ॐ सिन्दूरवर्णं द्विभुजं गणेशं लम्बोदरं पद्मदले निविष्टम्। ब्रह्मादिदेवैः परिसेव्यमानं सिद्धैर्युतं तं प्रणमामि देवम्।। सृष्ट्यादौ ब्रह्मणा सम्यक् पूजितः फलसिद्धये। सदैव पार्वतीपुत्रो ऋणनाशं करोतु मे।। ....

ॐ सिन्दूरवर्णं द्विभुजं गणेशं
लम्बोदरं पद्मदले निविष्टम्।
ब्रह्मादिदेवैः परिसेव्यमानं
सिद्धैर्युतं तं प्रणमामि देवम्।।
सृष्ट्यादौ ब्रह्मणा सम्यक् पूजितः फलसिद्धये।
सदैव पार्वतीपुत्रो ऋणनाशं करोतु मे।।
त्रिपुरस्य वधात् पूर्वं शम्भुना सम्यगर्चितः।
सदैव पार्वतीपुत्रो ऋणनाशं करोतु मे।।
हिरण्यकश्यप्वादीनां वधार्थे विष्णुनार्चितः।
सदैव पार्वतीपुत्रो ऋणनाशं करोतु मे।।
महिषस्य वधे देव्या गणनाथः प्रपूजितः।
सदैव पार्वतीपुत्रो ऋणनाशं करोतु मे।।
तारकस्य वधात्पूर्वं कुमारेण प्रपूजितः।
सदैव पार्वतीपुत्रो ऋणनाशं करोतु मे।।
भास्करेण गणेशो हि पूजितश्छविसिद्धये।
सदैव पार्वतीपुत्रो ऋणनाशं करोतु मे।।
शशिना कान्तिवृद्ध्यर्थं पूजितो गणनायकः।
सदैव पार्वतीपुत्रो ऋणनाशं करोतु मे।।
पालनाय च तपसां विश्वामित्रेण पूजितः।
सदैव पार्वतीपुत्रो ऋणनाशं करोतु मे।।
इदम् ऋणहरस्तोत्रं तीव्रदारिद्र्यनाशनम्।
एकवारं पठेन्नित्यं वर्षमेकं समाहितः।
दारिद्र्यं दारुणं त्यक्त्वा कुबेरसमतां व्रजेत्।।
ॐ गणेश ऋणं छिन्धि वरेण्यं हुं नमः फट् ।

ఓం సిందూరవర్ణం ద్విభుజం గణేశం
లంబోదరం పద్మదలే నివిష్టం।
బ్రహ్మాదిదేవైః పరిసేవ్యమానం
సిద్ధైర్యుతం తం ప్రణమామి దేవం॥
సృష్ట్యాదౌ బ్రహ్మణా సమ్యక్ పూజితః ఫలసిద్ధయే।
సదైవ పార్వతీపుత్రో ఋణనాశం కరోతు మే॥
త్రిపురస్య వధాత్ పూర్వం శంభునా సమ్యగర్చితః।
సదైవ పార్వతీపుత్రో ఋణనాశం కరోతు మే॥
హిరణ్యకశ్యప్వాదీనాం వధార్థే విష్ణునార్చితః।
సదైవ పార్వతీపుత్రో ఋణనాశం కరోతు మే॥
మహిషస్య వధే దేవ్యా గణనాథః ప్రపూజితః।
సదైవ పార్వతీపుత్రో ఋణనాశం కరోతు మే॥
తారకస్య వధాత్పూర్వం కుమారేణ ప్రపూజితః।
సదైవ పార్వతీపుత్రో ఋణనాశం కరోతు మే॥
భాస్కరేణ గణేశో హి పూజితశ్ఛవిసిద్ధయే।
సదైవ పార్వతీపుత్రో ఋణనాశం కరోతు మే॥
శశినా కాంతివృద్ధ్యర్థం పూజితో గణనాయకః।
సదైవ పార్వతీపుత్రో ఋణనాశం కరోతు మే॥
పాలనాయ చ తపసాం విశ్వామిత్రేణ పూజితః।
సదైవ పార్వతీపుత్రో ఋణనాశం కరోతు మే॥
ఇదం ఋణహరస్తోత్రం తీవ్రదారిద్ర్యనాశనం।
ఏకవారం పఠేన్నిత్యం వర్షమేకం సమాహితః।
దారిద్ర్యం దారుణం త్యక్త్వా కుబేరసమతాం వ్రజేత్॥
ఓం గణేశ ఋణం ఛింధి వరేణ్యం హుం నమః ఫట్ ।

ௐ ஸிந்தூ³ரவர்ணம்ʼ த்³விபு⁴ஜம்ʼ க³ணேஶம்ʼ
லம்போ³த³ரம்ʼ பத்³மத³லே நிவிஷ்டம்।
ப்³ரஹ்மாதி³தே³வை꞉ பரிஸேவ்யமானம்ʼ
ஸித்³தை⁴ர்யுதம்ʼ தம்ʼ ப்ரணமாமி தே³வம்॥
ஸ்ருʼஷ்ட்யாதௌ³ ப்³ரஹ்மணா ஸம்யக் பூஜித꞉ ப²லஸித்³த⁴யே।
ஸதை³வ பார்வதீபுத்ரோ ருʼணநாஶம்ʼ கரோது மே॥
த்ரிபுரஸ்ய வதா⁴த் பூர்வம்ʼ ஶம்பு⁴னா ஸம்யக³ர்சித꞉।
ஸதை³வ பார்வதீபுத்ரோ ருʼணநாஶம்ʼ கரோது மே॥
ஹிரண்யகஶ்யப்வாதீ³னாம்ʼ வதா⁴ர்தே² விஷ்ணுனார்சித꞉।
ஸதை³வ பார்வதீபுத்ரோ ருʼணநாஶம்ʼ கரோது மே॥
மஹிஷஸ்ய வதே⁴ தே³வ்யா க³ணநாத²꞉ ப்ரபூஜித꞉।
ஸதை³வ பார்வதீபுத்ரோ ருʼணநாஶம்ʼ கரோது மே॥
தாரகஸ்ய வதா⁴த்பூர்வம்ʼ குமாரேண ப்ரபூஜித꞉।
ஸதை³வ பார்வதீபுத்ரோ ருʼணநாஶம்ʼ கரோது மே॥
பா⁴ஸ்கரேண க³ணேஶோ ஹி பூஜிதஶ்ச²விஸித்³த⁴யே।
ஸதை³வ பார்வதீபுத்ரோ ருʼணநாஶம்ʼ கரோது மே॥
ஶஶினா காந்திவ்ருʼத்³த்⁴யர்த²ம்ʼ பூஜிதோ க³ணநாயக꞉।
ஸதை³வ பார்வதீபுத்ரோ ருʼணநாஶம்ʼ கரோது மே॥
பாலனாய ச தபஸாம்ʼ விஶ்வாமித்ரேண பூஜித꞉।
ஸதை³வ பார்வதீபுத்ரோ ருʼணநாஶம்ʼ கரோது மே॥
இத³ம் ருʼணஹரஸ்தோத்ரம்ʼ தீவ்ரதா³ரித்³ர்யநாஶனம்।
ஏகவாரம்ʼ படே²ந்நித்யம்ʼ வர்ஷமேகம்ʼ ஸமாஹித꞉।
தா³ரித்³ர்யம்ʼ தா³ருணம்ʼ த்யக்த்வா குபே³ரஸமதாம்ʼ வ்ரஜேத்॥
ௐ க³ணேஶ ருʼணம்ʼ சி²ந்தி⁴ வரேண்யம்ʼ ஹும்ʼ நம꞉ ப²ட் ।

ಓಂ ಸಿಂದೂರವರ್ಣಂ ದ್ವಿಭುಜಂ ಗಣೇಶಂ
ಲಂಬೋದರಂ ಪದ್ಮದಲೇ ನಿವಿಷ್ಟಂ।
ಬ್ರಹ್ಮಾದಿದೇವೈಃ ಪರಿಸೇವ್ಯಮಾನಂ
ಸಿದ್ಧೈರ್ಯುತಂ ತಂ ಪ್ರಣಮಾಮಿ ದೇವಂ॥
ಸೃಷ್ಟ್ಯಾದೌ ಬ್ರಹ್ಮಣಾ ಸಮ್ಯಕ್ ಪೂಜಿತಃ ಫಲಸಿದ್ಧಯೇ।
ಸದೈವ ಪಾರ್ವತೀಪುತ್ರೋ ಋಣನಾಶಂ ಕರೋತು ಮೇ॥
ತ್ರಿಪುರಸ್ಯ ವಧಾತ್ ಪೂರ್ವಂ ಶಂಭುನಾ ಸಮ್ಯಗರ್ಚಿತಃ।
ಸದೈವ ಪಾರ್ವತೀಪುತ್ರೋ ಋಣನಾಶಂ ಕರೋತು ಮೇ॥
ಹಿರಣ್ಯಕಶ್ಯಪ್ವಾದೀನಾಂ ವಧಾರ್ಥೇ ವಿಷ್ಣುನಾರ್ಚಿತಃ।
ಸದೈವ ಪಾರ್ವತೀಪುತ್ರೋ ಋಣನಾಶಂ ಕರೋತು ಮೇ॥
ಮಹಿಷಸ್ಯ ವಧೇ ದೇವ್ಯಾ ಗಣನಾಥಃ ಪ್ರಪೂಜಿತಃ।
ಸದೈವ ಪಾರ್ವತೀಪುತ್ರೋ ಋಣನಾಶಂ ಕರೋತು ಮೇ॥
ತಾರಕಸ್ಯ ವಧಾತ್ಪೂರ್ವಂ ಕುಮಾರೇಣ ಪ್ರಪೂಜಿತಃ।
ಸದೈವ ಪಾರ್ವತೀಪುತ್ರೋ ಋಣನಾಶಂ ಕರೋತು ಮೇ॥
ಭಾಸ್ಕರೇಣ ಗಣೇಶೋ ಹಿ ಪೂಜಿತಶ್ಛವಿಸಿದ್ಧಯೇ।
ಸದೈವ ಪಾರ್ವತೀಪುತ್ರೋ ಋಣನಾಶಂ ಕರೋತು ಮೇ॥
ಶಶಿನಾ ಕಾಂತಿವೃದ್ಧ್ಯರ್ಥಂ ಪೂಜಿತೋ ಗಣನಾಯಕಃ।
ಸದೈವ ಪಾರ್ವತೀಪುತ್ರೋ ಋಣನಾಶಂ ಕರೋತು ಮೇ॥
ಪಾಲನಾಯ ಚ ತಪಸಾಂ ವಿಶ್ವಾಮಿತ್ರೇಣ ಪೂಜಿತಃ।
ಸದೈವ ಪಾರ್ವತೀಪುತ್ರೋ ಋಣನಾಶಂ ಕರೋತು ಮೇ॥
ಇದಂ ಋಣಹರಸ್ತೋತ್ರಂ ತೀವ್ರದಾರಿದ್ರ್ಯನಾಶನಂ।
ಏಕವಾರಂ ಪಠೇನ್ನಿತ್ಯಂ ವರ್ಷಮೇಕಂ ಸಮಾಹಿತಃ।
ದಾರಿದ್ರ್ಯಂ ದಾರುಣಂ ತ್ಯಕ್ತ್ವಾ ಕುಬೇರಸಮತಾಂ ವ್ರಜೇತ್॥
ಓಂ ಗಣೇಶ ಋಣಂ ಛಿಂಧಿ ವರೇಣ್ಯಂ ಹುಂ ನಮಃ ಫಟ್ ।

ഓം സിന്ദൂരവർണം ദ്വിഭുജം ഗണേശം
ലംബോദരം പദ്മദലേ നിവിഷ്ടം।
ബ്രഹ്മാദിദേവൈഃ പരിസേവ്യമാനം
സിദ്ധൈര്യുതം തം പ്രണമാമി ദേവം॥
സൃഷ്ട്യാദൗ ബ്രഹ്മണാ സമ്യക് പൂജിതഃ ഫലസിദ്ധയേ।
സദൈവ പാർവതീപുത്രോ ഋണനാശം കരോതു മേ॥
ത്രിപുരസ്യ വധാത് പൂർവം ശംഭുനാ സമ്യഗർചിതഃ।
സദൈവ പാർവതീപുത്രോ ഋണനാശം കരോതു മേ॥
ഹിരണ്യകശ്യപ്വാദീനാം വധാർഥേ വിഷ്ണുനാർചിതഃ।
സദൈവ പാർവതീപുത്രോ ഋണനാശം കരോതു മേ॥
മഹിഷസ്യ വധേ ദേവ്യാ ഗണനാഥഃ പ്രപൂജിതഃ।
സദൈവ പാർവതീപുത്രോ ഋണനാശം കരോതു മേ॥
താരകസ്യ വധാത്പൂർവം കുമാരേണ പ്രപൂജിതഃ।
സദൈവ പാർവതീപുത്രോ ഋണനാശം കരോതു മേ॥
ഭാസ്കരേണ ഗണേശോ ഹി പൂജിതശ്ഛവിസിദ്ധയേ।
സദൈവ പാർവതീപുത്രോ ഋണനാശം കരോതു മേ॥
ശശിനാ കാന്തിവൃദ്ധ്യർഥം പൂജിതോ ഗണനായകഃ।
സദൈവ പാർവതീപുത്രോ ഋണനാശം കരോതു മേ॥
പാലനായ ച തപസാം വിശ്വാമിത്രേണ പൂജിതഃ।
സദൈവ പാർവതീപുത്രോ ഋണനാശം കരോതു മേ॥
ഇദം ഋണഹരസ്തോത്രം തീവ്രദാരിദ്ര്യനാശനം।
ഏകവാരം പഠേന്നിത്യം വർഷമേകം സമാഹിതഃ।
ദാരിദ്ര്യം ദാരുണം ത്യക്ത്വാ കുബേരസമതാം വ്രജേത്॥
ഓം ഗണേശ ഋണം ഛിന്ധി വരേണ്യം ഹും നമഃ ഫട് ।

om sindooravarnam dvibhujam ganesham
lambodaram padmadale nivisht'am.
brahmaadidevaih' parisevyamaanam
siddhairyutam tam pranamaami devam..
sri'sht'yaadau brahmanaa samyak poojitah' phalasiddhaye.
sadaiva paarvateeputro ri'nanaasham karotu me..
tripurasya vadhaat poorvam shambhunaa samyagarchitah'.
sadaiva paarvateeputro ri'nanaasham karotu me..
hiranyakashyapvaadeenaam vadhaarthe vishnunaarchitah'.
sadaiva paarvateeputro ri'nanaasham karotu me..
mahishasya vadhe devyaa gananaathah' prapoojitah'.
sadaiva paarvateeputro ri'nanaasham karotu me..
taarakasya vadhaatpoorvam kumaarena prapoojitah'.
sadaiva paarvateeputro ri'nanaasham karotu me..
bhaaskarena ganesho hi poojitashchhavisiddhaye.
sadaiva paarvateeputro ri'nanaasham karotu me..
shashinaa kaantivri'ddhyartham poojito gananaayakah'.
sadaiva paarvateeputro ri'nanaasham karotu me..
paalanaaya cha tapasaam vishvaamitrena poojitah'.
sadaiva paarvateeputro ri'nanaasham karotu me..
idam ri'naharastotram teevradaaridryanaashanam.
ekavaaram pat'hennityam varshamekam samaahitah'.
daaridryam daarunam tyaktvaa kuberasamataam vrajet..
om ganesha ri'nam chhindhi varenyam hum namah' phat' .

Tags - ఋణహర గణేశ స్తోత్రం, ಋಣಹರ ಗಣೇಶ ಸ್ತೋತ್ರಂ, ருணஹர கணேச ஸ்தோத்திரம், ഋണഹര ഗണേശ സ്തോത്രം

Recommended for you

Meaning in English -

The color of Lord Ganesha is red.
He has two hands.
He is the leader of the Groups.
He has a big belly.
He is sitting on a lotus.
He is served by Gods like Brahma.
He is surrounded by Sages.
I salute him.

Lord Brahma worshiped Lord Ganesha before creating the world.
May he clear my debt.
Lord Shiva worshiped Lord Ganesha before the destruction of Tripuras.
May he clear my debt.
Lord Ganesha was worshiped by Lord Vishnu before killing Hiranyakashipu, Hiranyaksha,
Ravana, Kumbhakarna, Dantavakra, Shishupala etc.
May he clear my debt.
The Goddess worshiped Lord Ganesha before killing Mahishasura.
May he clear my debt.
Before killing Tarakasura, Lord Kartikeya worshiped Lord Ganesha.
May he clear my debt.
For attaining his form, Sun worshiped Lord Ganesha.
May he clear my debt.
For attaining brilliance, Chandra worshiped Lord Ganesha.
May he clear my debt.
Vishwamitra worshiped Lord Ganesha for protecting his tapashakti.
May he clear my debt.

This Ganapati Stotra removes poverty.
If you recite this stotra once every day for a year, you will become rich.
Oh! Lord Ganesha, please clear my debts.

 

हिन्दी में अर्थ -

गणेश जी का वर्ण लाल है।
उन के दो हाथ हैं।
वे गणों के अधिपति हैं।
उनका पेट बडा है।
वे कमल पर बैठे हुए हैं।

वे ब्रह्मा आदि देवों से सेवित हैं। सिद्ध जन उनके चारों ओर हैं।
मैं उन को प्रणाम करता हूं।

जगत की सृष्टि करने से पहले ब्रह्मा जी ने गणेश जी की पूजा की थी।
वे मेरे कर्ज का निवारण करें।
त्रिपुरों के विनाश से पहले शिव जी ने गणेश जी की पूजा की थी।
वे मेरे कर्ज का निवारण करें।
हिरण्यकशिपु,हिरण्याक्ष,रावण,कुंभकर्ण,दन्तावक्र,शिशुपाल आदियों के वध से पहले विष्णु जी ने गणेश जी की पूजा की थी।
वे मेरे कर्ज का निवारण करें।
महिषासुर का वध करने से पहले देवी ने गणेश जी की पूजा की थी।
वे मेरे कर्ज का निवारण करें।
तारकासुर का वध करने से पहले कार्तिकेय ने गणेश जी की पूजा की थी।
वे मेरे कर्ज का निवारण करें।
छवि की सिद्धि के लिए सूर्य ने गणेश जी की पूजा की थी।
वे मेरे कर्ज का निवारण करें।
कान्ति की सिद्धि के लिए चन्द्रमा ने गणेश जी की पूजा की थी।
वे मेरे कर्ज का निवारण करें।
तप शक्ति की रक्षा के लिए विश्वामित्र ने गणेश जी की पूजा की थी।
वे मेरे कर्ज का निवारण करें।
यह गणपति स्तोत्र गरीबी को मिटाता है।
जो एक साल तक हर रोज इस स्तोत्र को दिन में एक बार पढेगा वह धनवान बन जाएगा।
हे गणेश जी, आप मेरे कर्ज का निवारण कीजिए।

Audios

1

1

Copyright © 2021 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |
Vedahdara - Personalize
Active Visitors:
2449151