शिवलिंग पूजन से कालातीत लोक की प्राप्ति

91.8K

Comments

qzyhr
वेदधारा के प्रयासों के लिए दिल से धन्यवाद 💖 -Siddharth Bodke

वेदधारा के साथ ऐसे नेक काम का समर्थन करने पर गर्व है - अंकुश सैनी

गुरुजी का शास्त्रों की समझ गहरी और अधिकारिक है 🙏 -चितविलास

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 -User_sdh76o

आप जो अच्छा काम कर रहे हैं उसे जानकर बहुत खुशी हुई -राजेश कुमार अग्रवाल

Read more comments

पराशर महर्षि का जन्म कैसे हुआ?

पराशर महर्षि के पिता थे शक्ति और उनकी माता थी अदृश्यन्ती। शक्ति वशिष्ठ के पुत्र थे। वशिष्ठ और विश्वामित्र के बीच चल रहे झगड़े में, एक बार विश्वामित्र ने कल्माषपाद नामक एक राजा को राक्षस बनाया। कल्माषपाद ने शक्ति सहित वशिष्ठ के सभी सौ पुत्रों को खा लिया। उस समय अदृश्यन्ती पहले से ही गर्भवती थी। उन्होंने पराशर महर्षि को वशिष्ठ के आश्रम में जन्म दिया।

चार्वाक दर्शन के अनुसार जीवन का लक्ष्य क्या है?

चार्वाक दर्शन के अनुसार जीवन का सबसे बडा लक्ष्य सुख और आनंद को पाना होना चाहिए।

Quiz

आस्तिक के पिता थे जरत्कारु । माता का नाम ?

शिव पुराण में हमने पाताल लोक के बारे में देखा, फिर उसके ऊपर सात लोक जो हमारे भूलोक से शुरू होकर ब्रह्मा के सत्यलोक तक जाते हैं, उस के ऊपर विष्णुलोक, उस के ऊपर रुद्रलोक , उस के ऊपर महेश्वरलोक , उस के ऊपर कालचक्र , और उस के ऊपर ईश्वरलोक ।....

शिव पुराण में हमने पाताल लोक के बारे में देखा, फिर उसके ऊपर सात लोक जो हमारे भूलोक से शुरू होकर ब्रह्मा के सत्यलोक तक जाते हैं, उस के ऊपर विष्णुलोक, उस के ऊपर रुद्रलोक , उस के ऊपर महेश्वरलोक , उस के ऊपर कालचक्र , और उस के ऊपर ईश्वरलोक ।

कालचक्र कर्म का लोक और ज्ञान का लोक इन दोनों के बीच एक स्पष्ट सीमा है।

कर्म केवल काल चक्र के नीचे मौजूद है।

ज्ञान काल चक्र से ऊपर है।

मृत्यु केवल इस स्तर तक ही मौजूद है, काल चक्र तक।

शिव पुराण कहता है कि यमराज काल चक्र के स्तर पर हैं।

इसलिए यम को काल भी कहते हैं।

मृत्यु के पीछे क्या है?

समय, काल।

यदि समय नहीं है, तो जन्म या मृत्यु भी नहीं है।

काल चक्र के नीचे ही काल का प्रभाव है।

यमराज काल चक्र के नीचे ही कार्य करते हैं।

यमराज को उन लोगों के बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है जो काल चक्र को पार करते हैं और ईश्वरलोक जाते हैं।

यम को जान लेने के लिए ईश्वरलोक जाने की आवश्यकता नहीं है।

ईश्वरलोक में कोई मृत्यु नहीं है।

यम का आसन क्या है?

भैंस।

उस भैंस के चार पैर हैं: असत्य, अशुद्धता, हिंसा और क्रूरता।

इनका आचरण करने वालों के लिए ही मृत्यु है।

यम या काल या समय केवल उनके लिए है जो इनका आचरन करते हैं।

जो लोग असत्य, हिंसा और क्रूरता से दूर रहते हैं और खुद को पवित्र बनाते हैं, वे यम की पहुंच से परे हो जाते हैं।

वे कालातीत लोक में जाते हैं।

ब्रह्मांड आते रहेंगे जाते रहेंगे।

हर कल्प में एक नया ब्रह्मांड आएगा।

फिर ४.३२ अरब साल बाद यह विलीन हो जाएगा।

ऐसा होता रहेगा।

लेकिन जो लोग ईश्वरलोक में गए हैं, उन्हें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता।

उन्हें इसमें नहीं खींचा जाता है।

तो वह क्या है जो किसी को काल चक्र से नीचे रहने और बार-बार जन्म लेने के लिए मजबूर करता है?

और किसी को काल चक्र से परे जाने के लिए कालातीत स्थान में जाने के लिए क्या करना पड़ता है?

उत्तर सरल है।

इच्छा के साथ किया गया कुछ भी, कुछ हासिल करने के लिए, आपको काल चक्र के नीचे के लोकों में घूमने पर मजबूर कर देगा।

यह सकाम कर्म है।

इसमें पूजा और साधना भी शामिल हैं।

सकाम कर्म के माध्यम से आप वैकुंठ या कैलास को प्राप्त कर सकते हैं।

लेकिन उसमें भी एक इच्छा है।

वहाँ एक उद्देश्य है।

यदि आप काल चक्र से परे जाकर ईश्वर के कालातीत लोक में प्रवेश करना चाहते हैं, तो एक ही रास्ता है।

निष्काम भाव से बिना किसि इच्छा के शिवलिंग की पूजा करें।

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |