वेद व्यास जी का असली नाम क्या था?

Veda Vyasa

 

यह बहुत दिलचस्प है।

आज के दिन उनका असली नाम कृष्ण द्वैपायन है।

इस नाम के दो भाग हैं।

कृष्ण + द्वैपायन।

कृष्ण - काले रंग के।

द्वैपायन - द्वीप पर पैदा हुआ।

 

 

 

क्या आप जानते हैं कि वर्तमान वेद व्यास का जन्म कैसे हुआ था?

व्यास की माता थी सत्यवती ।

वह पराशर ऋषि को यमुना नदी के पार ले जा रही थी नाव से ।

उनका मिलन नदी के एक द्वीप पर हुआ था।

सत्यवती ने तुरंत गर्भावस्था पूरी की और उस द्वीप पर ही व्यास जी को जन्म दिया ।

 

क्या व्यास बदलते रहते हैं?

हाँ।

व्यास एक पद है।

वर्तमान चतुर्युग में, जो वर्तमान मन्वंतर (वैवस्वत) में अट्ठाईसवां है, कृष्ण द्वैपायन व्यास जी के पद पर प्रतिष्ठित हैं ।

 

कृष्ण द्वैपायन से पहले के व्यास कौन कौन थे?

यह पूरी सूची है।

प्रथम - स्वायंभुव

दूसरा - प्रजापति

तीसरा - उशना

चौथा - बृहस्पति

पांचवां - सविता

छठा - मृत्यु

सातवां - इंद्र

आठवां - वशिष्ठ

नौवां - सारस्वत

दसवां - त्रिधा

ग्यारहवां - त्रिवृष

बारहवां - भरद्वाज

तेरहवां - अन्तरिक्ष

चौदहवां - वप्री

पन्द्रहवां - त्रय्यारुण

सोलहवां - धनंजय

सत्रहवां - क्रतुंजय

अठारहवां - ऋणज्य

उन्नीसवां - भरद्वाज

बीसवां - गौतम

इक्कीसवां - हर्यात्मा

बाईसवां - वाजश्रवा

तेईसवां - तृणबिन्दु

चौबीसवां - वाल्मीकि

पच्चीसवां - शक्ति

छब्बीसवां - पराशर

सत्ताईसवां - जातुकर्ण

अट्ठाईसवां - कृष्ण द्वैपायन

आगामी उनतीसवें चतुर्युग के व्यास द्रोण के पुत्र अश्वत्थामा होंगे।

पुराण और महाभारत लिखना और वेदों का विभाग करना - ये व्यास जी की जिम्मेदारियां हैं ।




15.9K

Comments

pfwdw
this website is a bridge to our present and futur generations toour glorious past...superly impressed -Geetha Raghavan

Every pagr isa revelation..thanks -H Purandare

Superrrrrr..thanks.. -Sakshi Sthul

Glorious! 🌟✨ -user_tyi8

Praying for Health wealth and peace -Bhavesh Mahendra Dave

Read more comments

नाम बडा या भगवान?

भगवान और उनके नाम अविच्छेद्य हैं। गोस्वामी तुलसीदास जी के अनुसार भगवन्नाम का प्रभाव भगवान से अधिक हैं। भगवान ने जो प्रत्यक्ष उनके संपर्क में आये उन्हें ही सुधारा। उनका नाम पूरे विश्व में आज भी करोडों का भला कर रहा है।

अनाहत चक्र के गुण और स्वरूप क्या हैं?

अनाहत चक्र में बारह पंखुडियां हैं। इनमें ककार से ठकार तक के वर्ण लिखे रहते हैं। यह चक्र अधोमुख है। इसका रंग नीला या सफेद दोनों ही बताये गये है। इसके मध्य में एक षट्कोण है। अनाहत का तत्त्व वायु और बीज मंत्र यं है। इसका वाहन है हिरण। अनाहत में व्याप्त तेज को बाणलिंग कहते हैं।

Quiz

कालिय यमुना में क्यों रहता था ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |