राधेश्याम रामायण

radheshyam ramayan pdf cover page

29.2K

Comments

xiv66
நன்றி 🌹 -சூரியநாராயணன்

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 -sivaramakrishna sharma

சிறந்த website.. thanks🙏🙏 -தைலாம்பாள்

Read more comments

பீஷ்மாச்சாரியார் யாருடைய அவதாரம்?

பீஷ்மர் அஷ்ட-வசுக்களில் ஒருவரின் அவதாரம்.

சப்தரிஷி என்பவர்கள் யார்?

சப்தரிஷிகள் மிகவும் முக்கியமான ஏழு ரிஷிகள் ஆவார்கள். இவர்கள் யுகங்களில் மாற்றக் கூடியவர்கள் ஆவார். வேதாங்க ஜோதிடத்தின் அடிப்படையில் சப்தரிஷி மண்டலத்தில் உள்ள பிரகாசமான அந்த ஏழு ரிஷிகள் அங்கிரஸ், அத்ரி, க்ரது, புலஹர், புலஸ்த்யர், மரீசீ மற்றும் வஸிஷ்டர் ஆவார்கள்.

Quiz

புராணத்தில், பெண்ணாக பிறந்த ஒருத்தி, ஆணாக மாறி, மறுபடியும் பெண்ணாக மாறி இறுதியில் நிரந்தரமாக ஆணாகினாள். அவள் யார்?

यह कोमल तन, सुकुमार, कहाँ? वह कहाँ विपिन सङ्कटमय है? जिसमें वनचरों, राक्षसों का व्यालों का, बाघों का भय है ॥   अय कैसा, जब साथ है मेरे रघुकुलराज ? 

वैदेहो ने वचन यह, कहे -  छोड़कर लाज ॥ जब दर्शन सुखमय का होगा तो कानन सङ्कटमय कैसा ? सिंहिनी सिंह के साथ रहे तो उसको डर या भय कैसा? क्या कहा जानको कोमल है ? जो नहीं गमन के लायक है। जानकीनाथ, क्या है कठोर ? उनका तन वन के लायक है ? कहने को हम अबलाएँ हैं, पर हममें कितने ही बल हैं। हम कठोर से भी हैं कठोर, हम कोमल से भो कोमल हैं । सुखियों को भी दुख सहनशक्ति आती अवसर पढ़ने पर है। मन साथ लिया जाए तो फिर जङ्गल या महल बराबर है ॥ मोटे मोटे गद्दों पर भी - अनमना जिन्हें होते देखा । आपड़ा समय तो उनको ही-काँटों पर है सोते देखा ॥  रघुराई कहने लगे-  हैं यह वचन उदार किन्तु तुम्हारे गमन में बाधक एक विचार ॥

में कैसे ले चल सकता हूँ ? जब हूँ आज्ञा के बन्धन में। मँझली माँ ने यह नहीं कहा   सोता भी जाएगी वन में ॥ अब तुमका साथ ले चलूँ तो वह बात धान की जाती है। माँ कह देंगो-   वनवास   कहाँ!-जब साथ जानको जाती है?  यह सुन बोलीं जानकी-  है यदि यही विचार-

तो पहले कर चुकीं हूँ मैं इसका प्रतिकार ॥ कर चुकीं बड़ी माता मुझसे वे योगी तो तू योगिनि हो ।   दे चुकीं, मुझे भी आज्ञा यह   बाजे ! तू भी बनवासिनि हो   ॥

पति उधर श्राज्ञा पाल रहे, मैं इधर आज्ञा पालूँगी । पति अपना धर्म संभाल रहे, मैं अपना धर्म सँभालूँगो ॥ दासी है प्रभु की अर्द्धाङ्गिन, छाया को भाँति साथ में है ॥ मेरे जीवन की डोरी तो प्राणेश्वर, इसी हाथ में है ॥

जैसे दो जानन्द मीन को अथाह सागर में, मणि से हो जैसे कि जानन्द जहिफण में । चन्द्रमा के सामने चकोर को धानन्द जैसे, जैसे हो आनन्द युवती को आभरण में ॥ प्रजा को जानन्द जैसे प्रजाप्रिय राजा से ही, भक्त को आनन्द जैसे हरि की शरण में ॥ र को आनन्द जैसा राज-निधि पाए से हो, वैसा है आनन्द मुके - आपके चरण में है

मैं इस मन्दिर की हूँ पुजारिबि, मेरे प्रभुवर तुम्हीं तो हो ॥ मेरे जप तुम मेरे तप-तुम, मेरे ईश्वर तुम्हीं तो हो मैं जातकिनी, स्वाति -बिन्दु तुम, मुख चकोरिनो के तुम पन्छ ॥ मैं नलिनो हूँ, तुम

मैं भ्रमरो हूँ, तुम सूरज हो, मकरन्द ॥

शुक रोगिनि की हो तुम औषध, मुझ बीना के तुम सुखकन्द मुझ गरीबिनी के तुम घन हो, मुझ भिखारिनी के आनन्द ॥  राधेश्याम  इस अवक्षा के- बल तुम्ही तो हो, पर तुम्हीं तो हो मेरे जप तुम, मेरे तप तुम, मेरे ईश्वर तुम्ही तो हो ॥ 

नीर बहाने लग गई फिर नयनों की कोर । अब के मानो धूप में था वर्षा का जोर ॥ उधर अश्रु-जल होगया माँ को दवा -समान । इधर -  यही है तो चलो  बोले कृपानिधान ॥ कुछ ही क्षण में होगई निश्चित यह सब बात । मूर्च्छा से जबतक जगें श्रीकौशल्पा मात ॥ दिया सहारा बहु ने मिला जरा आराम । बूढ़ी आँखों ने तभी - देखा अपना राम ॥ पलभर को भूल गई मैया - कैसा वन कैसा राजतिलक । बोली- ला बहू तनिक रोली, काढूँ माथे पर आज तिलक ॥  फिर कहा -   कह गई मैं यह क्या । बेटा, तू तो वन जाता है। तन जाता है, मन जाता है, धन जाता है, जन जाता है ॥ क्या सचमुच मेरा नेह जोड़-जोड़ोगे नाता आज्ञा से ? क्या सचमुच वनवासी होगे, तोड़ोगे प्रीति अयोध्या से ? क्या सचमुच आन कर चुके हो चौदह वर्षों तक थाने की ? क्या सचमुच राजा ने तुमको, दी है-आज्ञा वन जाने की ?  यह ही कहते हुए - फिर मौन होगई मात । हाथ जोड़कर राम ने तुरत कही यह बात-  मैया, मैया क्या बतलाऊँ ? अब तो विचार ऐसा ही है। मुझको तो जैसा राजतिलक, वन जाना भी वैसा ही है ॥ मुझको भी अधिक चाकरी को है भरत आपका दास यहाँ । दुख क्या है ?

वन जा रहा एक दूसरा पुत्र है पास यहाँ ॥  

यह सच है पर एक भी वह क्यों वन को जाय ?  लगीं सोचने- उसी क्षण - माता उचित उपाय |

Ramaswamy Sastry and Vighnesh Ghanapaathi

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |