पूजा का अर्थ क्या है?

 

पूजा का अर्थ क्या है?

 

जो लौकिक और आध्यात्मिक भोग को देती है वह है पूजा।

संस्कृत में - पूर्जायते ह्यनेन इति पूजा।

पूः को प्रदान करती है पूजा।

पूः - लौकिक और आध्यात्मिक भोग।

लौकिक भोग हैं - धन-संपत्ति, घर, वाहन, स्वास्थ्य, 

मंगलमय पारिवारिक जीवन।

आध्यात्मिक भोग हैं - ज्ञान, शांति, उत्तम लोकों की प्राप्ति, मोक्ष की प्राप्ति, शिव पद की प्राप्ति।

ये सारे मिल जाएंगे पूजा करने से।सकाम पूजा करो तो लौकिक सुख भोग। निष्काम पूजा करो तो आध्यात्मिक प्रगति, आध्यात्मिक भोग।

पूजा, आराधना मुख्यतया चार प्रकार के होते हैं।

१. नित्य - जो हर दिन की जाती है - नित्य पूजा, संध्या-वंदन।

२. नैमित्तिक - जो विशेष दिनों में की जाती हैं - जैसे शिवरात्रि की पूजा, नवरात्र की पूजा।

नित्य और नैमित्तिक पूजा का फल दीर्घावधि में मिलता है। पर यह बहुत ही बलवान और घनिष्ठ रहता है। एक किले कि तरह यह आपकी रक्षा करता रहता है,
आपको पता भी नही होगा।

मान लो आप ध्यान न देते हुए सडक पार कर रहे हैं। एक गाडी अति वेग से आपकी ओर आ रही है। आखिरी क्षण में ड्रायवर आपको देख लेता है, आप बच जाते हैं। यह आप की पूजा का बल है। उस पूजा की शक्ति ने ही ड्रायवर के ध्यान को आपकी ओर आकर्षित किया। यही है नित्य नैमित्तिक पूजा का महत्त्व।
आपने देखा होगा जो श्रद्धा से नित्य पूजा करते हैं वे कम बीमार पडते हैं, उनको समस्यायें कम होती हैं।

३. काम्य पूजा वह है जो किसी विशेष फल के लिए की जाती है। जैसे कोई बीमार है, उनके लिए मृत्युञ्जय का अनुष्ठान किया। यह हम इस आशा से करते हैं कि तुरंत फल मिल जायें। पर वह इस पर भी निर्भर है कि वह व्यक्ति कितना शुद्ध है, पवित्र है और कितनी श्रद्धा से और सही रूप से पूजा किया। भगवान ये सब देखकर ही फल देते हैं।

४. पूजा करने का एक और तरीका है - १०० दिनों के लिए निरंतर, १००० दिनों के लिए, कोई लक्ष परिक्रमा का संकल्प करके करता है, कोई लक्ष नमस्कार का।

गणेश जी की पूजा के लिए शुक्रवार अच्छा होता है। श्रावण और भाद्रपद के शुक्ल पक्ष चतुर्थी भी, धनुर्मास का शतभिषा नक्षत्र भी। कृष्ण पक्ष चतुर्थी को गणेश पूजन करने से गये पन्द्रह दिनों के सारे पाप नष्ट हो जाएंगे। अगले पन्द्रह दिनों मे सफलता और सुख भोग मिलेंगे। चैत्र की चतुर्थी में गणेश पूजन करने से एक महीना मंगलमय रहेगा। भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी को जो विश्व प्रसिद्ध विनायक चतुर्थी है उस दिन गणेश पूजन करने पूरा साल सुख से पूर्ण और मंगलप्रद रहेगा।

 



70.8K

Comments

at28G
बहुत बढिया चेनल है आपका -Keshav Shaw

आपकी सेवा से सनातन धर्म का भविष्य उज्ज्वल है 🌟 -mayank pandey

यह वेबसाइट ज्ञान का अद्वितीय स्रोत है। -रोहन चौधरी

आपकी वेबसाइट बहुत ही अनमोल और जानकारीपूर्ण है।💐💐 -आरव मिश्रा

इस परोपकारी कार्य में वेदधारा का समर्थन करते हुए खुशी हो रही है -Ramandeep

Read more comments

चूहा भगाने का मंत्र क्या है?

पीत पीतांबर मूसा गाँधी ले जावहु हनुमन्त तु बाँधी ए हनुमन्त लङ्का के राउ एहि कोणे पैसेहु एहि कोणे जाहु। मंत्र को सिद्ध करने के लिए किसी शुभ समय पर १०८ बार जपें और १०८ आहुतियों का हवन करें। जब प्रयोग करना हो, स्नान करके इस मंत्र को २१ बार पढें। फिर पाँच गाँठ हल्दी और अक्षता हाथ में लेकर पाँच बार मंत्र पढकर फूंकें और उस स्थान पर छिडक दें जहां चूहे का उपद्रव हो।

कदम्ब और चम्पा से शिवकी पूजा

भाद्रपद मास में कदम्ब और चम्पा से शिवकी पूजा करनेसे सभी इच्छाएँ पूरी होती हैं। भाद्रपदमास से भिन्न मासों में निषेध है।

Quiz

समुद्र मंथन के समय डूबता हुआ मन्दर पर्वत को भगवान विष्णु ने अवतार लेकर अपने पीठ पर उठाकर रखा । कौन सा है यह अवतार ?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |