धारण के लिए उपयुक्त भस्म​

93.7K

Comments

h72ei
आप जो अच्छा काम कर रहे हैं उसे जानकर बहुत खुशी हुई -राजेश कुमार अग्रवाल

आपकी वेबसाइट जानकारी से भरी हुई और अद्वितीय है। 👍👍 -आर्यन शर्मा

वेदधारा ने मेरे जीवन में बहुत सकारात्मकता और शांति लाई है। सच में आभारी हूँ! 🙏🏻 -Pratik Shinde

अद्वितीय website -श्रेया प्रजापति

Om namo Bhagwate Vasudevay Om -Alka Singh

Read more comments

स्त्रीधन के बारे में वेदों में कहां उल्लेख है?

ऋग्वेद मण्डल १०. सूक्त ८५ में स्त्रीधन का उल्लेख है। वेद में स्त्रीधन के लिए शब्द है- वहतु। इस सूक्त में सूर्यदेव का अपनी पुत्री को वहतु के साथ विदा करने का उल्लेख है।

वसुदेव और देवकी पूर्व जन्म में क्या थे?

सबसे पहले वसुदेव, प्रजापति सुतपा थे और देवकी उनकी पत्नी पृश्नि। उस समय भगवान ने पृश्निगर्भ के रूप में उनका पुत्र बनकर जन्म लिया। उसके बाद उस दंपति का पुनर्जन्म हुआ कश्यप - अदिति के रूप में। भगवान बने उनका पुत्र वामन। तीसरा पुनर्जन्म था वसुदेव - देवकी के रूप में।

Quiz

सूर्यपुत्र इन्द्रपुत्र की मृत्यु का कारण बना । कौन थे ये ?

भस्म या विभूति। आइए देखते हैं, भस्म या विभूति के बारे में शिव पुराण क्या कहता है। 3 प्रकार के भस्म हैं - लोकाग्नि - जनित, वेदाग्नि - जनित, और शिवाग्नि - जनित। लोकाग्नि क्या है? लोकाग्नि साधारण आग है। साधारण आग जो लकड़ी को जल....

भस्म या विभूति।
आइए देखते हैं, भस्म या विभूति के बारे में शिव पुराण क्या कहता है।
3 प्रकार के भस्म हैं - लोकाग्नि - जनित, वेदाग्नि - जनित, और शिवाग्नि - जनित।
लोकाग्नि क्या है?
लोकाग्नि साधारण आग है।
साधारण आग जो लकड़ी को जलाने से आती है, न कि वह जो पेट्रोलियम आधारित ईंधन या रसायनों को जलाने से निकलती है।
अच्छी आग जो शुद्ध है, जैसे कि गांवों में रसोई की आग जहां खाना पकाने के लिए जलाऊ लकड़ी का उपयोग करते हैं।
इस आग से जनित भस्म शुद्ध करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।
बर्तन, कपड़े, अनाज, कुछ भी शुद्ध करने के लिए।
सामग्री के आधार पर आप या तो इसे सूखा ही छिड़कते हैं या पानी में मिलाकर छिड़कते हैं।
गांवों में बर्तन साफ करने के लिए आज भी राख इस्तेमाल किया जाता है।
साधारण आग से बने किसी भी भस्म का उपयोग केवल इस उद्देश्य के लिए किया जा सकता है, शरीर पर लगाने के लिए नहीं।

दूसरा वेदाग्नि - पवित्र अग्नि।
हवन कुंड के भस्म को हवन करने के बाद शरीर पर लगाया जा सकता है।
इसका एक बहुत ही विशिष्ट उद्देश्य है।
जब आप अपने शरीर पर वेदाग्नि - जनित भस्म लगाते हैं तो यह उस विशेष होम के लाभों को आपकी आत्मा में प्रतिष्ठित कर देता है।

फिर, हर दिन धारण करने के लिए भस्म कौन सा है?
शिवाग्नि - जनित भस्म।
शिवाग्नि क्या है?
बेल की लकड़ी जलाकर जलते समय अघोर रुद्र मंत्र का जाप करते रहें।
इसे शिवग्नि कहते हैं।
इससे जो भस्म मिलता है वह शिवाग्नि - जनित भस्म है।
एक और तरीका है।
सूखे गाय के गोबर में पलाश, शमी, वट जैसी पवित्र लकड़ी जलाएं।
यह भी शिवाग्नि है, आपको पूरे समय अघोर रुद्र मंत्र का जाप करना भी चाहिए।
इस भस्म का ही उपयोग प्रतिदिन धारण के लिए किया जाना चाहिए।
शिव भक्तों के शरीर पर सर्वदा भस्म होना चाहिए।
यदि आप पूजा करने जा रहे हैं, तो आपको भस्म को पानी के साथ मिलाकर लगाना चाहिए।
अन्य अवसरों पर, जैसे कि खुद को शुद्ध करने के लिए, आप पानी मिलाए बिना भी भस्म लगा सकते हैं।

Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |