महामृत्युंजय मंत्र का अर्थ

महामृत्युंजय मंत्र का अर्थ

हम उन तीन नेत्रोंवाले शिव जी की पूजा करते हैं जिनकी कीर्ति का सुगन्ध हर जगह फैला हुआ है ओर जो हमारा पोषण करते हैं । वे हमें अपमृत्यु और अकाल मृत्यु से उसी प्रकार छुडायें जैसे एक कद्दू अपनी लता के बंधन से सहजता से छूटता है । वे हमें अमरत्व से अलग न होने दें ।

मृत्यु से छुडाने का अर्थ जन्म-मरण चक्र से मुक्ति दिलाना भी होता है।

 

त्र्यंबकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् । उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् ॥

21.3K

Comments

4nuna

संजीवनी मंत्र क्या है?

ॐ जूँ सः ईँ सौः हँसः सञ्जीवनि सञ्जीवनि मम हृदयग्रन्थिस्थँ प्राणँ कुरु कुरु सोहँ सौः ईँ सः जूँ ॐ ॐ जूँ सः अमृठोँ नमश्शिवाय ।

महामृत्युंजय मंत्र का बीज मंत्र क्या है?

ॐ जूँ सः - यह महामृत्युंजय मंत्र का बीज मंत्र है।

Quiz

इनमें शिव मंत्र कौनसा है?
Copyright © 2024 | Vedadhara | All Rights Reserved. | Designed & Developed by Claps and Whistles
| | | | |