दुर्गा सप्तशती हिंदी में

63.8K

Comments

dyc64
वेदधारा हिंदू धर्म के भविष्य के लिए जो काम कर रहे हैं वह प्रेरणादायक है 🙏🙏 -साहिल पाठक

वेदधारा की समाज के प्रति सेवा सराहनीय है 🌟🙏🙏 - दीपांश पाल

आपकी मेहनत से सनातन धर्म आगे बढ़ रहा है -प्रसून चौरसिया

आपकी वेबसाइट जानकारी से भरी हुई और अद्वितीय है। 👍👍 -आर्यन शर्मा

बहुत बढिया चेनल है आपका -Keshav Shaw

Read more comments

Knowledge Bank

शक्ति के पांच स्वरूप क्या क्या हैं?

१. सत्त्वगुणप्रधान ज्ञानशक्ति २. रजोगुणप्रधान क्रियाशक्ति ३. तमोगुणप्रधान मायाशक्ति ४. विभागों में विभक्त प्रकृतिशक्ति ५. अविभक्त शाम्भवीशक्ति (मूलप्रकृति)।

गरुड़ और सांप की दुश्मनी क्यों है?

गरुड की मां है विनता। सांपों की मां है कद्रू। विनता और कद्रू बहनें हैं। एक बार, कद्रू और उनके पुत्र सांपों ने मिलकर विनता को बाजी में धोखे से हराया। विनता को कद्रू की दासी बनना पडा और गरुड को भी सांपों की सेवा करना पडा। इसलिए गरुड सांपों के दुश्मन बन गये। गरुड ने सांपों को स्वर्ग से अमृत लाकर दिया और दासपना से मुक्ति पाया। उस समय गरुड ने इन्द्र से वर पाया की सांप ही उनके आहार बनेंगे।

Quiz

हनुमानजी की ठोड़ी में घाव का चिह्न किसके कारण हुआ ?

मंगलाचरण विनय
जगत नियन्ता जगपति, हे जग के आधार ।
लम्बोदर विघ्नेश हे, कर माँ जगदम्बा भक्ति दो, ज्ञान
लघु तव सुत भी हे जननि, आये
दीजै उद्धार ॥१॥ भक्ति सामर्थ । किंञ्चित् अर्थ ॥ २ ॥ प्रदायक नाथ ।
- ज्ञानी पवन कुमार हे, कीर्ति रहहु सदा अनुकूल प्रभु, मैं नहिं बनूँ अनाथ ॥ ३ ॥ भक्ति-तपस्या भक्ति-बल, भक्ति-जगत का सार । बिना भक्ति जीवन विफल, करो भक्ति जगधार ॥४॥ दुर्गाजी की भक्ति तो अद्भुत अमित अपार ।
मोक्ष, काम, धर्मार्थ की, सुन्दर हैं दातार ॥
सप्तशती पाठांश भी पढ़ें-सुनै जो नित्य । जीवन में सब कुछ लहै, फिर नहिं बनै अनित्य ॥ ६ ॥ श्रद्धा, भक्ति-नियम सहित, सप्तशती का पाठ ।
हिन्दी हो या
देवी की ही
संस्कृत, दाता सुयश, सुठाठ ॥७॥ प्रेरणा, हिन्दी का यह रूप ।
जन-कल्याण सदा करे, माँ का चरित अनूप ॥८ ॥ जननि कवित उत्पादिका, जननि काव्य की मूल । मैं तो हूँ मतिहीन सुत, सम्भव पग पग भूल ॥ ९ ॥ यह तव देवी प्रेरणा, तूं दी जैसी बुद्धि । कार्य किया वैसा जननि, अर्पित शुद्धि अशुद्धि ॥१०
मार्कण्डेयजी ने कहा
सकल जगत में गुह्य जो, जन रक्षक है जोय । प्रकट न अबतक जो किया, कहहु पितामह सोय ।।
ब्रह्माजी बोले
सुनहु महामुनि जन सुखदायी । परम गुह्यतम कवच
प्रथमहि शैलसुता विख्याता ! दूसरि
तीसरि ख्याति चन्द्रघण्टासी । चौथी
ब्रह्मचारिणी सुहायी ।। माता ।।
कूष्माण्डा सुखरासी ।।
पंचम कहहिं स्कन्द की माता । षष्ठम कात्यायिनि जगमाता ॥
सप्तम कालरात्रि जरा झायी अष्टम महागौरि प्रभुतायी ॥
श्रीदुर्गा-सप्तशती हरनी । भेदा ।।
नवमं सिद्धिदात्री जगजननी । नवदुर्गा दारुण दुख नित गावहिं सब मङ्गल वेदा। देवी नाम के दुर्लभ राखहिं देवि न हो फिर डरना । जो नर भय- आरत हो शरना । अशुभ विदारक हैं जगजननी । उसकी कीर्ति जात नहिं बरनी । भक्ति युक्त जोदेविका, करता है नित ध्यान ।
देवि अभ्युदय दायिनी, ताहि देत कल्यान ।।
महिषासन बैठी वाराही । प्रेतासन चामुण्डा वाही ।।
गरुड़ासीन वैष्णवी भावत । ऐन्द्री का आसन ऐरावत ।।
वृषभारूढ़ माहेश्वरी सोहैं। शिखिवाहन।
विष्णुप्रिया जननी जगदम्बा । पद्मासनहिं ईश्वर देवी वृषभासीना । शारद
कौमारी मोहैं ।
विराजहिं अम्बा ।।

Ramaswamy Sastry and Vighnesh Ghanapaathi

Hindi Topics

Hindi Topics

आध्यात्मिक ग्रन्थ

Click on any topic to open

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |