्य  सिद्ध करेंगे ।

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |