Special - Vidya Ganapathy Homa - 26, July, 2024

Seek blessings from Vidya Ganapathy for academic excellence, retention, creative inspiration, focus, and spiritual enlightenment.

Click here to participate

पर स्त्री और पर पुरुष

63.1K

Comments

7xaxc
वेदधारा को हिंदू धर्म के भविष्य के प्रयासों में देखकर बहुत खुशी हुई -सुभाष यशपाल

आप जो अच्छा काम कर रहे हैं, उसे देखकर बहुत खुशी हुई 🙏🙏 -उत्सव दास

आपकी वेबसाइट बहुत ही मूल्यवान जानकारी देती है। -यशवंत पटेल

आपकी मेहनत से सनातन धर्म आगे बढ़ रहा है -प्रसून चौरसिया

गुरुजी का शास्त्रों की समझ गहरी और अधिकारिक है 🙏 -चितविलास

Read more comments

Knowledge Bank

राजा दिलीप की वंशावली क्या है?

ब्रह्मा-मरीचि-कश्यप-विवस्वान-वैवस्वत मनु-इक्ष्वाकु-विकुक्षि-शशाद-ककुत्सथ-अनेनस्-पृथुलाश्व-प्रसेनजित्-युवनाश्व-मान्धाता-पुरुकुत्स-त्रासदस्यु-अनरण्य-हर्यश्व-वसुमनस्-सुधन्वा-त्रय्यारुण-सत्यव्रत-हरिश्चन्द्र-रोहिताश्व-हारीत-चुञ्चु-सुदेव-भरुक-बाहुक-सगर-असमञ्जस्-अंशुमान-भगीरथ-श्रुत-सिन्धुद्वीप-अयुतायुस्-ऋतुपर्ण-सर्वकाम-सुदास्-मित्रसह-अश्मक-मूलक-दिलीप-रघु-अज-दशरथ-श्रीराम जी

महर्षि व्यास का दूसरा नाम क्या है?

महर्षि व्यास का असली नाम है कृष्ण द्वैपायन। इनका रंग भगवान कृष्ण के जैसा था और इनका जन्म यमुना के बीच एक द्वीप में हुआ था। इसलिए उनका नाम बना कृष्ण द्वैपायन। पराशर महर्षि इनके पिता थे और माता थी सत्यवती। वेद के अर्थ को पुराणों और महाभारत द्वारा विस्तृत करने से इनको व्यास कहते हैं। व्यास एक स्थान है। हर महायुग में एक नया व्यास होता है। वर्तमान महायुग के व्यास हैं कृष्ण द्वैपायन।

Quiz

पूतना पूर्वजन्म में कौन थी ?

वंश वृद्धि के अलावा विवाह का एक मुख्य उद्देश्य यह है कि पुरुष और स्त्री दोनों ही अपने सहज विलास भाव से बचकर काम को एक जगह पर केन्द्रित करें। आपको मालूम ही होगा काम, क्रोध, लोभ, मोह, मद और मात्सर्य - ये छः मनुष्य के शत्रु माने जाते है....

वंश वृद्धि के अलावा विवाह का एक मुख्य उद्देश्य यह है कि पुरुष और स्त्री दोनों ही अपने सहज विलास भाव से बचकर काम को एक जगह पर केन्द्रित करें।
आपको मालूम ही होगा काम, क्रोध, लोभ, मोह, मद और मात्सर्य - ये छः मनुष्य के शत्रु माने जाते हैं।
इनमें से काम को काबू में रखना बहुत ही कठिन होता है।
विश्वमित्र जैसे बडे ऋषि भी संयम खो बैठे हैं।
धर्म ने यह तरीका दिया है कि काम को दांपत्य में सीमित रखो।
धीरे धीरे वह काबू में आएगा और समय जाने पर नष्ट भी हो जाएगा।
धर्म कहता है कि जो गृहस्थ काम को दांपत्य में सीमित रखता है वह ब्रह्मचारी ही होता है।
वह सदाचारी होता है।
इस कारण से ही विवाह एक धार्मिक संस्कार है और पत्नी धर्म-पत्नी है।
हमारी संस्कृति में विवाह देव, अग्नि और श्रेष्ठ जन को साक्षी रखकर होता है।

पर स्त्री और पर पुरुष कौन हैं?
सनातन धर्म के मर्यादाओं के अनुसार पत्नी पति के लिए स्व स्त्री है, पति पत्नी के लिए स्व पुरुष।
इसके अतिरिक्त जितने विवाह-पूर्व या विवाहेतर संबन्ध हैं वे सारे या तो पर-स्त्री या पर-पुरुष संबन्ध हैं।

अब आंखें बन्द करके आप जी नहीं पाएंगे।
सामने से कोई पर-स्त्री या पर-पुरुष जाएं तो दीख तो पडेंगे।
तब क्या करेंगे।
उसके शारीरिक सौन्दर्य को देखकर कामोद्वेग हो सकता है।
सबसे पहले बिना कारण के किसी अन्य पुरुष या स्त्री की ओर ध्यान मत दो।
आंखों से दिखाई देने पर भी मन से मत देखो, ध्यान मत दो।

यहां पर दो तरीके हैं -
जो वेदान्ती लोग हैं, जिनका मन के ऊपर संयम है, नियंत्रण है वह उस शारीरिक सौन्दर्य की प्रतीति को यह कहकर निराकरण करेंगे कि - वह क्या है? मल और मूत्र से भरा हुआ एक मलपात्र ही तो है।
यह हुआ पहला तरीका।
दूसरा - अपनी पत्नी को छोडकर बाकी सब स्त्रियों को अपनी माता ही मानो।
बहन को, बेटी को भी, बहू को भी, सब मां के समान।
बाहर की हर नारी मां के समान।
यही हमारी संस्कृति, यही हमारे धर्म शास्त्र बताते हैं।
आम आदमी के लिए यही आसान तरीका है।
वेदान्त बुद्धि आना इतना आसान नहीं है।

भगवान ने अपने रामावतार में इस संयम का पालन करके दिखाया।
रामचन्द्रः परान् दारान् चक्षुषा नाभिवीक्षते। - कहता है वाल्मीकि रामायण ।
श्रीरामचन्द्रजी पर स्त्रियों को अपनी आंखों से नहीं देखते थे।
राजा थे, ११,००० साल शासन किया है, यह तो संभव नहीं है।
इसका अर्थ है - पर स्त्रियों को वे काम भाव से कभी नहीं देखते थे।

पर राजा थे, अगर कोई स्त्री पसंद आई तो उसे विवाह कर सकते थे, इस पर कोई पाबंदी नहीं थी।
स्वयं उनके पिताजी की कितनी पत्नियां थी?
इसलिए भगवान ने एकपत्नीव्रत का नियम लाया।
मेरे राज्य में रामराज्य में एक पुरुष एक ही स्त्री से विवाह करेगा।
और उन्होंने खुद इसका पालन करके दिखाये।
लंका से लौटने के कुछ समय के अन्दर ही सीताजी को वनवास में जाना पडा और वे वहीं से अन्तर्धान हो गयी।
लेकिन भगवान ने ११,००० साल तक दूसरा विवाह नहीं किया।
क्यों कि वे सीताजी को छोडकर अन्य सभी स्त्रियों को मां-समान ही मानते थे।
किससे करेंगे विवाह?
उनका मन इतना शुद्ध था कि आप उनका समरण करेंगे तो आप भी शुद्ध हो जाएंगे, पवित्र हो जाएंगे।

लंका में रावण अपनी प्रम अब्यर्थना को लेकर सीता माता के पास कई बार गया।
माता उसे भगा देती थी।
कुंभकर्ण ने रावण को सलाह दिया - आप मायावी हो, राम का रूप धारण करके उसके पास जाओ और अपने काम की पूर्ति करो, उसे कैसे पता चलेगा।
रावण ने कहा -
उसे पता चलें या न चलें उससे कोई फर्क नहीं पडता।
मैं ने यह भी करके देखा है।
कर्तुश्चेतसि रामरूपममलं दूर्वादलश्यामलम् ।
तुच्छं ब्रह्मपदं परं परवधूसंगप्रसंगः कुतः ॥
रूप धारण करना क्या? राम के बारे में सोचने पर भी मन से काम निकल जाता है।
ब्रह्मपद भी तुच्छ लगने लगता है।
उस नारी के साथ संग का ख्याल भी नहीं आता।

देखिए, श्रीराम जी की पवित्रता, शुद्धता।
यह कौन कह रहा है - रावण जिस को सैकडों स्त्रियों का संग किये बिना नींद नहीं आती।
और हम सब इस महान परंपरा के वारिस हैं, श्रीराम जी ने अपने ही दृष्टांत से यह सिखाया है, यह हमपर उनकी बडी कृपा है।
मर्तावतारात्त्विह मर्त्यसिक्षणम्
हमें ये सब सिखाना - यह भी उनके अवतार का एक उद्देश्य था।

Hindi Topics

Hindi Topics

सदाचार

Click on any topic to open

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |