प्रभाते करदर्शनम्

प्रातः करदर्शनः – धन, ज्ञान और भक्ति से सफलता की ओर प्रेरित करने वाला सरल अनुष्ठान।

प्रभाते कर दर्शनम् मंत्र

प्रातःकाल अपने हाथों की हथेली को देखकर फिर उसे चूमने और मस्तक पर लगाने की विधि सनातन धर्म में प्राचीन समय से प्रचलित है। इस विधि के पीछे एक विशेष श्लोक है:

कराग्रे वसते लक्ष्मीः करमध्ये सरस्वती।
करमूले तु गोविन्दः प्रभाते करदर्शनम्॥

अर्थात, हाथ के अग्र भाग में लक्ष्मी, मध्य में सरस्वती, और मूल में गोविन्द निवास करते हैं। इस श्लोक के माध्यम से यह संदेश दिया गया है कि प्रातःकाल उठते ही अपने हाथों का दर्शन करना चाहिए क्योंकि हाथों के माध्यम से ही हम कर्म करके जीवन में सफलता प्राप्त करते हैं।

इस श्लोक के पीछे एक गहरा संदेश छुपा है:

  1. लक्ष्मी: हाथों के अग्र भाग में लक्ष्मी का निवास हमें यह सिखाता है कि पुरुषार्थ के द्वारा धन, संपत्ति, और समृद्धि प्राप्त होती है। मेहनत और परिश्रम से हम अपने जीवन में भौतिक साधनों को अर्जित करते हैं।

  2. सरस्वती: हाथ के मध्य में सरस्वती का निवास यह बताता है कि विद्या, ज्ञान, और बुद्धि का अर्जन हमारे हाथों से ही होता है। हम अपने हाथों से लिखते हैं, पढ़ते हैं और नई-नई बातें सीखते हैं जिससे हमें विद्या और ज्ञान की प्राप्ति होती है।

  3. गोविन्द: हाथों के मूल में गोविन्द (भगवान विष्णु) का निवास यह दर्शाता है कि ईश्वर की भक्ति, उपासना और ध्यान करने का साधन भी हमारे हाथ ही हैं। भक्ति के माध्यम से हम आध्यात्मिक शांति और मोक्ष की ओर अग्रसर होते हैं।

करदर्शन का यह अनुष्ठान यह प्रेरणा देता है कि हमें अपने हाथों का सही उपयोग करना चाहिए। हाथों के माध्यम से धर्म, अर्थ, काम, और मोक्ष की प्राप्ति होती है। अपने कर्मों से हम लक्ष्मी (धन), सरस्वती (ज्ञान), और गोविन्द (ईश्वर) को प्राप्त कर सकते हैं।

इस प्रकार, प्रातःकाल करदर्शन से हमें यह शिक्षा मिलती है कि मेहनत, विद्या, और भक्ति के समन्वय से हम अपने जीवन के चारों पुरुषार्थ - धर्म, अर्थ, काम, और मोक्ष को प्राप्त कर सकते हैं। यह एक सुंदर और प्रेरणादायक विधि है जो हमें हमारी क्षमता और आध्यात्मिकता का स्मरण कराती है।

47.8K
8.1K

Comments

qqk6i
Worth Sharing -Tapan Bose

वेदधारा के साथ ऐसे नेक काम का समर्थन करने पर गर्व है - अंकुश सैनी

वेदधारा के माध्यम से मिले सकारात्मकता और विकास के लिए आभारी हूँ। -Varsha Choudhry

😊😊😊 -Abhijeet Pawaskar

आपकी मेहनत से सनातन धर्म आगे बढ़ रहा है -प्रसून चौरसिया

Read more comments

Knowledge Bank

यशोदा और देवकी का क्या रिश्ता था?

वसुदेव और नन्दबाबा चचेरे भाई थे। देवकी वसुदेव की पत्नी थी और यशोदा नन्दबाबा की पत्नी।

शिव जी पर फूल चढाने का फल​

शास्त्रों ने शिव जी पर कुछ फूलों के चढ़ाने से मिलनेवाले फल का तारतम्य बतलाया है, जैसे दस सुवर्ण-मापके बराबर सुवर्ण-दानका फल एक आक के फूल को चढ़ाने से मिल जाता है। हजार आकके फूलों की अपेक्षा एक कनेर का फूल, हजार कनेर के फूलों के चढ़ाने की अपेक्षा एक बिल्वपत्र से फल मिल जाता है और हजार बिल्वपत्रों की अपेक्षा एक गूमाफूल (द्रोण-पुष्प) होता है। इस तरह हजार गूमा से बढ़कर एक चिचिडा, हजार चिचिडों- (अपामार्गों ) से बढ़कर एक कुश फूल, हजार कुश- पुष्पों से बढ़कर एक शमी का पत्ता, हजार शमी के पत्तों से बढ़कर एक नीलकमल, हजार नीलकमलों से बढ़कर एक धतूरा, हजार धतूरों से बढ़कर एक शमी का फूल होता है। अन्त में बतलाया है कि समस्त फूलोंकी जातियोंमें सब से बढ़कर नीलकमल होता है ।

Quiz

हलायुध कौन है ?
Hindi Topics

Hindi Topics

सदाचार

Click on any topic to open

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |