भगवान में रुचि कैसे विकसित करें?

70.9K

Comments

frku6
यह वेबसाइट ज्ञान का खजाना है। 🙏🙏🙏🙏🙏 -कीर्ति गुप्ता

आपकी वेबसाइट से बहुत कुछ जानने को मिलता है।🕉️🕉️ -नंदिता चौधरी

वेदधारा को हिंदू धर्म के भविष्य के प्रयासों में देखकर बहुत खुशी हुई -सुभाष यशपाल

वेदधारा से जुड़ना एक आशीर्वाद रहा है। मेरा जीवन अधिक सकारात्मक और संतुष्ट है। -Sahana

आपकी वेबसाइट से बहुत सी महत्वपूर्ण जानकारी मिलती है। -दिशा जोशी

Read more comments

द्वारका किस समुद्र में डूबी हुई है?

अरब सागर में।

महाभारत के युद्ध में कितनी सेना थी?

महाभारत के युद्ध में कौरव पक्ष में ११ और पाण्डव पक्ष में ७ अक्षौहिणी सेना थी। २१,८७० रथ, २१,८७० हाथी, ६५, ६१० घुड़सवार एवं १,०९,३५० पैदल सैनिकों के समूह को अक्षौहिणी कहते हैं।

Quiz

इनमें से माता छिन्नमस्ता का मन्दिर कौन सा है ?

श्रीमद भागवत भगवान की कहानियों में, भगवान में रुचि विकसित करने के लिए दो निश्चित मार्गों के बारे में बताता है। भगवान की कहानियाँ क्यों? क्योंकि यही भागवत का मार्ग है। सिर्फ उनकी कहानियों को सुनकर, आप उच्चतम लक्ष्य, उनके चर....

श्रीमद भागवत भगवान की कहानियों में, भगवान में रुचि विकसित करने के लिए दो निश्चित मार्गों के बारे में बताता है।
भगवान की कहानियाँ क्यों?
क्योंकि यही भागवत का मार्ग है।
सिर्फ उनकी कहानियों को सुनकर, आप उच्चतम लक्ष्य, उनके चरण कमल भी प्राप्त कर सकते हैं।
किसी और चीज़ की ज़रूरत नहीं है।
लेकिन एक नौसिखिया नहीं जानता कि उनकी कहानियों में इतना अच्छा क्या है।
उसे नहीं पता कि उन कहानियों में क्या है।
इन दिनों जब एक नई फिल्म रिलीज़ होती है, इससे पहले ट्रेलर सामने आता है, कहानी का सारांश सामने आता है, कैप्शन के साथ विज्ञापन होते हैं जो हमें बताते हैं कि उस फिल्म में क्या है।
लेकिन उस समय कोई टीवी नहीं था, कोई प्रिंट मीडिया नहीं था, कोई सोशल मीडिया नहीं था, कोई यूट्यूब नहीं था।
तो यहां तक कि पुस्तक के अंदर क्या है, यह उस पुस्तक के माध्यम से ही बताना पडता था।
यह पुस्तक की शुरुआत में लिखा जाता था।

लेकिन यहाँ सवाल यह है कि - मुझे भगवान की कहानियों में कोई दिलचस्पी नहीं है।
मैं क्या करूँ?
इसके लिए भागवत २ समाधान देता है।

शुश्रूषोः श्रद्दधानस्य वासुदेवकथारुचिः।
स्यान्मत्सेवया विप्राः पुण्यतीर्थनिषेवणात्॥

1 - तीर्थयात्रा करें
2 - भगवान के भक्तों की सेवा करें।

तीर्थयात्रा पर क्यों जाएं?
जब आप दिन - प्रतिदिन के जीवन में उलझ जाते हैं, तो समय निकालना मुश्किल होता है।
तो दिनचर्या से दूर हो जाओ।
दूसरी बात यह है कि वृंदावन और काशी जैसी जगहों पर साल - भर प्रवचन होते हैं, साल - भर कहानी सुनाई जाती है।
महात्मा इन पवित्र तीर्थों में रहना पसंद करते हैं।
और आप उन्हीं से सुनते और सीखते हैं।

हमने देखा है कि भगवान अपने भक्तों के दिलों में रहते हैं।
तो अगर आप उनके साथ हैं, तो आप भगवान के साथ हैं।
यदि आप उनकी सेवा करते हैं, तो आप भगवान की सेवा कर रहे हैं।
जितना अधिक आप भक्तों के साथ रहते हैं, उनके साथ बातचीत करते हैं, उनके आचरण और व्यवहार का निरीक्षण करते हैं, आप स्वयं महसूस करेंगे कि भगवान के भक्त होने से उनमें कितना बड़ा परिवर्तन हुआ है।
यह आपको प्रेरित करेगा।
आप उनके व्यक्तिगत दिव्य अनुभवों को जान पाएंगे।
यह आपको प्रेरित करेगा।
यह आपको भगवान में रुचि लाएगा, भगवान की कहानियों को सुनने में रुचि लाएगा।

इसका मतलब है, ज्ञानी लोगों द्वारा बताई गई भगवान की कहानियों को सुनने का मौका पाएं और उनके भक्तों के साथ अधिक से अधिक समय बितायें।
आप स्वाभाविक रूप से ही भगवान की कहानियों में रुचि विकसित करेंगे।

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |