Special - Vidya Ganapathy Homa - 26, July, 2024

Seek blessings from Vidya Ganapathy for academic excellence, retention, creative inspiration, focus, and spiritual enlightenment.

Click here to participate

यमुनोत्री - यमुना नदी का उद्गम स्थल

यमुनोत्री, हिमालय में स्थित यमुना नदी का उद्गम स्थल है। इस लेख में जानें यमुनोत्री के बारे में, इसकी महत्ता और आध्यात्मिकता के बारे में। यह स्थान भारतीय धार्मिक और आध्यात्मिक यात्रियों के लिए एक पवित्र स्थान है जहां प्रकृति और आध्यात्मिकता का एक साथ अनुभव किया जा सकता है।


 

 

यमुनोत्री क्या है?

यमुनोत्री यमुना नदी का उद्गम स्थल है। यह भारतीय राज्य उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में स्थित एक प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है। यमुनोत्री उत्तराखंड के छोटा चार धाम में से एक है। यमुनोत्री बन्दरपूँछ पर्वत के शीर्ष पर स्थित है जो गढ़वाल हिमालय का हिस्सा है। यमुना समुद्र तल से ४४२१ मीटर की ऊंचाई पर एक जमे हुए झील और ग्लेशियर से निकलती है। इस स्थान को कलिन्द पर्वत कहा जाता है। यहां पहुंचना बडा कठिन है। कलिन्द पर्वत की तलहटी में यमुना माता को समर्पित एक मंदिर को यमुना की उत्पत्ति माना जाता है। यमुनोत्री धाम अक्सर चार धाम यात्रा का पहला पड़ाव होता है।

 

यमुनोत्री कैसे पहुंचें?

यमुनोत्री तक पहुंचने के लिए, आपको पहले देहरादून शहर जाना होगा, जो हवाई, रेल और सड़क से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। देहरादून से, आप टैक्सी या बस द्वारा बरकोट पहुंच सक्ते हैं । बरकोट से आपको जानकी चट्टी जाना है । देहरादून से जानकी चट्टी की यात्रा लगभग ८ घंटे की है । जानकी चट्टी से, यमुनोत्री लगभग ६ किमी की पैदल चढ़ाई है और इसमें लगभग ३ घंटे लगते हैं।

यमुनोत्री को हरिद्वार से ऋषिकेश - टिहरी - बरकोट होते हुए पहुँचा जा सकता है। इसकी दूरी करीब २५० किलोमीटर है। 

 

Google Map Image

 

यमुनोत्री का धार्मिक महत्त्व क्या है?

यमुना सूर्य देव की पुत्री है। उन्हें कालिंदी भी कहा जाता है क्योंकि सूर्य देव का एक नाम, कलिंद भी है। मृत्यु के देवता यम यमुना के भाई हैं।

असित ऋषि यहीं रहते थे।

बन्दरपूँछ पर्वत का यह नाम इसलिए है क्योंकि यही वह जगह है जहां हनुमानजी ने लंका को जलाने के बाद अपनी पूंछ की आग को बुछाया था। 

 

यमुनोत्री में मंदिर का निर्माण किसने करवाया था?

यमुनोत्री मंदिर १९ वीं शताब्दी में जयपुर की महारानी गुलेरी द्वारा बनाया गया था।

 

यमुनोत्री जाने का सबसे अच्छा समय क्या है?

यमुनोत्री जाने का सबसे अच्छा समय मई से जून और सितंबर से अक्टूबर तक है। इन महीनों के दौरान, मौसम सुखद है, और मंदिर तीर्थयात्रियों के लिए खुला है। हालांकि, भारी बारिश के कारण मानसून के मौसम (जुलाई और अगस्त) से बचने की सलाह दी जाती है, जिससे ट्रैकिंग मार्ग फिसलन भरा और खतरनाक हो सकता है।

 

यमुनोत्री के पास ठहरने की क्या सुविधा है?

हाँ, विभिन्न बजटों के अनुरूप यमुनोत्री के पास कई आवास उपलब्ध हैं। जानकी चट्टी और हनुमान चट्टी के आस - पास गेस्टहाउस, लॉज और आश्रम मिल जाते हैं। 

 

यमुनोत्री के पास कोई अन्य आकर्षण क्या हैं?

सूर्य कुंड, एक प्राकृतिक गर्म पानी का झरना, मंदिर के पास स्थित है और इसे पवित्र माना जाता है। यमुनोत्री मंदिर में प्रवेश करने से पहले पूजा की जाने वाली दिव्य शिला एक और महत्वपूर्ण आकर्षण है। इसके अतिरिक्त, आप अपनी यात्रा के दौरान आसपास के पहाड़ों और घाटियों की सुंदरता का आनंद ले सकते हैं।

 

क्या यमुनोत्री जाते समय कोई सावधानी बरतनी चाहिए?

यमुनोत्री का दौरा करते समय, कुछ सावधानी बरतना महत्वपूर्ण है। मंदिर की यात्रा में खड़ी और चट्टानी इलाके शामिल हैं, इसलिए आरामदायक ट्रेकिंग जूते पहनने और पानी, स्नैक्स और सनस्क्रीन जैसी आवश्यक वस्तुओं को ले जाने की सलाह दी जाती है। यात्रा शुरू करने से पहले स्वास्थ्य के बारे में अपने डॉक्टर से परामर्श करने की भी सिफारिश की जाती है, क्योंकि उच्च ऊंचाई कुछ व्यक्तियों के लिए परेशानी दे सकती है।

 

 

17.7K
1.2K

Comments

2a3xq
Om namo Bhagwate Vasudevay Om -Alka Singh

आपकी वेबसाइट जानकारी से भरी हुई और अद्वितीय है। 👍👍 -आर्यन शर्मा

सनातन धर्म के भविष्य के लिए वेदधारा का योगदान अमूल्य है 🙏 -श्रेयांशु

वेद पाठशालाओं और गौशालाओं के लिए आप जो अच्छा काम कर रहे हैं, उसे देखकर बहुत खुशी हुई 🙏🙏🙏 -विजय मिश्रा

सनातन धर्म के भविष्य के प्रति आपकी प्रतिबद्धता अद्भुत है 👍👍 -प्रियांशु

Read more comments

Knowledge Bank

यमुनोत्री जाने से पहले क्या मुझे कुछ और जानना चाहिए?

यमुनोत्री की यात्रा करते समय स्थानीय रीति-रिवाजों और परंपराओं का सम्मान करना महत्वपूर्ण है। यह सलाह दी जाती है कि आप यात्रा के दौरान मदिरा या अमांसीय आहार का सेवन न करें। यह भी सुझाव दिया जाता है कि आप कुछ नकदी साथ लें, क्योंकि दूरस्थ क्षेत्रों में एटीएम या कार्ड भुगतान सुविधाएँ उपलब्ध नहीं हो सकती हैं। अंत में, हमेशा स्थानीय प्राधिकारियों द्वारा दिए गए निर्देशों और दिशानिर्देशों का पालन करें, जिससे आपको सुरक्षित और पूर्णता से यात्रा का आनंद मिले।

क्या यमुनोत्री मंदिर के परिसर में फोटोग्राफी की अनुमति है?

नहीं, यमुनोत्री मंदिर के परिसर में फोटोग्राफी की अनुमति नहीं है। हालांकि, आप पास के दृश्यसुंदर परिदृश्यों और आकर्षणों की फोटोग्राफी ले सकते हैं।

Quiz

यमुना के पिता कौन है?
Add to Favorites

Other languages: English

Hindi Topics

Hindi Topics

मंदिर

Click on any topic to open

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |