Transcript

प्रणम्य शिरसा देवं गौरीपुत्रं विनायकम्।
भक्तावासं स्मरेन्नित्यमायु:कामार्थसिद्धये।
प्रथमं वक्रतुण्डं च एकदन्तं द्वितीयकम्।
तृतीयं कृष्णपिङ्गगाक्षं गजवक्त्रं चतुर्थकम्।
लम्बोदरं पञ्चमं च षष्ठं विकटमेव च।
सप्तमं विघ्नराजं च धूम्रवर्णं तथाष्टमम्।
नवमं भालचन्द्रं च दशमं तु विनायकम्।
एकादशं गणपतिं द्वादशं तु गजाननम्।
द्वादशैतानि नामानि त्रिसन्ध्यं य: पठेन्नर:।
न च विघ्नभयं तस्य सर्वसिद्धिकरं परम्।
विद्यार्थी लभते विद्यां धनार्थी लभते धनम्।
पुत्रार्थी लभते पुत्रान् मोक्षार्थी लभते गतिम्।
जपेद्गणपतिस्तोत्रं षड्भिर्मासै: फलं लभेत्।
संवत्सरेण सिद्धिं च लभते नात्र संशय:।
अष्टभ्यो ब्राह्मणेभ्यश्च लिखित्वा य: समर्पयेत्।
तस्य विद्या भवेत्सर्वा गणेशस्य प्रसादत:।


ప్రణమ్య శిరసా దేవం గౌరీపుత్రం వినాయకం।
భక్తావాసం స్మరేన్నిత్యమాయు:కామార్థసిద్ధయే।
ప్రథమం వక్రతుండం చ ఏకదంతం ద్వితీయకం।
తృతీయం కృష్ణపింగగాక్షం గజవక్త్రం చతుర్థకం।
లంబోదరం పంచమం చ షష్ఠం వికటమేవ చ।
సప్తమం విఘ్నరాజం చ ధూమ్రవర్ణం తథాష్టమం।
నవమం భాలచంద్రం చ దశమం తు వినాయకం।
ఏకాదశం గణపతిం ద్వాదశం తు గజాననం।
ద్వాదశైతాని నామాని త్రిసంధ్యం య: పఠేన్నర:।
న చ విఘ్నభయం తస్య సర్వసిద్ధికరం పరం।
విద్యార్థీ లభతే విద్యాం ధనార్థీ లభతే ధనం।
పుత్రార్థీ లభతే పుత్రాన్ మోక్షార్థీ లభతే గతిం।
జపేద్గణపతిస్తోత్రం షడ్భిర్మాసై: ఫలం లభేత్।
సంవత్సరేణ సిద్ధిం చ లభతే నాత్ర సంశయ:।
అష్టభ్యో బ్రాహ్మణేభ్యశ్చ లిఖిత్వా య: సమర్పయేత్।
తస్య విద్యా భవేత్సర్వా గణేశస్య ప్రసాదత:।


ப்ரணம்ய ஶிரஸா தே³வம்ʼ கௌ³ரீபுத்ரம்ʼ விநாயகம்।
ப⁴க்தாவாஸம்ʼ ஸ்மரேந்நித்யமாயு:காமார்த²ஸித்³த⁴யே।
ப்ரத²மம்ʼ வக்ரதுண்ட³ம்ʼ ச ஏகத³ந்தம்ʼ த்³விதீயகம்।
த்ருʼதீயம்ʼ க்ருʼஷ்ணபிங்க³கா³க்ஷம்ʼ க³ஜவக்த்ரம்ʼ சதுர்த²கம்।
லம்போ³த³ரம்ʼ பஞ்சமம்ʼ ச ஷஷ்ட²ம்ʼ விகடமேவ ச।
ஸப்தமம்ʼ விக்⁴னராஜம்ʼ ச தூ⁴ம்ரவர்ணம்ʼ ததா²ஷ்டமம்।
நவமம்ʼ பா⁴லசந்த்³ரம்ʼ ச த³ஶமம்ʼ து விநாயகம்।
ஏகாத³ஶம்ʼ க³ணபதிம்ʼ த்³வாத³ஶம்ʼ து க³ஜானனம்।
த்³வாத³ஶைதானி நாமானி த்ரிஸந்த்⁴யம்ʼ ய: படே²ன்னர:।
ந ச விக்⁴னப⁴யம்ʼ தஸ்ய ஸர்வஸித்³தி⁴கரம்ʼ பரம்।
வித்³யார்தீ² லப⁴தே வித்³யாம்ʼ த⁴னார்தீ² லப⁴தே த⁴னம்।
புத்ரார்தீ² லப⁴தே புத்ரான் மோக்ஷார்தீ² லப⁴தே க³திம்।
ஜபேத்³க³ணபதிஸ்தோத்ரம்ʼ ஷட்³பி⁴ர்மாஸை: ப²லம்ʼ லபே⁴த்।
ஸம்ʼவத்ஸரேண ஸித்³தி⁴ம்ʼ ச லப⁴தே நாத்ர ஸம்ʼஶய:।
அஷ்டப்⁴யோ ப்³ராஹ்மணேப்⁴யஶ்ச லிகி²த்வா ய: ஸமர்பயேத்।
தஸ்ய வித்³யா ப⁴வேத்ஸர்வா க³ணேஶஸ்ய ப்ரஸாத³த:।


ಪ್ರಣಮ್ಯ ಶಿರಸಾ ದೇವಂ ಗೌರೀಪುತ್ರಂ ವಿನಾಯಕಂ।
ಭಕ್ತಾವಾಸಂ ಸ್ಮರೇನ್ನಿತ್ಯಮಾಯು:ಕಾಮಾರ್ಥಸಿದ್ಧಯೇ।
ಪ್ರಥಮಂ ವಕ್ರತುಂಡಂ ಚ ಏಕದಂತಂ ದ್ವಿತೀಯಕಂ।
ತೃತೀಯಂ ಕೃಷ್ಣಪಿಂಗಗಾಕ್ಷಂ ಗಜವಕ್ತ್ರಂ ಚತುರ್ಥಕಂ।
ಲಂಬೋದರಂ ಪಂಚಮಂ ಚ ಷಷ್ಠಂ ವಿಕಟಮೇವ ಚ।
ಸಪ್ತಮಂ ವಿಘ್ನರಾಜಂ ಚ ಧೂಮ್ರವರ್ಣಂ ತಥಾಷ್ಟಮಂ।
ನವಮಂ ಭಾಲಚಂದ್ರಂ ಚ ದಶಮಂ ತು ವಿನಾಯಕಂ।
ಏಕಾದಶಂ ಗಣಪತಿಂ ದ್ವಾದಶಂ ತು ಗಜಾನನಂ।
ದ್ವಾದಶೈತಾನಿ ನಾಮಾನಿ ತ್ರಿಸಂಧ್ಯಂ ಯ: ಪಠೇನ್ನರ:।
ನ ಚ ವಿಘ್ನಭಯಂ ತಸ್ಯ ಸರ್ವಸಿದ್ಧಿಕರಂ ಪರಂ।
ವಿದ್ಯಾರ್ಥೀ ಲಭತೇ ವಿದ್ಯಾಂ ಧನಾರ್ಥೀ ಲಭತೇ ಧನಂ।
ಪುತ್ರಾರ್ಥೀ ಲಭತೇ ಪುತ್ರಾನ್ ಮೋಕ್ಷಾರ್ಥೀ ಲಭತೇ ಗತಿಂ।
ಜಪೇದ್ಗಣಪತಿಸ್ತೋತ್ರಂ ಷಡ್ಭಿರ್ಮಾಸೈ: ಫಲಂ ಲಭೇತ್।
ಸಂವತ್ಸರೇಣ ಸಿದ್ಧಿಂ ಚ ಲಭತೇ ನಾತ್ರ ಸಂಶಯ:।
ಅಷ್ಟಭ್ಯೋ ಬ್ರಾಹ್ಮಣೇಭ್ಯಶ್ಚ ಲಿಖಿತ್ವಾ ಯ: ಸಮರ್ಪಯೇತ್।
ತಸ್ಯ ವಿದ್ಯಾ ಭವೇತ್ಸರ್ವಾ ಗಣೇಶಸ್ಯ ಪ್ರಸಾದತ:।



പ്രണമ്യ ശിരസാ ദേവം ഗൗരീപുത്രം വിനായകം।
ഭക്താവാസം സ്മരേന്നിത്യമായു:കാമാർഥസിദ്ധയേ।
പ്രഥമം വക്രതുണ്ഡം ച ഏകദന്തം ദ്വിതീയകം।
തൃതീയം കൃഷ്ണപിംഗഗാക്ഷം ഗജവക്ത്രം ചതുർഥകം।
ലംബോദരം പഞ്ചമം ച ഷഷ്ഠം വികടമേവ ച।
സപ്തമം വിഘ്നരാജം ച ധൂമ്രവർണം തഥാഷ്ടമം।
നവമം ഭാലചന്ദ്രം ച ദശമം തു വിനായകം।
ഏകാദശം ഗണപതിം ദ്വാദശം തു ഗജാനനം।
ദ്വാദശൈതാനി നാമാനി ത്രിസന്ധ്യം യ: പഠേന്നര:।
ന ച വിഘ്നഭയം തസ്യ സർവസിദ്ധികരം പരം।
വിദ്യാർഥീ ലഭതേ വിദ്യാം ധനാർഥീ ലഭതേ ധനം।
പുത്രാർഥീ ലഭതേ പുത്രാൻ മോക്ഷാർഥീ ലഭതേ ഗതിം।
ജപേദ്ഗണപതിസ്തോത്രം ഷഡ്ഭിർമാസൈ: ഫലം ലഭേത്।
സംവത്സരേണ സിദ്ധിം ച ലഭതേ നാത്ര സംശയ:।
അഷ്ടഭ്യോ ബ്രാഹ്മണേഭ്യശ്ച ലിഖിത്വാ യ: സമർപയേത്।
തസ്യ വിദ്യാ ഭവേത്സർവാ ഗണേശസ്യ പ്രസാദത:।


Pranamya shirasaa devam gaureeputram vinaayakam.
Bhaktaavaasam smarennityamaayu:kaamaarthasiddhaye.
Prathamam vakratund'am cha ekadantam dviteeyakam.
Tri'teeyam kri'shnapingagaaksham gajavaktram chaturthakam.
Lambodaram panchamam cha shasht'ham vikat'ameva cha.
Saptamam vighnaraajam cha dhoomravarnam tathaasht'amam.
Navamam bhaalachandram cha dashamam tu vinaayakam.
Ekaadasham ganapatim dvaadasham tu gajaananam.
Dvaadashaitaani naamaani trisandhyam ya: pat'hennara:.
Na cha vighnabhayam tasya sarvasiddhikaram param.
Vidyaarthee labhate vidyaam dhanaarthee labhate dhanam.
Putraarthee labhate putraan mokshaarthee labhate gatim.
Japedganapatistotram shad'bhirmaasai: phalam labhet.
Samvatsarena siddhim cha labhate naatra samshaya:.
Asht'abhyo braahmanebhyashcha likhitvaa ya: samarpayet.
Tasya vidyaa bhavetsarvaa ganeshasya prasaadata:.

Tags - pranamya shirasa,pranamya shirasa devam stotra,pranamya shirasa devam sloka,സങ്കടനാശന ഗണേശ സ്തോത്രം,సంకటనాశన గణేశ స్తోత్రం,ಸಂಕಟನಾಶನ ಗಣೇಶ ಸ್ತೋತ್ರ,ஸங்கடனாசன கணேச ஸ்தோதி்திரம்

Glossary

Meaning in English -

If you want long life and want to achieve desires, you should pray to Lord Ganesha.

He has twelve special names-

Vakratunda- Having a curved Head.
Ekadanta- Having only one tusk.
Krishnapingaksha- Having dark brown eyes.
Gajavaktra- Having the head of an elephant.
Lambodara- Having a large belly.
Vikata- Having a huge body.
Vighnaraja- Lord of Obstacles.
Dhumravarna- Having color like smoke.
Bhalachandra- Having moon upon his forehead.
Vinayaka- Leader of everyone.
Ganapati- Leader of Groups.
Gajanana- Having the face of an elephant.

If you chant these names in the three sandhyas, you will not face obstacles.
You will get everything.
If you want knowledge, you will get knowledge.
If you want wealth, you will get wealth.
If you want progeny, you will get progeny.
If you want to attain moksha, you will attain moksha.

If you chant this stotra every day for six months, you will get its benefits.
If you chant for one year, you will get siddhi in this stotra.
If you write this down and give it to eight good persons, you will become a scholar.

 

हिन्दी में भावार्थ -

आयु में वृद्धि और मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए भगवान गणेश जी को प्रणाम और स्मरण करें।
उन के द्वादश(१२) विशेष नाम हैं -
वक्रतुण्ड- टेढे मुख वाले।
एकदन्त- एक दांत वाले।
कृष्णपिङ्गाक्ष- गहरे भूरे रंग के आखों वाले।
गजवक्त्र- हाथी के मुख वाले।
लम्बोदर- बडे पेट वाले।
विकट- विशाल स्वरूप वाले।
विघ्नराज- विघ्नों पर राज करने वाले।
धूम्रवर्ण- धुएं के समान शरीर वर्ण वाले।
भालचन्द्र- माथे पर चंद्र वाले।
विनायक- सब के विशिष्ट नायक।
गणपति- गणों के अधिपति।
गजानन- गज के मुख वाले।

अगर आप इन बारह नामों को तीनों संध्याओं में पढेंगे तो आप के जीवन में विघ्न नहीं होंगे।
आपको सफलता मिलेगी।
अगर आप विद्या चाहते हैं तो आप को विद्या मिल जाएगी।
अगर आप धन चाहते हैं तो आप को धन मिल जाएगा।
अगर आप संतान चाहते हैं तो आप को संतान मिल जाएगी।
अगर आप मोक्ष चाहते हैं तो आप को मोक्ष मिल जाएगा।

इस गणेश स्तोत्र को छः महिने तक प्रतिदिन जाप करने से इस का फल मिलेगा।
एक वर्ष तक इस का जाप करेंगे तो इस की सिद्धि हो जाएगी।
अगर आप इस स्तोत्र को लिखकर आठ सज्जनों को देंगे तो आप सभी विद्याओं में निपुण हो जाएंगे।

Rendered By - Gurumurti Bhat

Audios

0

0

Copyright © 2021 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |
Vedahdara - Personalize
Active Visitors:
2297762