रक्षा के लिए शिव मंत्र

72.4K

Comments

zGt5z

गोदान की विधि

सुपुष्ट सुंदर और दूध देने वाली गाय को बछडे के साथ दान में देना चाहिए। न्याय पूर्वक कमायी हुई धन से प्राप्त होनी चाहिए गौ। कभी भी बूढी, बीमार, वंध्या, अंगहीन या दूध रहित गाय का दान नही करना चाहिए। गाय को सींग में सोना और खुरों मे चांदी पहनाकर कांस्य के दोहन पात्र के साथ अच्छी तरह पूजा करके दान में देते हैं। गाय को पूरब या उत्तर की ओर मुह कर के खडा करते हैं और पूंछ पकडकर दान करते हैं। स्वीकार करने वाला जब जाने लगता है तो उसके पीछे पीछे आठ दस कदम चलते हैं। गोदान का मंत्र- गवामङ्गेषु तिष्ठन्ति भुवनानि चतुर्दश। तस्मादस्याः प्रदानेन अतः शान्तिं प्रयच्छ मे।

मृत्यु का सृजन

सृष्टि के समय, ब्रह्मा ने कल्पना नहीं की थी कि दुनिया जल्द ही जीवित प्राणियों से भर जाएगी। जब ब्रह्मा ने संसार की हालत देखी तो चिंतित हो गए और अग्नि को सब कुछ जलाने के लिए भेजा। भगवान शिव ने हस्तक्षेप किया और जनसंख्या को नियंत्रण में रखने के लिए एक व्यवस्थित तरीका सुझाया। तभी ब्रह्मा ने उसे क्रियान्वित करने के लिए मृत्यु और मृत्यु देवता की रचना की।

Quiz

व्यासजी को पुत्र प्राप्ति के लिए वर किसने दिया ?

शूलहस्ताय विद्महे महादेवाय धीमहि तन्न ईशः प्रचोदयात्....

शूलहस्ताय विद्महे महादेवाय धीमहि तन्न ईशः प्रचोदयात्

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |